महाराष्ट्र में शिवसेना-NCP-कॉन्ग्रेस को लगा झटका, भिवंडी में BJP के हाथों मिली हार

महाराष्ट्र में शिवसेना, राष्ट्रवादी कॉन्ग्रेस पार्टी (NCP) और कॉन्ग्रेस गठबंधन के महाविकास अघाड़ी को मेयर चुनाव में करारा झटका लगा है। ठाणे ज़िले की भिवंडी महानगर पालिका के मेयर चुनाव में बीजेपी गठबंधन ने...

महाराष्ट्र में शिवसेना, राष्ट्रवादी कॉन्ग्रेस पार्टी (NCP) और कॉन्ग्रेस गठबंधन के महाविकास अघाड़ी को मेयर चुनाव में करारा झटका लगा है। ठाणे ज़िले की भिवंडी महानगर पालिका के मेयर चुनाव में बीजेपी गठबंधन ने गुरुवार (5 दिसंबर) को चुनाव जीत लिया है। इस चुनाव में महाविकास अघाड़ी की तरफ से कॉन्ग्रेस की उम्मीदवार रिषिका राका चुनावी मैदान में थीं।

वहीं, ठाणे ज़िले की भिवंडी से मेयर चुनाव में बीजेपी समर्थित कोणार्क विकास अघाड़ी की प्रतिभा पाटिल ने जीत दर्ज की है। इसके अलावा, कॉन्ग्रेस पार्टी के बागी इमरान ख़ान डिप्टी मेयर बनने में सफल रहे।

ख़बर के अनुसार, कुल 90 सीटों में से कॉन्ग्रेस-शिवसेना के 59 पार्षद थे। वहीं, बीजेपी समर्थित कोणार्क विकास अघाड़ी के पास केवल 31 पार्षद थे। लेकिन, जब अंतिम परिणाम आया तो कॉन्ग्रेस के 47 में से 18 पार्षदों ने बीजेपी के पक्ष में मतदान किया और कोणार्क विकास अघाड़ी की उम्मीदवार प्रतिभा पाटिल 49 वोटों के साथ मेयर चुनी गईं। वहीं, कॉन्ग्रेस की उम्मीदवार रिषिका राका को केवल 41 वोट मिले। इस प्रकार पूर्व महापौर प्रतिभा पाटिल एक बार फिर महापौर चुनी गईं, और पूर्व उपमहापौर कॉन्ग्रेस के बागी नगरसेवक इमरान ख़ान दूसरी बार उपमहापौर चुने गए।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

बता दें कि 90 नगरसेवकों वाली भिवंडी में कॉन्ग्रेस को को बहुमत प्राप्त था, क्योंकि उसके 47 सदस्य थे। बीजेपी के 20, शिवसेना के 12, कोणार्क विकास अघाड़ी के 4, आरपीआई एकतावादी के 4, समाजवादी पार्टी के 2 और दो निर्दलीय सदस्य हैं।

ग़ौर करने वाली बात यह है कि संख्या बल के आधार पर कॉन्ग्रेस के पास बहुमत होने के बावजूद महापौर और उपमहापौर के चुनाव में कॉन्ग्रेस ने शिवसेना के साथ मिलकर चुनाव लड़ा था, जिससे कॉन्ग्रेस के खाते में 59 नगरसेवक हो गए थे। कॉन्ग्रेस के खाते में बहुमत के आधार पर 13 नगरसेवक ज़्यादा थे, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेस-शिवसेना ने महापौर के लिए कॉन्ग्रेस की नगरसेविका रिषिका राका और उपमहापौर के लिए शिवसेना के नगरसेवक बालाराम चौधरी को उम्मीदवार बनाया गया था।

वहीं दूसरी तरफ, कोणार्क विकास अघाड़ी ने महापौर के लिए प्रतिभा पाटिल और उपमहापौर के लिए कॉन्ग्रेस के बागी नगरसेवक इमरान ख़ान को उम्मीदवार बनाया था। लेकिन महापौर चुनाव से पहले ही कॉन्ग्रेस के 18 नगरसेवक कोणार्क विकास अघाड़ी के साथ चले गए। यही सबसे बड़ी वजह भी बनी जिसके चलते महापौर पद के चुनाव में कोणार्क विकास अघाड़ी की उम्मीदवार प्रतिभा पाटील को 49 वोट मिले। उधर, कॉन्ग्रेस-शिवसेना की उम्मीदवार रिषिका राका को 41 वोट ही मिल सके। इस वजह से कोणार्क विकास अघाड़ी की प्रतिभा पाटील ने रिषिका राका को आठ वोटों से हराकर दूसरी बार फिर से महापौर चुन ली गईं।

वहीं, उपमहापौर के चुनाव में कॉन्ग्रेस से बगावत कर कोणार्क विकास अघाड़ी के साथ चुनाव लड़ने वाले इमरान ख़ान को भी 49 मत और कॉन्ग्रेस-शिवसेना के उम्मीदवार शिवसेना नगरसेवक बालाराम चौधरी को 41 वोट मिले। शिवसेना नगरसेवक बालाराम चौधरी को आठ वोटों से पराजित कर इमरान ख़ान भी दूसरी बार उपमहापौर चुने गए हैं।

महाराष्ट्र के विकास को पीछे धकेल रहा है महा ‘विकास’ अघाड़ी: रद्द किए जा रहे हैं कई अहम प्रोजेक्ट

‘BJP नहीं छोड़ रहीं पंकजा मुंडे, महाराष्ट्र में दुर्घटनावश बनी सरकार फैला रही अफवाह’

शरद पवार की 2 डिमांड पूरी कर देते मोदी-शाह तो उद्धव ठाकरे नहीं बनते महाराष्ट्र के सीएम

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

शाहीन बाग़, शरजील इमाम
वे जितने ज्यादा जोर से 'इंकलाब ज़िंदाबाद' बोलेंगे, वामपंथी मीडिया उतना ही ज्यादा द्रवित होगा। कोई रवीश कुमार टीवी स्टूडियो में बैठ कर कहेगा- "क्या तिरंगा हाथ में लेकर राष्ट्रगान गाने वाले और संविधान का पाठ करने वाले देश के टुकड़े-टुकड़े गैंग के सदस्य हो सकते हैं? नहीं न।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

144,546फैंसलाइक करें
36,423फॉलोवर्सफॉलो करें
164,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: