Friday, June 18, 2021
Home राजनीति शिवसेना करेगी घर वापसी! बाल ठाकरे के 'माना' ने कहा- भाजपा का साथ बेहतर

शिवसेना करेगी घर वापसी! बाल ठाकरे के ‘माना’ ने कहा- भाजपा का साथ बेहतर

शिवसेना की कमाई ही हिंदुत्व की राजनीति की है। महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए उस पर इसी एजेंडे से समझौते के आरोप लग रहे हैं। स्थानीय स्तर पर सरकार गठन के बाद सैकड़ों नेता इसी वजह से पार्टी छोड़कर गए है। ऐसे में नागरिकता संशोधन विधेयक का विरोध कर वह नहीं चाहती कि इन आरोपों को बल मिले।

महा विकास अघाड़ी (शिवसेना-कॉन्ग्रेस-एनसीपी) ने महाराष्ट्र में सरकार भले बना ली हो, लेकिन गठबंधन साझेदारों के बीच का मतभेद खत्म होता नहीं दिख रहा है। यही कारण है कि अपने साथ शपथ लेने वाले मंत्रियों को मनपसंद कार्यालय दे चुके मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे आज तक उनके विभाग का बॅंटवारा नहीं कर पाए हैं। उद्धव ने छह मंत्रियों के साथ 28 नवंबर को बड़े तामझाम के साथ शपथ ली। तीनों दलों की तरफ से दो-दो लोगों ने मंत्री पद की शपथ ली थी।

तीनों दलों के बीच जारी मतभेद को लेकर राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा है, “विधानसभा का शीत सत्र केवल छह दिनों के लिए बुलाया गया है। अब तक न तो मंत्रियों को विभाग बॉंटे गए हैं और न कैबिनेट का विस्तार किया गया है। यह सत्र केवल परंपरा के निर्वाह के लिए बुलाया गया है, क्योंकि किसी को पता नहीं है कि इस हालत के लिए जवाबदेह कौन है।”

इस बीच, राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और शिवसेना के दिग्गज नेता मनोहर जोशी ने भविष्य में भाजपा के साथ आने के संकेत दिए हैं। उन्होंने कहा, “मेरी राय में यह ज्यादा अच्छा होता कि शिवसेना और भाजपा साथ रहते। लेकिन दोनों पार्टियॉं फिलहाल ऐसा नहीं चाहती।” उनका बयान ऐसे वक्त में आया है जब नागरिकता संशोधन विधेयक पर स्टैंड को लेकर पार्टी की छीछालेदर हो रही है।

लोकसभा में सोमवार को जब इस बिल पर वोटिंग हुई तो शिवसेना के 18 सांसदों ने पक्ष में वोट किया। उसका यह कदम बिल का विरोध कर रही और महाराष्ट्र की सत्ता में साझेदार कॉन्ग्रेस को रास नहीं आया। कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गॉंधी ने इस बिल का समर्थन करने वालों को जब देशद्रोही करार देने की कोशिश की तो शिवसेना के सुर बदल गए। उद्धव ने कहा कि उनकी पार्टी राज्यसभा में इस बिल का तब तक समर्थन नहीं करेगी जब तक कुछ चीजें स्पष्ट नहीं हो जाती। इससे पहले पार्टी सांसद अरविंद सावंत ने कहा था कि राज्यसभा में भी पार्टी हिंदुत्व को लेकर अपने स्टैंड से पीछे नहीं हटेगी।

नागरिकता संशोधन विधेयक पर शिवसेना के ‘पेंडुलम स्टैंड को लेकर उसकी खासी आलोचना हो रही है। एआईएमआईएम के नेता और हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने चुटकी लेते हुए कहा है कि यह भांगड़ा पॉलिटिक्स है। ओवैसी ने कहा, “कॉमन मिनिमम प्रोग्राम में महा विकास अघाड़ी सरकार ‘सेकुलर’ है। ऐसे में उस बिल का समर्थन जो धर्मनिरपेक्षता के खिलाफ है, अवसरवाद की राजनीति से ज्यादा कुछ नहीं है।”

असल में, शिवसेना की दिक्कत यह है कि उसकी कमाई ही हिंदुत्व की राजनीति की है। महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए उस पर हिंदुत्व के एजेंडे से समझौते के आरोप लग रहे हैं। स्थानीय स्तर पर सरकार गठन के बाद सैकड़ों नेता इसी वजह से पार्टी छोड़कर गए है। ऐसे में नागरिकता संशोधन विधेयक का विरोध कर वह नहीं चाहती कि उस पर लगे आरोपों को बल मिले।

सीएम बनने के बाद से उद्धव कई बार हिंदुत्व पर जोर भी दे चुके हैं। लेकिन, उनकी परेशानी यह है कि शिवसेना जब भी ऐसा करते दिखने की कोशिश करती है राज्य की सत्ता के साझेदार उसकी लगाम खींचने लगते हैं। उप मुख्यमंत्री, महकमों को लेकर पहले से ही मतभेद चल रहे हैं। ऐसे में उद्धव बखूबी जानते हैं कि हिंदुत्व के एजेंडे पर जोर देने से उनकी सरकार की अकाल मौत हो सकती है। वैसे इसकी संभावना सरकार गठन के वक्त से ही जताई जा रही है।

इसके अलावा कर्नाटक में कॉन्ग्रेस से बगावत कर भाजपा का साथ देने वाले विधायकों को उपचुनाव में जनता ने जिस तरह सिर आँखों पर बिठाया है, उससे भी शिवसेना सशंकित होगी। यह आशंका उसके मन में गहरे तक बैठी होगी कि भाजपा का साथ छोड़ने पर उसका भी ऐसा ही हश्र हो सकता है। यही कारण है कि मनोहर जोशी ने निजी राय बता कर भविष्य में दोनों दलों के साथ आने के संकेत दिए हैं।

शिवसेना में जोशी की हैसियत का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि राज्य में 1993 में जब पहली बार शिवसेना सत्ता में आई थी तो उद्धव के पिता बाल ठाकरे ने उन्हें ही मुख्यमंत्री के रूप में चुना था। लोकसभा के अध्यक्ष रह चुके जोशी को बाल ठाकरे माना (मनोहर) कहा करते थे।

‘हिन्दुओं’ को नहीं मिलने चाहिए वोटिंग राइट्स: नागरिकता विधेयक पर ‘सेक्युलर’ बनी शिवसेना

महाराष्ट्र में शिवसेना-NCP-कॉन्ग्रेस को लगा झटका, भिवंडी में BJP के हाथों मिली हार

शिवसेना के 400 कार्यकर्ता BJP में शामिल, कहा – ‘भ्रष्ट और हिन्दू-विरोधी दलों संग मिलकर बनाई सरकार’

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

7 दिन में हाजिर हो: ट्विटर इंडिया MD को UP पुलिस ने दिया आदेश, बुजुर्ग से मारपीट और फर्जी सांप्रदायिक एंगल का मामल

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में बुजुर्ग से मारपीट और दाढ़ी काटने के मामले में अब पुलिस ने माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर इंडिया के एमडी को...

‘अगर मरना पड़े तो 4-6 को मार के मरना’: कॉन्ग्रेस अल्पसंख्यक सेल का नया अध्यक्ष, जो बच्चों से लगवाता है ‘हिटलर की मौत मरेगा’...

इमरान प्रतापगढ़ी को देश के कई उर्दू मुशायरों और इस्लामी कार्यक्रमों में बुलाया जाता है और वो उन्हीं का सहारा लेकर अपना इस्लामी प्रोपेगंडा चलाते हैं।

दो समुद्री तटों और चार पहाड़ियों के बीच स्थित रायगढ़ का हरिहरेश्वर मंदिर, जहाँ विराजमान हैं पेशवाओं के कुलदेवता

अक्सर कालभैरव की प्रतिमा दक्षिण की ओर मुख किए हुए मिलती है लेकिन हरिहरेश्वर में स्थित मंदिर में कालभैरव की प्रतिमा उत्तरमुखी है।

मोदी कैबिनेट में वरुण गाँधी की एंट्री के आसार, राजनाथ बोले- UP में 2022 का चुनाव योगी के नाम

मोदी सरकार में जल्द फेरबदल की अटकलें कई दिनों से लग रही है। 6 नाम सामने आए हैं जिन्हें जगह मिलने की बात कही जा रही है।

ताबीज की लड़ाई को दिया जय श्रीराम का रंग: गाजियाबाद केस की पूरी डिटेल, जुबैर से लेकर बौना सद्दाम तक की बात

गाजियाबाद में मुस्लिम बुजुर्ग के साथ हुई मारपीट की घटना में कब, क्या, कैसे हुआ। सब कुछ एक साथ।

टिकरी बॉर्डर पर शराब पिला जिंदा जलाया, शहीद बताने की साजिश: जातिसूचक शब्दों के साथ धमकी भी

जले हुए हालात में भी मुकेश ने बताया कि किसान आंदोलन में कृष्ण नामक एक व्यक्ति ने पहले शराब पिलाई और फिर उसे आग लगा दी।

प्रचलित ख़बरें

BJP विरोध पर ₹100 करोड़, सरकार बनी तो आप होंगे CM: कॉन्ग्रेस-AAP का ऑफर महंत परमहंस दास ने खोला

राम मंदिर में अड़ंगा डालने की कोशिशों के बीच तपस्वी छावनी के महंत परमहंस दास ने एक बड़ा खुलासा किया है।

‘भारत से ज्यादा सुखी पाकिस्तान’: विदेशी लड़की ने किया ध्रुव राठी का फैक्ट-चेक, मिल रही गाली और धमकी, परिवार भी प्रताड़ित

साथ ही कैरोलिना गोस्वामी ने उन्होंने कहा कि ध्रुव राठी अपने वीडियो को अपने चैनल से डालें, ताकि जिन लोगों को उन्होंने गुमराह किया है उन्हें सच्चाई का पता चले।

टिकरी बॉर्डर पर शराब पिला जिंदा जलाया, शहीद बताने की साजिश: जातिसूचक शब्दों के साथ धमकी भी

जले हुए हालात में भी मुकेश ने बताया कि किसान आंदोलन में कृष्ण नामक एक व्यक्ति ने पहले शराब पिलाई और फिर उसे आग लगा दी।

‘चुपचाप मेरे बेटे की रखैल बन कर रह, इस्लाम कबूल कर’ – मृत्युंजय बन मुर्तजा ने फँसाया, उसके अम्मी-अब्बा ने धमकाया

मुर्तजा को धर्मान्तरण कानून-2020 के तहत गिरफ्तार कर लिया है। आरोपित को कोर्ट में पेश करने के बाद उसे जेल भेज दिया गया है।

पल्लवी घोष ने गलती से तो नहीं खोल दी राहुल गाँधी की पोल? लोगों ने कहा- ‘तो इसलिए की थी बंगाल रैली रद्द’

जहाँ यूजर्स उन्हें सोनिया गाँधी को लेकर इतनी महत्तवपूर्ण जानकारी देने के लिए तंज भरे अंदाज में आभार दे रहे हैं। वहीं राहुल गाँधी को लेकर बताया जा रहा है कि कैसे उन्होंने बेवजह वाह-वाही लूट ली।

भाई की आँखें फोड़वा दी, बीवी 14वें बच्चे को जन्म देते मरी: मोहब्बत का दुश्मन था हिन्दू-मुस्लिम शादी पर प्रतिबंध लगाने वाला शाहजहाँ

माँ नूरजहाँ को निकाल बाहर किया। ससुर की आँखें फोड़वा डाली। बीवी 14वें बच्चे को जन्म देते हुए मरी। हिन्दुओं पर अत्याचार किए। आज वही व्यक्ति लिबरलों के लिए 'प्यार का मसीहा' है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
104,581FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe