Thursday, June 13, 2024
Homeराजनीतिजुम्मे की नमाज के लिए राज्य सभा से खत्म हुआ 30 मिनट का समय,...

जुम्मे की नमाज के लिए राज्य सभा से खत्म हुआ 30 मिनट का समय, चल रहा था 60-70 साल से: पूरे संसद में एक जैसा नियम

डीएमके के सांसदों ने राज्यसभा में मुस्लिमों के लिए जुम्मे की नमाज के ब्रेक का मुद्दा उठाया। ये अलग बात है कि उन्हें उप राष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने एक मिनट में सही राह दिखा दी और बिना किसी हंगामे के राज्यसभा की कार्यवाही को भी जारी रखा।

तमिलनाडु की सत्ताधारी पार्टी डीएमके के सांसदों ने 8 दिसंबर 2023 को राज्यसभा में मुस्लिम सांसदों के लिए जुम्मे की नमाज के ब्रेक का मुद्दा उठाया। इस पर उप-राष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने बताया कि 60-70 साल से चले आ रहे नियम में बदलाव हो चुका है। लोकसभा की तरह अब राज्यसभा में ये ब्रेक नहीं दिया जाएगा।

ये पूरा मामला 8 दिसंबर 2023 का है। जब राज्यसभा में जीरो ऑवर चल रहा था और सांसद अपने सवालों के जवाब पूछ रहे थे। तभी डीएमके के सांसद तिरुची शिवा ने हस्तक्षेप किया। उप राष्ट्रपति जयदीप धनखड़, जो राज्यसभा के सभापति भी हैं, वो सदन में पीठाधीन थे। तिरुची शिवा को सभापति ने बोलने का अवसर दिया, तो उन्होंने शुक्रवार के दिन राज्यसभा के कामकाज की समयसीमा को लेकर सवाल पूछा।

डीएमके सांसद तिरुची शिवा ने कहा, “सामान्य तौर पर शुक्रवार के दिन सभा का कामकाज लंच ब्रेक के बाद 2.30 बजे शुरू होता है, लेकिन आज के संशोधित कार्यक्रम के अनुसार ये 2 बजे से ही है। इस बारे में निर्णय कब लिया गया? इस बारे में सदन के सदस्य नहीं जानते, ये बदलाव क्यों हुआ?”

इस सवाल के जवाब में सभापति ने कहा, “सम्माननीय सदस्यगण, ये बदलाव आज से नहीं है। ये बदलाव पहले ही मेरे द्वारा किया जा चुका है, इसकी वजह भी बताई जा चुकी है। लोकसभा में कार्यवाही 2 बजे से होती है। लोकसभा और राज्यसभा दोनों ही संसद का हिस्सा हैं। दोनों के ही काम के समय में समानता हो, इसलिए मैंने पहले ही इस बारे में नियम बना दिए थे। ये कोई पहली बार नहीं है।”

इसके बाद सभापति ने आप सांसद विक्रमजीत सिंह साहनी को अपना मुद्दा सदन के पटल पर रखने को कहा, जैसे ही वो बोलने के लिए खड़े हुए, तभी डीएमके के मुस्लिम राज्यसभा सांसद एम. मोहम्मद अब्दुल्ला ने हंगामा मचाने की कोशिश की। हालाँकि उप राष्ट्रपति ने सभी सदस्यों को शांत कर दिया और मोहम्मद अब्दुल्ला को बोलने के लिए कहा।

मोहम्मद अब्दुल्ला ने कहा, ‘ये पिछले 60-70 सालों का रिवाज (शुक्रवार को 2.30 बजे से सदन की कार्यवाही) है’। इसके बाद हंगामे की स्थिति बनती है, लेकिन उपराष्ट्रपति सबको शांत करा देते हैं, और फिर अब्दुल्ला को बोलने के लिए कहते हैं, जिसके बाद अब्दुल्ला कहते हैं, “सर, 2.30 बजे का समय पहले से निर्धारित है, मुस्लिम सदस्यों के लिए उनके जुम्मा (शुक्रवार) के लिए। यही परंपरा है।” इसके बाद सभापति ने उन्हें रोका और कहा कि वो समझ गए हैं।

सभापति ने कहा, “मैं आपका मतलब समझ गया। आप सभी लोग शांत रहें। माननीय सदस्यगण, लोकसभा और राज्यसभा दोनों ही सदन के सदस्य समाज के सभी वर्गों से आते हैं। लोकसभा 2.00 बजे दोपहर में बैठती है, जिसमें सभी वर्गों के सदस्य हैं। मैंने उसी तर्ज पर पिछले साल ही इस बारे में नियम बना दिए थे, जिसमें लंच ब्रेक के बाद सदन की कार्यवाही 2.00 बजे से शुरू करनी थी। ठीक लोकसभा की तर्ज पर।” इसके बाद उन्होंने विक्रमजीत सिंह साहनी को बोलने के लिए समय दे दिया और डीएमके-इंडी अलायंस के प्रोपेगेंडा की हवा निकालते हुए सदन की कार्यवाही सुचारू रुप से जारी रखी।

देखें सदन की कार्यवाही का वीडियो, जिसमें शुरुआती 20 सेकंड के बाद ही ये मुद्दा उठा है।

उपराष्ट्रपति ने कम ही शब्दों में सभी को समझा दिया कि ये संसद का सदन है। दोनों सदनों की कार्यवाही का समय एक बराबर है। किसी को लोकसभा में समस्या नहीं है, तो यहाँ अब कैसे होने वाली है? ये नियम भी आज का नहीं बना, बल्कि पिछले साल का ही बना है। अभी तक किसी को कोई समस्या नहीं हुई।

खास बात ये है कि राज्यसभा में ये मुद्दा उठा कौन रहा है? डीएमके के ही दोनों सांसद, जिनकी पार्टी खुलेआम सनातन का विरोध करती है और वो इंडी अलायंस का प्रमुख सहयोगी दल भी है। ऐसे में उप राष्ट्रपति ने एक ऐसे मामले की हवा तुरंत ही निकाल दी, जिसे इंडी अलायंस बड़ा मुद्दा बनाने की कोशिश कर रही थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लड़की हिंदू, सहेली मुस्लिम… कॉलेज में कहा, ‘इस्लाम सबसे अच्छा, छोड़ दो सनातन, अमीर कश्मीरी से कराऊँगी निकाह’: देहरादून के लॉ कॉलेज में The...

थर्ड ईयर की हिंदू लड़की पर 'इस्लाम' का बखान कर धर्म परिवर्तन के लिए प्रेरित किया गया और न मानने पर उसकी तस्वीरों को सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी दी गई।

जोशीमठ को मिली पौराणिक ‘ज्योतिर्मठ’ पहचान, कोश्याकुटोली बना श्री कैंची धाम : केंद्र की मंजूरी के बाद उत्तराखंड सरकार ने बदले 2 जगहों के...

ज्तोतिर्मठ आदि गुरु शंकराचार्य की तपोस्‍थली रही है। माना जाता है कि वो यहाँ आठवीं शताब्दी में आए थे और अमर कल्‍पवृक्ष के नीचे तपस्‍या के बाद उन्‍हें दिव्‍य ज्ञान ज्‍योति की प्राप्ति हुई थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -