Monday, July 15, 2024
HomeराजनीतिCM योगी के नेतृत्व में 249 सीटों के साथ BJP की फिर बनेगी सरकार,...

CM योगी के नेतृत्व में 249 सीटों के साथ BJP की फिर बनेगी सरकार, 1985 के बाद पहली बार होगा ऐसा: सर्वे में खुलासा- संकट में कॉन्ग्रेस का अस्तित्व

सर्वे में शामिल लोगों ने सपा को इस चुनाव में अनुमानित 137 से 152 सीटें दी हैं। इसके अलावा, मायावती (Mayavati) की बहुजन समाज पार्टी (BSP) बीते 3 दशक के सबसे कम सीटों पर आकर अटकती दिख रही है। सर्वे के मुताबिक, इस चुनाव में BSP को 9-14 सीटें मिलेंगी।

उत्तर प्रदेश (Uttar pradesh) में विधानसभा चुनाव (Uttar pradesh assembly polls) बेहद नजदीक है। इसको लेकर एजेंसियाँ और न्यूज चैनल सर्वे के जरिए जनता का मूड जानने की कोशिश कर रहे हैं। इसी क्रम में ‘टाइम्स नाऊ नवभारत’ के लिए VETO द्वारा किए गए सर्वे में सामने आया है कि आगामी विधानसभा चुनावों में उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) के नेतृत्व में बीजेपी आसानी से सत्ता में वापसी करने जा रही है। सर्वे में लोगों ने योगी सरकार की कानून-व्यवस्था की स्थिति को सराहा है।

इसके अलावा, काशी और मथुरा मंदिर के मामले में जिस तरह से योगी सरकार ने स्टैंड लिया है, उसका भाजपा को सियासी पिच पर फायदा होता दिख रहा है। सर्वे के मुताबिक, आगामी विधानसभा चुनाव में बीजेपी के नेतृत्व वाले गठबंधन को 403 विधानसभा सीटों में से 230-249 सीटें मिल सकती हैं। वहीं, सर्वे में दूसरे स्थान पर समाजवादी पार्टी (Samajwadi party) को बताया गया है।

सर्वे में शामिल लोगों ने सपा को इस चुनाव में अनुमानित 137 से 152 सीटें दी हैं। इसके अलावा, मायावती (Mayavati) की बहुजन समाज पार्टी (BSP) बीते 3 दशक के सबसे कम सीटों पर आकर अटकती दिख रही है। सर्वे के मुताबिक, इस चुनाव में BSP को 9-14 सीटें मिलती दिख रही हैं। पिछले विधानसभा चुनावों में बसपा को 19 सीटें मिली थीं।

अगर देश की सबसे पुरानी पार्टी कॉन्ग्रेस (Congress) की बात करें तो उसकी स्थिति और भी बदतर होती दिख रही है। सर्वे के अनुसार, उत्तर प्रदेश में कॉन्ग्रेस 4-7 सीटों के साथ अपना अस्तित्व बचाने के लिए संघर्ष करती दिख रही है। बता दें कि 2017 के विधानसभा चुनावों में कॉन्ग्रेस को सात सीटों पर संतोष करना पड़ा था।

मत प्रतिशत की बात करें तो पिछली बार की तुलना में प्रदेश में BJP गठबंधन का वोटिंग प्रतिशत 2017 के 38.6 फीसदी के मुकाबले 3 फीसदी घटता बताया जा रहा है। दूसरी ओर समाजवादी पार्टी गठबंधन का मत प्रतिशत 34.4 फीसदी होता दिखाया गया है, जो कि पिछली बार की तुलना में कहीं अधिक है। सर्वे के मुताबिक, BSP का वोटिंग 2017 के 22.2 फीसदी से घटकर 14.1 प्रतिशत पर आने का अनुमान है।

उल्लेखनीय है कि 16 से 30 दिसंबर 2021 के बीच किए गए इस सर्वे में कुल 21,480 लोगों ने हिस्सा लिया। यहाँ यह भी स्पष्ट कर दें कि अगर भाजपा दोबारा सत्ता में आती है तो वर्ष 1985 के बाद ऐसा पहली बार होगा कि कोई पार्टी लगातार दूसरी बार उत्तर प्रदेश की सत्ता में वापसी करेगी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कॉन्ग्रेस के चुनावी चोचले ने KSRTC का भट्टा बिठाया, ₹295 करोड़ का घाटा: पहले महिलाओं के लिए बस सेवा फ्री, अब 15-20% किराया बढ़ाने...

कर्नाटक में फ्री बस सेवा देने का वादा करना कॉन्ग्रेस के लिए आसान था लेकिन इसे लागू करना कठिन। यही वजह है कि KSRTC करोड़ों के नुकसान में है।

‘बैकफुट पर आने की जरूरत नहीं, 2027 भी जीतेंगे’: लोकसभा चुनावों के बाद हुई पार्टी की पहली बैठक में CM योगी ने भरा जोश,...

लोकसभा चुनावों के बाद पहली बार भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की लखनऊ में आयोजित बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कार्यकर्ताओं में जोश भरा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -