Saturday, May 25, 2024
Homeराजनीतिकॉन्ग्रेस से सपा में गए इमरान मसूद को अखिलेश यादव ने दिखाया ठेंगा, नहीं...

कॉन्ग्रेस से सपा में गए इमरान मसूद को अखिलेश यादव ने दिखाया ठेंगा, नहीं दिया टिकट: अब BSP में जाने की कर रहे हैं तैयारी

समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव द्वारा टिकट न दिए जाने से हैरान इमरान मसूद कैंप अब बहुजन समाज पार्टी (BSP) की तरफ रुख कर रहा है।

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के विधानसभा चुनावों से पहले कॉन्ग्रेस के पूर्व नेता इमरान मसूद (Imran Masood) मुश्किलों में घिर गए हैं। समाजवादी से सहारनपुर जिले की बेहट सीट से टिकट की तलाश कर रहे इमरान मसूद को अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने ठेंगा दिखा दिया है। सपा प्रमुख के इस फैसले से इमरान मसूद पूरी तरह से शॉक्ड हैं। उनकी स्थिति ‘न घर के न घाट के’ वाली हो गई है। अब विवादित नेता दूसरी मंजिल की तलाश में है।

रिपोर्ट के मुताबिक, समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव द्वारा टिकट न दिए जाने से हैरान मसूद कैंप अब बहुजन समाज पार्टी (BSP) की तरफ रुख कर रहा है। मीडिया सवालों के जबाव में मसूद ने कहा, “मैं अभी कुछ भी नहीं बोलूँगा। मैं अभी शॉक्ड हूँ। मैं कुछ भी बोलने की स्थिति में नहीं हूँ।”

गौरतलब है कि विवादित छवि वाले इमरान मसूद राहुल गाँधी (Rahul Gandhi) के करीबी माना जाता है। हाल ही में मसूद ने कहा था कि अगर उत्तर प्रदेश में बीजेपी को हराना है तो समाजवादी पार्टी के साथ आना ही होगा। उत्तर प्रदेश में बीजेपी को टक्कर दे सकती है। कॉन्ग्रेस से इस्तीफा देने के बाद मसूद ने कहा था कि पॉलिटिकल स्थिति कुछ ऐसी बन गई है कि ये फैसला लेना ही पड़ेगा।

हाल ही में इमरान मसूद ने 300 समर्थकों के साथ एक मीटिंग बुलाई थी, जिसके बाद 10 जनवरी 2022 को सहारनपुर पुलिस ने उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी। जिले के एसपी सिटी राजेश कुमार ने कहा था कि पूरे प्रदेश में आचार संहिता लागू है। लेकिन, इमरान मसूद ने इसके लिए इजाजत तक नहीं माँगी थी। उन्होंने कोरोना की गाइडलाइंस का भी पालन नहीं किया। इस मामले में इमरान मसूद समेत 10 नामजद किए गए थे और 300 अज्ञातों के खिलाफ केस दर्ज किया गया था।

यहीं नहीं इमरान मसूद वही नेता हैं जो साल 2014 में जब मसूद सहारनपुर से कॉन्ग्रेस का उम्मीदवार थे तब उसने एक सार्वजनिक रैली में घोषणा की थी कि वह ‘नरेंद्र मोदी के टुकड़े-टुकड़े कर देगा’।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

SFI के गुंडों के बीच अवैध संबंध, ड्रग्स बिजनेस… जिस महिला प्रिंसिपल ने उठाई आवाज, केरल सरकार ने उनका पैसा-पोस्ट सब छीना, हाई कोर्ट...

कागरगोड कॉलेज की प्रिंसिपल डॉ रेमा एम ने कहा था कि उन्होंने छात्र-छात्राओं को शारीरिक संबंध बनाते देखा है और वो कैंपस में ड्रग्स भी इस्तेमाल करते हैं।

18 साल से ईसाई मजहब का प्रचार कर रहा था पादरी, अब हिन्दू धर्म में की घर-वापसी: सतानंद महाराज ने नक्सल बेल्ट रहे इलाके...

सतानंद महाराज ने साजिश का खुलासा करते हुए बताया, "हनुमान जी की मोम की मूर्ति बनाई जाती है, उन्हें धूप में रख कर पिघला दिया जाता है और बच्चों को कहा जाता है कि जब ये खुद को नहीं बचा सके तो तुम्हें क्या बचाएँगे।""

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -