Thursday, May 30, 2024
Homeराजनीतिमहाराष्ट्र कॉन्ग्रेस प्रमुख की अमिताभ, अक्षय को धमकी, कहा- 'पेट्रोल-डीज़ल पर नहीं बोले तो...

महाराष्ट्र कॉन्ग्रेस प्रमुख की अमिताभ, अक्षय को धमकी, कहा- ‘पेट्रोल-डीज़ल पर नहीं बोले तो नहीं होंगे देंगे फिल्मों की शूटिंग’

अक्षय कुमार और अमिताभ बच्चन क्यों मोदी सरकार के विरोध में नहीं बोल रहे हैं। अगर वो पेट्रोल और डीज़ल के बढ़ते दामों पर अपनी राय नहीं रखेंगे तो वह महाराष्ट्र में अमिताभ बच्चन और अक्षय कुमार की फिल्मों की शूटिंग नहीं होने देंगे और न ही प्रदेश में उनकी फिल्म रिलीज़ होने देंगे।

महाराष्ट्र के कॉन्ग्रेस प्रमुख नाना पटोले ने देश के दो दिग्गज बॉलीवुड कलाकारों को धमकी दी है। पेट्रोल और डीज़ल के बढ़ते दामों को लेकर कॉन्ग्रेस नेता ने कहा कि अक्षय कुमार और अमिताभ बच्चन क्यों मोदी सरकार के विरोध में नहीं बोल रहे हैं। अगर वो पेट्रोल और डीज़ल के बढ़ते दामों पर अपनी राय नहीं रखेंगे तो वह महाराष्ट्र में अमिताभ बच्चन और अक्षय कुमार की फिल्मों की शूटिंग नहीं होने देंगे और न ही प्रदेश में उनकी फिल्म रिलीज़ होने देंगे।  

मीडिया वालों से बात करते हुए कॉन्ग्रेस नेता नाना पटोले ने कहा, “आपने देखा होगा कि जब केंद्र में मनमोहन सिंह की सरकार थी तब अमिताभ बच्चन जी हों या अक्षय कुमार जी हों। पेट्रोल और डीज़ल के बारे में ट्वीट के ज़रिए बताते थे कि 25 और 30 रुपए का पेट्रोल ये लोग महँगा बेच रहे हैं। आज अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल के दाम कम होने के बाद भी, जिस तरह से डीज़ल पेट्रोल के दाम बढ़ा कर हिन्दुस्तान की जनता का जेब काटने का ‘महापाप’ नरेन्द्र मोदी की सरकार कर रही है। अब आप (अमिताभ बच्चन, अक्षय कुमार) क्यों नहीं बोल रहे हैं? अब अगर वो नहीं बोलेंगे तो हम महाराष्ट्र में अमिताभ बच्चन और अक्षय कुमार की शूटिंग रोकेंगे और उनकी फिल्म भी रिलीज़ नहीं होने देंगे।” 

महाराष्ट्र के कॉन्ग्रेस मुखिया पटोले ने कहा कि संप्रग की सरकार लोकतांत्रिक तरीके से काम करती थी इसलिए कलाकारों को विरोध करने का अधिकार था। इसके अलावा नाना पटोले ने ट्वीट के ज़रिए भी पेट्रोल डीज़ल और एलपीजी के दाम कम किए जाने का निवेदन किया। दरअसल, देश के दो राज्यों राजस्थान और मध्य प्रदेश में पेट्रोल की कीमत 100 रुपए हो चुकी है। पूरे देश में पेट्रोल पर सबसे ज़्यादा वैट (36%) कॉन्ग्रेस शासित राजस्थान में वसूला जा रहा है। 

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बाँटने की राजनीति, बाहरी ताकतों से हाथ मिला कर साजिश, प्रधान को तानाशाह बताना… क्या भारतीय राजनीति के ‘बनराकस’ हैं राहुल गाँधी?

पूरब-पश्चिम में गाँव को बाँटना, बाहरी ताकत से हाथ मिला कर प्रधान के खिलाफ साजिश, शांति समझौते का दिखावा और 'क्रांति' की बात कर अपने चमचों को फसलना - 'पंचायत' के भूषण उर्फ़ 'बनराकस' को देख कर आपको भारत के किस नेता की याद आती है?

33 साल पहले जहाँ से निकाली थी एकता यात्रा, अब वहीं साधना करने पहुँचे PM नरेंद्र मोदी: पढ़िए ईसाइयों के गढ़ में संघियों ने...

'विवेकानंद शिला स्मारक' के बगल वाली शिला पर संत तिरुवल्लुवर की प्रतिमा की स्थापना का विचार एकनाथ रानडे का ही था, क्योंकि उन्हें आशंका थी कि राजनीतिक इस्तेमाल के लिए बाद में यहाँ किसी की मूर्ति लगवाई जा सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -