Monday, June 24, 2024
Homeराजनीतिडेंटल सर्जन डॉ माणिक साहा को त्रिपुरा की कमान, मेडिकल कॉलेज में HOD भी...

डेंटल सर्जन डॉ माणिक साहा को त्रिपुरा की कमान, मेडिकल कॉलेज में HOD भी रहे हैं: विप्लब देब को संगठन में मिलेगी जगह

69 साल के माणिक साहा पेशे से एक डेंटल सर्जन हैं औऱ पहले वो कॉन्ग्रेस में थे औऱ बाद 2016 में कॉन्ग्रेस का हाथ छोड़ कर भाजपा का कमल पकड़ लिया था।

पूर्वोत्तर भारत के राज्य त्रिपुरा में 2023 में होने वाले चुनावों से पहले भाजपा ने बड़ा फेरबदल करते हुए सीएम रहे बिप्लब देब से इस्तीफा ले लिया। इसके साथ ही पार्टी ने राज्य के नए मुख्यमंत्री के तौर पर राज्य में पार्टी के अध्यक्ष डॉ माणिक साहा को चुना। विधायक दल की बैठक में उनके नाम का चयन किया गया।

हालाँकि, इस दौरान कई विधायकों को माणिक साहा के नाम को आगे किया जाना तनिक भी पसंद नहीं आया और उन्होंने इस पर हंगामा भी किया। वर्तमान में राज्यसभा सदस्य और त्रिपुरा के अध्यक्ष माणिक साहा रविवार को अपने पद की शपथ लेंगे। इस बीच खबर ये है कि बिप्लब देब को पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष बनाया जा सकता है। इससे पहले डिप्टी सीएम जिष्णु देव शर्मा का नाम भी सीएम के तौर पर सामने आया था। हालाँकि, अंतत: साहा के नाम को ही चुना गया।

कौन हैं माणिक साहा

गौरतलब है कि 69 साल के माणिक साहा पेशे से एक डेंटल सर्जन हैं औऱ पहले वो कॉन्ग्रेस में थे औऱ बाद 2016 में कॉन्ग्रेस का हाथ छोड़ कर भाजपा का कमल पकड़ लिया था। साल 2020 में पार्टी ने उनपर भरोसा जताते हुए उन्हें त्रिपुरा का प्रदेश अध्यक्ष बना दिया था। इसके अलावा वो त्रिपुरा मेडिकल कॉलेज में पढ़ाते भी थे। वो त्रिपुरा में अगरतला मेडिकल कॉलेज और बीआर अंबेडकर मेमोरियल टीचिंग हॉस्पिटल के एचओडी और प्रोफेसर भी रहे। इसके अलावा वो त्रिपुरा क्रिकेट एसोसिएशन के भी अध्यक्ष हैं।

साफ सुथरी छवि के नेता हैं साहा

इसके अलावा माणिक साहा की जनता के बीच एक साफ-सुथरी छवि है। कॉन्ग्रेस से अलग होने के बावजूद उन्हें पार्टी के रैंकों में व्यापक तौर पर स्वीकृति मिली है। वह अपने बूथ प्रबंधन कौशल के लिए जाने जाते हैं। बहरहाल नए सीएम के तौर चुने जाने के बाद पूर्व सीएम बिप्लब देब ने उन्हें बधाई भी दी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार में EOU ने राख से खोजे NEET के सवाल, परीक्षा से पहले ही मोबाइल पर आ गया था उत्तर: पटना के एक स्कूल...

पटना के रामकृष्ण नगर थाना क्षेत्र स्थित नंदलाल छपरा स्थित लर्न बॉयज हॉस्टल एन्ड प्ले स्कूल में आंशिक रूप से जले हुए कागज़ात भी मिले हैं।

14 साल की लड़की से 9 घुसपैठियों ने रेप किया, लेकिन सजा 20 साल की उस लड़की को मिली जिसने बलात्कारियों को ‘सुअर’ बताया:...

जर्मनी में 14 साल की लड़की का रेप करने वाले बलात्कारी सजा से बच गए जबकि उनकी आलोचना करने वाले एक लड़की को जेल भेज दिया गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -