Friday, December 3, 2021
Homeराजनीति'BJP नहीं छोड़ रहीं पंकजा मुंडे, महाराष्ट्र में दुर्घटनावश बनी सरकार फैला रही अफवाह'

‘BJP नहीं छोड़ रहीं पंकजा मुंडे, महाराष्ट्र में दुर्घटनावश बनी सरकार फैला रही अफवाह’

पंकजा मुंडे के पार्टी छोड़ने की अटकलों को भाजपा ने खारिज कर दिया है। महाराष्ट्र भाजपा के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने कहा है कि उनके पार्टी छोड़ने की बातें सिर्फ अफवाह है। उन्होंने कहा, “भाजपा के नेता पंकजा मुंडे से संपर्क में हैं। वह हार के बाद आत्मनिरीक्षण कर रही हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि वह भाजपा छोड़ रही हैं।”

उन्होंने शिवसेना नेता संजय राउत के इस दावे को खारिज किया कि कई नेता शिवसेना में शामिल होने के लिए उत्सुक हैं। पाटिल ने कहा, “महाराष्ट्र में दुर्घटनावश बनी सरकार निराधार खबरें फैला रही है। उनके ठाकरे परिवार से अच्छे पारिवारिक रिश्ते हो सकते हैं, लेकिन इसका मतलब यह कतई नहीं है कि वह शिवसेना में शामिल होने जा रही हैं।”

दरअसल, रविवार (दिसंबर 1, 2019) को पंकजा मुंडे ने फेसबुक पोस्ट किया था, ‘‘अब सोचने और निर्णय लेने की जरूरत है कि आगे क्या किया जाए?’’ पंकजा ने 12 दिसंबर को समर्थकों को बीड के गोपीनाथगढ़ पहुँचने की अपील की है। 12 दिसंबर को पंकजा के पिता दिवंगत गोपनाथ मुंडे का जन्मदिवस है।

इसके बाद पंकजा मुंडे ने सोमवार (दिसंबर 2, 2019) को ट्विटर पर अपने ‘बॉयो’ से भाजपा का नाम हटा दिया। इसके बाद उनके भाजपा छोड़ने की अटकलों ने जोर पकड़ लिया।

इसके बाद शिवसेना सांसद संजय राउत ने भी यह कहकर सस्पेंस और बढ़ा दिया कि कई नेता उनके संपर्क में हैं। वहीं शिवसेना विधायक अब्दुल सत्तार ने कहा, “12 दिसंबर को, पंकजा मुंडे तय करेगी कि वह आगे किस तरफ जाएँगी। अगर वह शिवसेना में शामिल होती हैं तो हम उनका स्वागत करेंगे। गोपीनाथ जी और बालासाहेब जी के सौहार्दपूर्ण संबंध रहे थे।” गौरतलब है कि पंकजा मुंडे को विधानसभा चुनाव में अपने चचेरे भाई और एनसीपी नेता धनंजय मुंडे के हाथों शिकस्त झेलनी पड़ी थी। परली से विधायक रहीं पंकजा फडणवीस कैबिनेट में मंत्री थीं।

NCP नेता धनंजय मुंडे ने बहन पंकजा पर की आपत्तिजनक टिप्पणी, मामला दर्ज

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सियासत होय जब ‘हिंसा’ की, उद्योग-धंधा कहाँ से होय: क्या अडानी-ममता मुलाकात से ही बदल जाएगा बंगाल में निवेश का माहौल

एक उद्योगपति और मुख्यमंत्री की मुलाकात आम बात है। पर जब मुख्यमंत्री ममता बनर्जी हों और उद्योगपति गौतम अडानी तो उसे आम कैसे कहा जा सकता?

पाकिस्तानी मूल की ऑस्ट्रेलियाई सीनेटर मेहरीन फारुकी से मिलिए, सुनिए उनकी हिंदू घृणा- जानिए PM मोदी से उनको कितनी नफरत

मेहरीन फारूकी ने ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन के अच्छे दोस्त PM नरेंद्र मोदी को घेरने के बहाने संघीय सीनेट में घृणा के स्तर तक उतर आईं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
141,299FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe