Tuesday, May 18, 2021
Home राजनीति ममता ने शांति की अपील का दिखावा कर अपने कार्यकर्ताओं को उकसाया, गृहमंत्रालय ने...

ममता ने शांति की अपील का दिखावा कर अपने कार्यकर्ताओं को उकसाया, गृहमंत्रालय ने माँगी हिंसा पर रिपोर्ट

“मैं सभी से शांति बनाए रखने और किसी भी हिंसा में शामिल नहीं होने की अपील करती हूँ। हम जानते हैं कि भाजपा और केंद्रीय बलों ने हमें बहुत प्रताड़ित किया है लेकिन हमें शांति बनाए रखना है। वर्तमान में, हमें कोविड-19 से लड़ाई लड़नी है।”

हाल ही में संपन्न राज्य विधानसभा चुनावों में TMC की जीत के बाद पश्चिम बंगाल में कई स्थानों से हिंसा की खबरें सामने आई। भाजपा कार्यकर्ता और समर्थक हमलावरों के निशाने पर थे। कथित टीएमसी गुंडों ने उन पर हमला किया और उनके कार्यालयों और दुकानों में तोड़फोड़ की। अब, ममता बनर्जी ने शांति बनाए रखने की अपील की है। हालाँकि, ऐसा करने में, उन्होंने भाजपा और केंद्रीय बलों पर अत्याचार करने का आरोप लगाकर भावनाओं को और भड़का दिया।

ममता बनर्जी ने कहा, “मैं सभी से शांति बनाए रखने और किसी भी हिंसा में शामिल नहीं होने की अपील करती हूँ। हम जानते हैं कि भाजपा और केंद्रीय बलों ने हमें बहुत प्रताड़ित किया है लेकिन हमें शांति बनाए रखना है। वर्तमान में, हमें कोविड-19 से लड़ाई लड़नी है।”

ममता बनर्जी ने शांति की अपील की, लेकिन उनकी अपील स्पष्ट नहीं थी। दंगाइयों और उपद्रवियों को प्रोत्साहन देते हुए उन्होंने भाजपा और केंद्र सरकार पर हिंसा का आरोप लगाया, उन पर ‘अत्याचार’ का आरोप लगाया और इस तरह टीएमसी समर्थकों द्वारा हिंसा को अप्रत्यक्ष रूप से उनके राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों के खिलाफ जायज ठहराया।

उन्होंने आगे कहा, “मैं सिर्फ एक स्ट्रीट फाइटर हूँ। मैं लोगों को बढ़ावा दे सकती हूँ ताकि हम बीजेपी के खिलाफ लड़ सकें। एक अकेला सब कुछ नहीं कर सकता मुझे लगता है कि हम सब मिलकर 2024 की लड़ाई लड़ सकते हैं। सबसे पहले COVID की लड़ाई लड़ें।”

उन्होंने भाजपा पर चुनाव परिणामों के बाद राज्य में हिंसा का आरोप लगाने के लिए पुराने दंगों की तस्वीरों का उपयोग करने का आरोप लगाया। बनर्जी ने कहा, “वे (भाजपा) पुराने दंगों की तस्वीरें पोस्ट कर रहे हैं, यह उनकी आदत है। मैं किसी भी हिंसा को पसंद नहीं करती हूँ। बीजेपी ऐसा क्यों कर रही है? प्रचंड बहुमत से जीतने के बाद भी हमने किसी भी तरह का जश्न नहीं मनाया।”

उन्होंने टीएमसी कार्यकर्ताओं के जुनून को और भड़काते हुए कहा, “मुझे किसी से एक SMS मिला, जिसमें नंदीग्राम के रिटर्निंग ऑफिसर ने किसी को लिखा है कि अगर वह रिकाउंटिंग की अनुमति देता है तो उसकी जान को खतरा होगा। चार घंटे तक सर्वर डाउन रहा, राज्यपाल ने भी मुझे बधाई दी। अचानक सब कुछ बदल गया।”

हिंसा, आगजनी, पश्चिम बंगाल में TMC शासन की एक बानगी भी बीजेपी कार्यकर्ताओं और समर्थकों को मिली थी क्योंकि राज्य विधानसभा चुनावों में पार्टी की जीत के बाद हिंसा, आगजनी और तोड़फोड़ में TMC गुंडों का हाथ था। टीएमसी समर्थकों ने अपनी पार्टी की जीत का जश्न मनाते हुए भाजपा कार्यालयों में तोड़फोड़ की और उन पर हमला किया।

पश्चिम बंगाल में चुनाव परिणाम के बाद हिंसा की घटना पर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राज्य सरकार से रिपोर्ट माँगी है। गृह मंत्रालय ने कहा कि सरकार विपक्षी दलों के कार्यकर्ताओं पर हुए हमले की पूरी जानकारी दें। बता दें कि बीजेपी और टीएमसी नेताओं की झड़प में 24 घंटे में 6 लोगों की मौत हो चुकी है। बीजेपी नेताओं का आरोप है कि चुनाव परिणाम आने के 24 घंटे के अंदर बीजेपी के 6 कार्यकर्ताओं की हत्या कर दी गई है। इसमें जगदाल से शोभा रानी मंडल, राणघाट से उत्तम घोष, बेलेघाट से अभिजीत सरकार, सोनारपुर दक्षिण से हरोम अधिकारी, सीतलकुची से मोमिक मोइत्रा और बोलपुर से गौरब सरकार का नाम शामिल है।

गौरतलब है कि भाजपा पर टीएमसी की जीत के बाद पश्चिम बंगाल में हिंसा का प्रकोप जारी है। अभिजीत सरकार को कथित तौर पर टीएमसी की भीड़ द्वारा मौत के घाट उतार दिया गया था। चुनाव जीतने के कुछ ही घंटों के भीतर, टीएमसी ने हेस्टिंग्स में बीजेपी के पार्टी कार्यालय का घेराव किया, आरामबाग में पार्टी कार्यालय को जला दिया और बीजेपी नेता शुभेंदु अधिकारी पर हमला किया जिन्होंने ममता बनर्जी को हराया।

बता दें कि हत्या से कुछ देर पहले अभिजीत सरकार ने फेसबुक लाइव के माध्यम से अपनी बात रखी थी। उन्हें पता भी नहीं था कि फेसबुक पर लाइव कैसे आते हैं, लेकिन उन्होंने किसी तरह वीडियो बनाया और बताया कि TMC के गुंडे लगातार बमबारी कर रहे थे और उन्होंने उनके घर और दफ्तर को तहस-नहस कर डाला। उन्होंने कहा कि उनकी एक ही गलती है कि वे भाजपा कार्यकर्ता हैं। एक अन्य वीडियो में उन्होंने बताया कि उनके घर और NGO दफ्तर को तोड़ डाला गया है। कुत्ते के 5 बच्चे को मार डाला गया।

अभिजीत ने कहा था कि उन्हें किसी भी पार्टी के जीतने से कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन बेरहम तरीके से उनके घर को ध्वस्त किया जा रहा है। इन दोनों वीडियो के अपलोड करने के बाद पीट-पीट कर उनकी हत्या कर दी गई। कई भाजपा कार्यकर्ताओं ने विभिन्न माध्यमों से डर जताया है कि ममता के तीसरी बार सत्ता में लौटने से उनका जीना दूभर हो सकता है और उनकी जान को TMC वालों से खतरा हो सकता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हरियाणा की सोनिया भोपाल में कॉन्ग्रेस MLA के बंगले में लटकी मिली: दावा- गर्लफ्रेंड थी, जल्द शादी करने वाले थे

कमलनाथ सरकार में वन मंत्री रह चुके उमंग सिंघार और सोनिया की मुलाकात मेट्रोमोनियल वेबसाइट के जरिए हुई थी।

‘ये असाधारण परिस्थिति, भीड़तंत्र का राज़ नहीं चलेगा’: कलकत्ता HC ने चारों TMC नेताओं की जमानत रोकी, भेजे गए जेल

कलकत्ता हाईकोर्ट ने कहा कि अगले आदेश तक इन चारों आरोपित नेताओं को जुडिशल कस्टडी में रखा जाए।

क्यों पड़ा Cyclone का नाम Tauktae, क्यों तबाही मचाने आते हैं, जमीन पर क्यों नहीं बनते? जानिए चक्रवातों से जुड़ा सबकुछ

वर्तमान में अरब सागर से उठने वाले चक्रवाती तूफान Tauktae का नाम म्याँमार द्वारा दिया गया है। Tauktae, गेको छिपकली का बर्मीज नाम है। यह छिपकली बहुत तेज आवाज करती है।

क्या CM योगी आदित्यनाथ को ग्रामीणों ने गाँव में घुसने से रोका? कॉन्ग्रेस नेताओं, वामपंथी पत्रकारों के फर्जी दावे का फैक्ट चेक

मेरठ पुलिस ने सोशल मीडिया पर किए गए भ्रामक दावों का खंडन किया। उन्होंने कहा, “आपने सोशल मीडिया पर जो पोस्ट किया है वह निराधार और भ्रामक है। यह फेक न्यूज फैलाने के दायरे में आता है।"

मेवात के आसिफ की हत्या में सांप्रदायिक एंगल नहीं, पुरानी राजनीतिक दुश्मनी: हरियाणा पुलिस

आसिफ की मृत्यु की रिपोर्ट आने के तुरंत बाद, कुछ मीडिया हाउसों ने दावा किया कि उसे मारे जाने से पहले 'जय श्री राम' बोलने के लिए मजबूर किया गया था, जिसकी वजह से घटना ने सांप्रदायिक मोड़ ले लिया।

नारदा केस में विशेष CBI कोर्ट ने ममता बनर्जी के चारों मंत्रियों को दी जमानत, TMC कार्यकर्ताओं ने किया केंद्रीय बलों पर पथराव

नारदा स्टिंग मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने सोमवार (17 मई 2021) की शाम को ममता बनर्जी के चारों नेताओं को जमानत दे दी।

प्रचलित ख़बरें

जैश की साजिश, टारगेट महंत नरसिंहानंद: भगवा कपड़ा और पूजा सामग्री के साथ जहाँगीर गिरफ्तार, साधु बन मंदिर में घुसता

कश्मीर के रहने वाले जान मोहम्मद डार उर्फ़ जहाँगीर को साधु के वेश में मंदिर में घुस कर महंत यति नरसिंहानंद सरस्वती की हत्या करनी थी।

अल्लाह-हू-अकबर चिल्लाती भीड़ का हमला: यहूदी खून से लथपथ, बचाव में उतरी लड़की का यौन शोषण

कनाडा में फिलिस्तीन समर्थक भीड़ ने एक व्यक्ति पर हमला कर दिया जो एक अन्य यहूदी व्यक्ति को बचाने की कोशिश कर रहा था। हिंसक भीड़ अल्लाह-हू-अकबर का नारा लगाते हुए उसे लाठियों से पीटा।

विनोद दुआ की बेटी ने ‘भक्तों’ के मरने की माँगी थी दुआ, माँ के इलाज में एक ‘भक्त’ MP ने ही की मदद

मोदी समर्थकों को 'भक्त' बताते हुए मल्लिका उनके मरने की दुआ माँग चुकी हैं। लेकिन, जब वे मुश्किल में पड़ी तो एक 'भक्त' ने ही उनकी मदद की।

भारत में दूसरी लहर नहीं आने की भविष्यवाणी करने वाले वायरोलॉजिस्ट शाहिद जमील ने सरकारी पैनल से दिया इस्तीफा

वरिष्ठ वायरोलॉजिस्ट शाहिद जमील ने भारत में कोविड-19 के प्रकोप की गंभीरता की भविष्यवाणी करने में विफल रहने के बाद भारतीय SARS-CoV-2 जीनोम सीक्वेंसिंग कंसोर्टिया (INSACOG) के वैज्ञानिक सलाहकार समूह के अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे दिया।

ईसाई धर्मांतरण की पोल खोलने वाले MP राजू का आर्मी हॉस्पिटल में होगा मेडिकल टेस्ट, AP सीआईडी ने किया था टॉर्चर: SC का आदेश

याचिकाकर्ता (राजू) की मेडिकल जाँच सिकंदराबाद स्थित सैन्य अस्पताल के प्रमुख द्वारा गठित तीन सदस्यीय डॉक्टरों का बोर्ड करेगा।

ओडिशा के DM ने बिगाड़ा सोनू सूद का खेल: जिसके लिए बेड अरेंज करने का लूटा श्रेय, वो होम आइसोलेशन में

मदद के लिए अभिनेता सोनू सूद को किया गया ट्वीट तब से गायब है। सोनू सूद वास्तव में किसी की मदद किए बिना भी कोविड-19 रोगियों के लिए मदद की व्यवस्था करने के लिए क्रेडिट का झूठा दावा कर रहे थे।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,384FansLike
95,681FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe