Sunday, June 23, 2024
Homeराजनीतिजानें कौन हैं कॉन्ग्रेस सांसद धीरज साहू… जिनके ठिकानों पर IT छापे में मिला...

जानें कौन हैं कॉन्ग्रेस सांसद धीरज साहू… जिनके ठिकानों पर IT छापे में मिला नोटों का पहाड़, गिनते-गिनते मशीनें भी खराब, ₹300 करोड़ से ज्यादा बरामद

जानिए कौन हैं भारत जोड़ो यात्रा में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेने वाले कॉन्ग्रेस सांसद धीरज प्रसाद साहू जिनके ठिकानों से मिला है नोटों का पहाड़। गिनती के दौरान खराब हो गईं कई मशीनें। भाजपा ने की निंदा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वादा किया है कि वो जनता से लूटे गए पैसे का पाई-पाई वापस ले कर आएँगे।

मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में करारी हार के बाद साल 2024 लोकसभा चुनावों से पहले कॉन्ग्रेस पार्टी को उनके ही सांसद धीरज प्रसाद साहू ने और मुसीबत में डाल दिया है। आयकर विभाग ने 9 दिसंबर 2023 को झारखंड कॉन्ग्रेस के राज्यसभा सांसद धीरज प्रसाद साहू के ठिकानों पर छापेमारी के बाद सैकड़ों करोड़ रुपए कैश और अन्य बेहिसाब सम्पत्तियाँ बरामद की हैं। कॉन्ग्रेस सांसद की संपत्ति की जाँच अभी भी जारी है जिस से बरामदगी की राशि और बढ़ने की आशंका जताई जा रही है।

धीरज प्रसाद साहू के ठिकानों से 300 करोड़ रुपए से अधिक बेनामी सम्पत्ति बरामद होने का मामला चर्चा में आते ही कॉन्ग्रेस ने खुद को इस विवाद से अलग करने का प्रयास किया। कॉन्ग्रेस नेता जयराम रमेश ने अपने X हैंडल से कहा कि उनकी पार्टी का अपने ही सांसद के इन कारनामों से कोई लेना-देना नहीं है। बकौल जयराम रमेश सांसद साहू ही बता सकते हैं कि उन्होंने इतना पैसा कैसे और कहाँ से जुटाया। उन्होंने अपनी पार्टी के आरोपित सांसद से इस मामले में सफाई देने की भी अपेक्षा की।

अब तक मिली जानकारी के मुताबिक आयकर विभाग की छापेमारी से बरामद हुआ पैसा ओडिशा स्थित बुद्धा डिस्टिलरी प्राइवेट लिमिटेड और उसके जुड़े संगठनों से संबंधित है। कॉन्ग्रेस सांसद धीरज साहू का कोई बंटी नाम का सहयोगी भी प्रकाश में आया है जो ओडिशा के कई हिस्सों में शराब कारोबार को संभालता है। बंटी के घर से कैश भरे उन्नीस बैग मिले हैं। इस कैश को गिनने के लिए तीन दर्जन मशीनें लगाई गईं हैं जिसमें से कुछ गिनती के तौर खराब भी हो गईं थीं। इसी खराबी के चलते बरामदगी गिनने में अतिरिक्त समय लगा।

बोलांगीर में भारतीय स्टेट बैंक के क्षेत्रीय प्रबंधक भगत बेहेरिया ने कथित तौर पर बताया है कि बैंक को नोटों से भरे कुल 176 बैग मिले हैं। इन नोटों को गिनने के लिए 25 काउंटिंग मशीनों के साथ 50 कर्मचारी नियुक्त किए गए हैं।

कौन हैं धीरज प्रसाद साहू

धीरज प्रसाद साहू का परिवार पुराना कॉन्ग्रेसी है। राज्यसभा की वेबसाइट के मुताबिक धीरज साहू अपने परिवार को आजादी के समय से ही कॉन्ग्रेस से जुड़ा बताते हैं। उन्होंने यह भी बताया है कि वो साल 1978 में जेल भरो आंदोलन का हिस्सा भी थे। वो बुद्धा डिसिलरिज ग्रुप की कंपनी की बलदेव साहू इंफ्रा प्राइवेट लिमिटेड में पार्टनर हैं। धीरज प्रसाद ने अपने राजनैतिक कैरियर की शुरुआत साल 1977 में नेशनल लीडर यूनियन ऑफ इंडिया (चीनी कम्युनिस्ट पार्टी) के एक मेंबर के तौर पर शुरू किया था। धीरे-धीरे वो इस क्षेत्र में मंझते चले गए बाद में कॉन्ग्रेस ज्वाइन कर लिया।

धीरज ने झारखंड कॉन्ग्रेस के बड़ी बड़े दायित्व भी संभाले हैं। साल 2009 में धीरज साहू पहली बार उपचुनाव में राज्यसभा सदस्य चुने गए। इसी पद पर साल 2010 में फिर उनका चयन हुआ। मई 2018 में वह तीसरी बार झारखंड से कॉन्ग्रेस पार्टी से राज्यसभा गए। साल 2010 से अब तक सांसद साहू ने राज्यसभा में कुल 630 सवाल किए हैं। ये प्रश्न नवीनतम कवच सुरक्षा प्रणाली, धान की खरीद, राष्ट्रीय राजमार्ग, कोयला खनन, हवाई अड्डों के निजीकरण आदि मामलों से जुड़े हैं।

धीरज प्रसाद साहू ने नवंबर 2022 में राहुल गाँधी की भारत जोड़ो यात्रा में भी हिस्सा लिया था। अपने X हैंडल पर धीरज ने इस यात्रा में अपनी भागीदारी की कुछ तस्वीरें भी शेयर की थीं। इसके बाद फरवरी 2023 में साहू ने इसी यात्रा का एक वीडियो शेयर करते हुए इसे बेहद सफल और इसमें शामिल होना अपने लिए गर्व का विषय बताया था।

नकदी बरामद होने पर कॉन्ग्रेस पर भाजपा हमलावर

कॉन्ग्रेस सांसद के ठिकानों से बरामद हुई अकूत बेनामी सम्पत्ति के बाद भाजपा लगातार कॉन्ग्रेस की आलोचना कर रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने X हैंडल से दैनिक भास्कर की इस मैटर पर छपी रिपोर्ट का हवाला दिया है। उन्होंने कॉन्ग्रेस की कथनी और करनी में दिखे फर्क पर व्यंग किया और कहा कि वो उन पैसों को लौटाने की गारंटी लेते हैं जो जनता से लूटा गया है।

भाजपा नेता निशिकांत दुबे ने इस मामले की जाँच ED (प्रवर्तन निदेशालय) से करवाने की माँग की है। उन्होंने दावा किया है कि गहराई से जाँच होने पर कॉन्ग्रेस सांसद धीरज के पास अभी और अघोषित सम्पत्ति निकलेगी। निशिकांत ने राहुल गाँधी की यात्रा को ‘भ्रष्टाचारी जोड़ो यात्रा’ बताया। वहीं केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने भी मीडिया से कहा, ”मोहब्बत की दुकान पर भ्रष्टाचार का कारोबार चल रहा है।” उन्होंने इस मुद्दे पर कॉन्ग्रेस द्वारा सफाई की माँग की। स्मृति ईरानी ने इन नेताओं को गाँधी परिवार का ATM बताया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘चोर औरंगजेब’ की मौत को लेकर खौफ में हिंदू परिवार, व्यापार समेटकर कहीं और बसने की तैयारी: ऑपइंडिया को बताया अलीगढ़ में अब क्यों...

अलीगढ़ के कथित चोर औरंगज़ेब की मौत मामले में नामजद हिन्दू व्यापारियों के परिजन अब व्यापार समेट कर कहीं और बसने का मन बना रहे हैं।

NEET पेपरलीक का मास्टरमाइंड निकाल बिहार का लूटन मुखिया, डॉक्टर बेटा भी जेल में: पत्नी लड़ चुकी है विधानसभा चुनाव, नौकरी छोड़ खुद बना...

नीट पेपर लीक के मास्टरमाइंड में से एक संजीव उर्फ लूटन मुखिया। वह BPSC शिक्षक बहाली पेपर लीक कांड में जेल जा चुका है। बेटा भी जेल में है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -