Tuesday, September 21, 2021
Homeराजनीतियूपी का विज्ञापन, कोलकाता का चित्र: जिसके लिए CM योगी पर निशाना साध रहा...

यूपी का विज्ञापन, कोलकाता का चित्र: जिसके लिए CM योगी पर निशाना साध रहा था TMC-जुबैर गिरोह, वो निकली अख़बार की गलती

'इंडियन एक्सप्रेस' ने कहा, "हमारे मार्केटिंग विभाग की असावधानी के कारण कवर पेज पर उत्तर प्रदेश के विज्ञापन में एक गलत चित्र लगा दिया गया। हम इस गलती के लिए क्षमाप्रार्थी हैं।"

भारत के लिबरल गिरोह का मीडिया एक बार फिर रंगे हाथों धराया है। गिरोह के लोग जिसके लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को निशाना बना रहे थे, वो असल में अख़बार की गलती निकली सारा मामला ‘इंडियन एक्सप्रेस’ अख़बार में यूपी सरकार द्वारा दिए गए एक विज्ञापन से जुड़ा हुआ है। इसे लेकर पश्चिम बंगाल की सत्ताधारी पार्टी तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC) भी हो-हल्ला मचा रही थी।

दरअसल, उस विज्ञापन में एक तस्वीर कोलकाता के एक फ्लाईओवर की थी। इसे लेकर ‘AltNews’ के मोहम्मद से लेकर TMC की महुआ मोइत्रा तक सभी सक्रिय हो गए और कहने लगे कि यूपी आदित्यनाथ सरकार के पास विकास के नाम पर दिखाने के लिए कुछ नहीं है, इसीलिए उन्होंने पश्चिम बंगाल की तस्वीर अख़बार के विज्ञापन में डाला। हालाँकि, ‘इंडियन एक्सप्रेस’ के बयान के बाद उनकी बोलती बंद हो गई।

मुहम्मद ज़ुबैर ने तंज कसते हुए लिखा था, “उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री होने के बावजूद पश्चिम बंगाल का विकास करने के लिए सीएम योगी का धन्यवाद।” उन्होंने बताया था कि ये तस्वीर कोलकाता की है। हालाँकि, ये अख़बार की भी गलती हो सकती है, इस पर उनका ध्यान नहीं गया। इसी तरह टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा ने सीएम योगी को ‘ठग’ बताते हुए कहा कि उन्हें अपनी एड एजेंसी बदल देनी चाहिए।

‘इंडियन एक्सप्रेस’ ने अपने बयान में लिखा है, “हमारे मार्केटिंग विभाग की असावधानी के कारण कवर पेज पर उत्तर प्रदेश के विज्ञापन में एक गलत चित्र लगा दिया गया। हम इस गलती के लिए क्षमाप्रार्थी हैं और अख़बार की सभी डिजिटल संस्करणों में से इस चित्र को हटा लिया गया है।” अख़बार ने स्पष्ट कहा है कि उसके मार्केटिंग डिपार्टमेंट ने वो चित्र प्रोड्यूस किया गया और उसकी गलती से ही ऐसा हुआ।

भाजपा के आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने इस पर टिप्पणी करते हुए लिखा, “बहुत अच्छे! TMC के लोग और कई विपक्षी पार्टियाँ इस मामले में उत्तेजनापूर्वक उछाल-कूद मचा रही थीं। अब चूँकि उनकी उत्तेजना हवा हो गई है, इसका जिम्मेदार किसे माना जाना चाहिए? उन पर तो दोहरी मार पड़ी है।” इस खुलासे के बाद लिबरल गिरोह से जवाब देते नहीं बना। कई निकल लिए तो कइयों ने अजीब तर्क पेश किए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज योगेश है, कल हरीश था: अलवर में 2 साल पहले भी हुई थी दलित की मॉब लिंचिंग, अंधे पिता ने कर ली थी...

आज जब राजस्थान के अलवर में योगेश जाटव नाम के दलित युवक की मॉब लिंचिंग की खबर सुर्ख़ियों में है, मुस्लिम भीड़ द्वारा 2 साल पहले हरीश जाटव की हत्या को भी याद कीजिए।

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध हालत में मौत: पंखे से लटकता मिला शव, बरामद हुआ सुसाइड नोट

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध हालात में मौत हो गई है। महंत का शव बाघमबरी मठ में सोमवार को फाँसी के फंदे से लटकता मिला।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,474FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe