Saturday, July 20, 2024
Homeराजनीति'अच्छा! तो आपने मुझे हराया है': विधानसभा में नवीन पटनायक को देखते ही हाथ...

‘अच्छा! तो आपने मुझे हराया है’: विधानसभा में नवीन पटनायक को देखते ही हाथ जोड़ कर खड़े हो गए उन्हें हराने वाले BJP के लक्ष्मण बाग, वीडियो में दिखी लोकतंत्र की खूबसूरती

विधानसभा में जैसे ही नवीन पटनायक घुसे, लक्ष्मण बाग अपनी सीट से खड़े हो गए और उन्होंने अपना परिचय दिया। इसके बाद नवीन पटनायक ने भी उन्हें बधाई दी।

ओडिशा विधानसभा में मंगलवार (18 जून, 2024) को लोकतंत्र का जश्न मनाने वाला नज़ारा देखने को मिला। BJD नेता और पूर्व मुख्यमंत्री नवीन पटनायक उन्हें विधानसभा चुनाव हराने वाले भाजपा के लक्ष्मण बाग से न सिर्फ मिले, बल्कि रुक आकर उन्हें एक तरह से शाबाशी भी दी। नवीन पटनायक ने कहा, “अच्छा! तो आपने मुझे हराया है?” बता दें कि बलांगिर जिले में स्थित कांटाबांजी विधानसभा क्षेत्र से नवीन पटनायक इस बार चुनाव है गए।

नवीन पटनायक पिछले 24 वर्षों से भी अधिक समय से ओडिशा के मुख्यमंत्री थे, ऐसे में उन्हें विधायक का चुनाव हरा देना बड़ी बात है। लक्ष्मण बाग को जहाँ 90,876 वोट मिले, वही नवीन पटनायक 74,532 वोट पाकर उनसे पीछे रह गए। इस तरह 16,344 (8%) वोटों के अंतर से चुनाव हार गए। कुल वोटों का उन्हें 36.56% ही प्राप्त हो सका, जबकि लक्ष्मण बाग 44.57% वोट पाकर पहले स्थान पर रहे। हालाँकि, गंजाम जिले के हिन्जिली विधानसभा क्षेत्र से नवीन पटनायक लगातार छठी बार चुनाव जीत गए।

अब जब नव-निर्वाचित विधायकों का शपथग्रहण समारोह आयोजित हुआ, तो उसमें लक्ष्मण बाग व नवीन पटनायक का आमना-सामना हुआ। विधानसभा में जैसे ही नवीन पटनायक घुसे, लक्ष्मण बाग अपनी सीट से खड़े हो गए और उन्होंने अपना परिचय दिया। इसके बाद नवीन पटनायक ने भी उन्हें बधाई दी। लक्ष्मण बाग ने हाथ जोड़ कर वयोवृद्ध नेता का अभिवादन भी किया। ओडिशा में 78 सीटें जीत कर भाजपा ने पहली बार पूर्ण बहुमत प्राप्त किया, जबकि 147 सदस्यीय विधानसभा में BJD 51 पर ही रुक गई।

वहीं पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा के 23 विधायक जीते थे, और बीजद ने 112 सीटें जीते हुए बड़ी बहुमत के साथ सरकार बनाया था। लक्ष्मण बाग 2014 और 2019 में इसी सीट से हार गए थे। पिछली बार उनकी हार महज 128 वोटों से ही हुई थी। यादव समाज ने भी उनका समर्थन किया। मुसीबत में उन्होंने प्रवासी मजदूरों की खूब मदद की थी, इसका फायदा उन्हें मिला। तुरेईकेला ब्लॉक के हिआल पंचायत में जन्मे लक्ष्मण बाग 6 भाई-बहनों में सबसे छोटे हैं, 2 का निधन भी हो चुका है। उनका परिवार पंचायत चुनाव में सक्रिय रहा है। पीएम मोदी ने उन्हें शेर कहा था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -