Saturday, July 20, 2024
Homeराजनीतिअभी लोकसभा चुनाव हुए तो BJP गठबंधन को 325 सीटें, 111 पर सिमट सकती...

अभी लोकसभा चुनाव हुए तो BJP गठबंधन को 325 सीटें, 111 पर सिमट सकती है कॉन्ग्रेस: टाइम्स नाउ नवभारत-ETG का सर्वे, बंगाल-बिहार में भी भाजपा का दबदबा

बिहार में भी भाजपा गठबंधन 22-24 सीटों पर जीत पाती हुई दिख रही है, वहीं राजद-जदयू-कॉन्ग्रेस महागठबंधन 16 से 18 सीटें जा सकती हैं।

अगर अभी लोकसभा चुनाव होते हैं तो कौन जनता की पहली पसंद बनेगा – प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी या फिर राहुल गाँधी? लोकसभा चुनाव होने में अभी 1 साल से भी कम समय बचा है। ऐसे में ‘टाइम्स नाउ नवभारत’ ने एक सर्वे किया है, जिसमें जनता की पसंद सामने आई है। जहाँ एक तरफ भाजपा पूरी ताकत लगा कर लगातार तीसरी बार सत्ता में आने के लिए बेताब है, वहीं दूसरी तरफ विपक्ष भी गठबंधन बना कर मैदान में उतरने वाला है। पटना के बाद अब बेंगलुरु में उनकी बैठक होने वाली है।

उधर राजग भी अपने विस्तार में जुटा हुआ है। टाइम्स नाउ नवभारत-ETG के सर्वे में सामने आया है कि 285-325 सीटों के साथ भाजपा गठबंधन फिर से सत्ता में वापसी कर सकता है। वहीं दूसरी तरफ कॉन्ग्रेस पार्टी 150 सीटों के भीतर सिमट सकती है। अगर अभी चुनाव होते हैं तो पिछली बार के मुकाबले भाजपा की सीटें तो घटेंगी, लेकिन उसे पूर्ण बहुमत प्राप्त होगा। मध्य प्रदेश में भाजपा को 22 से 24 सीटें मिल सकती हैं। राजस्थान में भी NDA 20-22 सीटों पर रहेगी।

वहीं जिस राजस्थान में कॉन्ग्रेस पार्टी सत्ता में है, वहाँ पर उसे मात्र 3 सीटें मिलती हुई दिख रही हैं। पश्चिम बंगाल में भाजपा ने पिछली बार जो दबदबा बनाया था, वो उससे आगे बढ़ती हुई दिख रही है। यहाँ भाजपा को 18-20 सीटें मिलती हुई दिख रही हैं, वहीं वहाँ की सत्ताधारी पार्टी तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC) की सीटें इसी के आसपास होंगी। बिहार में भी भाजपा गठबंधन 22-24 सीटों पर जीत पाती हुई दिख रही है, वहीं राजद-जदयू-कॉन्ग्रेस महागठबंधन 16 से 18 सीटें जा सकती हैं।

पश्चिम बंगाल में TMC के खाते में 20-22 सीटें जा सकती हैं। कॉन्ग्रेस पार्टी को पूरे भारत में 111-149 सीटें मिल सकती हैं। TMC भारत में तीसरे नंबर की पार्टी बन कर उभर सकती है। YSRCP 24-25 सीटों के साथ तीसरी सबसे बड़ी पार्टी बन कर उभर सकती है, वहीं ओडिशा की सत्ताधारी पार्टी BJD के खाते में 12-14 सीटें जाएँगी। 1.35 लाख के सैम्पल में से सर्वे किया गया। 40% लोगों की प्रतिक्रिया डोर टू डोर जाकर ली गई, वहीं 60% से टेलीफोन पर बात की गई।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -