Tuesday, July 27, 2021
Homeराजनीतिसिंधिया ने राज्यसभा के लिए दाखिल किया पर्चा: समर्थक MLA स्पीकर से मिलेंगे, होगी...

सिंधिया ने राज्यसभा के लिए दाखिल किया पर्चा: समर्थक MLA स्पीकर से मिलेंगे, होगी विडियोग्राफी

कमलनाथ ने राज्‍यपाल लालजी टंडन से मुलाकात कर विधायकों को बंधक बनाने का आरोप लगाया है। उनकी सरकार पर संकट सिंधिया समर्थक विधायकों और मंत्रियों के इस्तीफे के कारण पैदा हुआ है।

राज्यसभा चुनाव के लिए ज्योतिरादित्य सिंधिया ने शुक्रवार को पर्चा दाखिल कर दिया। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार उनके समर्थक विधायक आज मध्य प्रदेश विधानसभा के स्पीकर से मिलेंगे। मुलाकात की विडियोग्राफी भी होगी।

इससे पहले सिंधिया ने विधानसभा परिसर पहुॅंच अपना नामांकन दाखिल किया। उनके साथ पूर्व मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा और अन्य पार्टी नेता भी थे। उनके अलावा राज्यसभा के लिए बीजेपी के दूसरे सुमेर सिंह सोलंकी ने भी पर्चा दाखिल किया। नामांकन दाखिले की आज अंतिम तिथि थी। मध्य प्रदेश से राज्यसभा की तीन सीटों के लिए चुनाव हो रहा है। कॉन्ग्रेस और भाजपा के कब्जे में एक-एक सीट जाना तय है। तीसरी सीट पर दोनों दलों के बीच रोचक मुकाबला है।

मध्य प्रदेश में कमलनाथ के नेतृत्व वाली कॉन्ग्रेस सरकार 22 विधायकों के इस्तीफे के बाद गिरने के कगार पर है। कमलनाथ सरकार के गिरने का संकट सिंधिया के कॉन्ग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल होने के कारण पैदा हुआ है। कमलनाथ ने शुक्रवार (मार्च 13, 2020) को राज्यपाल लालजी टंडन से मुलाकात की और एक पत्र सौंपा। इसमें उन्होंने आरोप लगाया कि बीजेपी विधायकों की खरीद-फरोख्‍त कर रही है।

उन्‍होंने राज्‍यपाल से अनुरोध किया कि वह ‘बेंगलुरु में बंधक बनाए गए विधायकों को मुक्‍त कराएँ।’ इसके साथ ही कमलनाथ ने राज्यपाल से विधानसभा के आगामी सत्र में अध्यक्ष द्वारा निर्धारित तिथि पर फ्लोर टेस्ट की माँग की है। मध्य प्रदेश में सत्तारूढ़ कॉन्ग्रेस ने आरोप लगाया है कि 6 कैबिनेट मंत्रियों सहित बागी कॉन्ग्रेस विधायकों में से 19 विधायकों को बेंगलुरु के एक रिसॉर्ट में भाजपा ने ‘बंदी’ बनाकर रखा है।

कमलनाथ द्वारा राज्यपाल को दिए गए पत्र में कहा गया है, “बीजेपी ने 8 मार्च को तीन चार्टर्ड फ्लाइट का इंतजाम किया और कॉन्ग्रेस पार्टी के 19 विधायकों को लेकर बेंगलुरु गई। तब से 19 विधायकों, जिसमें से 6 विधायक कैबिनेट मंत्री हैं, बीजेपी द्वारा एक रिसॉर्ट में रखा गया है। 19 बंदी विधायकों से किसी को भी मिलने या फिर किसी भी प्रकार के संचार की अनुमति नहीं है।”

पत्र में आगे आरोप लगाया गया है कि 10 मार्च को होली के दिन बीजेपी के वरिष्‍ठ नेताओं ने स्‍पीकर के आवास पर मुलाकात की और उन्‍हें कॉन्ग्रेस के बागी विधायकों का इस्‍तीफा सौंपा। इस दौरान 19 में से कोई भी इस्‍तीफा देने वाला विधायक स्‍पीकर के पास मौजूद नहीं था। इन घटनाओं का हवाला देते हुए पत्र में भाजपा पर राज्य सरकार को गिराने की साजिश का आरोप लगाया गया है।

फिलहाल सत्तासीन कॉन्ग्रेस के 114 में से 22 विधायकों ने इस्तीफे दे दिए हैं। अगर इस्तीफे स्वीकार कर लिए गए तो कमलनाथ सरकार का गिरना तय है। इस्तीफा देने वाले कॉन्ग्रेस विधायकों में से 6 आज स्पीकर एनपी प्रजापति से मिलेंगे। स्पीकर ने नोटिस जारी कर इन विधायकों को हाजिर होने के लिए कहा था। इनमें से 6 विधायकों को शुक्रवार, 7 को शनिवार और बाकी 9 विधायकों को रविवार को उपस्थित होना है। स्पीकर ने इन विधायकों से मिलकर इस्तीफे की सत्यता बताने को कहा था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

6 साल के जुड़वा भाई, अगवा कर ₹20 लाख फिरौती ली; फिर भी हाथ-पैर बाँध यमुना में फेंका: ढाई साल बाद इंसाफ

मध्य प्रदेश स्थित सतना जिले के चित्रकूट में दो जुड़वा भाइयों के अपहरण और हत्या के मामले में 5 दोषियों को आजीवन कारावास की सज़ा सुनाई गई है।

‘अपनी मौत के लिए दानिश सिद्दीकी खुद जिम्मेदार, नहीं माँगेंगे माफ़ी, वो दुश्मन की टैंक पर था’: ‘दैनिक भास्कर’ से बोला तालिबान

तालिबान प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने कहा कि दानिश सिद्दीकी का शव युद्धक्षेत्र में पड़ा था, जिसकी बाद में पहचान हुई तो रेडक्रॉस के हवाले किया गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,381FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe