Tuesday, August 9, 2022
Homeराजनीतिराजस्थान के छोटे से गाँव से लेकर उप-राष्ट्रपति तक, ऐसा रहा है जगदीप धनखड़...

राजस्थान के छोटे से गाँव से लेकर उप-राष्ट्रपति तक, ऐसा रहा है जगदीप धनखड़ का सफर: बंगाल हिंसा के बाद CM ममता से भिड़े, रहे हैं केंद्रीय मंत्री भी

1989 से 1991 तक वीपी सिंह और चंद्रशेखर की सरकार में वो केंद्रीय मंत्री के पद पर भी रहे। 1991 में जनता दल ने उनका टिकट काट दिया।

मोदी सरकार हमेशा अपने फैसलों से चौंकाती रही है। राष्ट्रपति पद के लिए द्रौपदी मुर्मू को अपना उम्मीदवार बनाने के बाद बीजेपी ने अब उप-राष्ट्रपति पद के लिए पश्चिम बंगाल के गवर्नर जगदीप धनखड़ को अपना उम्मीदवार बनाया है। दिल्ली में संसदीय बोर्ड की बैठक के बाद बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने उनके नाम का ऐलान किया।

कौन हैं जगदीप धनखड़

बीजेपी के जाट नेता जगदीप धनखड़ मूल रूप से राजस्थान के रहने वाले हैं। उनका जन्म झुंझुनू जिले के किठाना गाँव में 1951 में साधारण से किसान परिवार में हुआ था। राजस्थान यूनिवर्सिटी से लॉ करने के बाद उनका सेलेक्शन आईआईटी, एनडीए और आईएएस के लिए भी हुआ था। हालाँकि, उन्होंने इन सभी को ठोकर मारकर वकालत करना शुरू किया। धनखड़ राजस्थान बार काउंसिल के अध्यक्ष भी रहे।

इसके बाद वे जनता दल से जुड़ गए। वर्ष 1989 में वो झुंझुनू से चुनकर सासंद बने। यहीं नहीं, 1989 से 1991 तक वीपी सिंह और चंद्रशेखर की सरकार में वो केंद्रीय मंत्री के पद पर भी रहे। 1991 में जनता दल ने उनका टिकट काट दिया तो वो कॉन्ग्रेस में चले गए। 1993 में अजमेर के किशनगढ़ से चुनाव लड़कर वो विधायक बने। हालाँकि, 1003 में अचानक से उन्हें कॉन्ग्रेस से नफरत सी होने लगी और वो फिर से बीजेपी में शामिल हो गए।

सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकीलों में से एक धनखड़ को राजस्थान में जाट आरक्षण दिलवाने के लिए जाना जाता है। धनखड़ को 30 जुलाई साल 2019 में पश्चिम बंगाल का राज्यपाल नियुक्त किया गया था।

वो पश्चिम बंगाल के मौजूदा राज्यपाल हैं। राज्य में पिछले साल चुनाव बाद हुई हिंसा के विरोध में धनखड़ ने कई बार सीएम ममता बनर्जी की कड़ी आलोचना की थी। उन्होंने राज्य में हिंसा के लिए सीधे तौर पर ममता बनर्जी को जिम्मेदार ठहराया था। उन्होंने स्पष्ट कहा था, “मैं चुप रहने वाला गवर्नर नहीं हूँ।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

डोनाल्ड ट्रंप के ‘खूबसूरत घर’ पर FBI की रेड: पूर्व राष्ट्रपति बोले- मेरी तिजोरी में भी सेंध मारी, दावा- व्हाइट हाउस से लेकर चले...

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति ट्रंप को लेकर कहा जा रहा है कि उन्होंने राष्ट्रपति भवन छोड़ते समय कुछ दस्तावेज अपने पास रख लिए थे। एफबीआई रेड में उन्हें ही ढूँढ रही थी।

मंदिर से लौट रहे हिन्दू परिवार पर हमला, महिलाओं से छेड़छाड़: Pak में जहाँ हुई थी हिन्दू कारोबारी की हत्या, वहाँ अब भी नहीं...

पाकिस्तान के सिंध के संघर में एक हिंदू परिवार पर रविवार शाम को मीरपुर मथेलो पुलिस थाने के भीतर लगभग एक दर्जन लोगों ने हमला बोल दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
212,424FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe