Monday, July 15, 2024
Homeदेश-समाज14 दिनों के लिए बढ़ाई गई मनीष सिसोदिया की न्यायिक हिरासत, फ़िलहाल ED की...

14 दिनों के लिए बढ़ाई गई मनीष सिसोदिया की न्यायिक हिरासत, फ़िलहाल ED की रिमांड में हैं दिल्ली के पूर्व डिप्टी CM

ईडी ने सिसोदिया पर सबूत नष्ट करने का भी आरोप लगाया था। जाँच एजेंसी ने कहा था कि वे दूसरे लोगों के नाम से सिम कार्ड खरीद कर इस्तेमाल करते थे, ताकि मामला खुलने पर खुद का बचाव कर सकें।

शराब घोटाले के मामले में दिल्ली के पूर्व डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) की मुश्किलें बढ़ती ही जा रही हैं। सोमवार (20 मार्च, 2023) को मामले की सुनवाई करते हुए दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट ने सिसोदिया की न्यायिक हिरासत 14 दिन (3 अप्रैल 2023) तक के लिए बढ़ा दी। फिलहाल AAP नेता शराब घोटाले के मामले में 22 मार्च तक ईडी की रिमांड पर हैं। ऐसे में अगर ईडी (ED) को सिसोदिया की रिमांड नहीं भी मिलती है, तो उन्हें दोबारा तिहाड़ भेजा जाएगा।

इससे पहले दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट ने 10 मार्च 2023 को प्रवर्तन निदेशालय को सिसोदिया की 7 दिन की रिमांड दी थी। हालाँकि, एजेंसी ने 10 दिन की रिमांड माँगी थी, जिसका AAP नेता के वकीलों ने पुरजोर विरोध किया था। ईडी ने अदालत को बताया था कि शराब घोटाले की जाँच में सिसोदिया सहयोग नहीं कर रहे हैं। लिहाजा उन्हें रिमांड पर लेकर पूछताछ जरूरी है।

ईडी ने सिसोदिया पर सबूत नष्ट करने का भी आरोप लगाया था। जाँच एजेंसी ने कहा था कि वे दूसरे लोगों के नाम से सिम कार्ड खरीद कर इस्तेमाल करते थे, ताकि मामला खुलने पर खुद का बचाव कर सकें। ईडी ने अदालत से यह भी कहा था कि शराब घोटाले में मनीष सिसोदिया की सीधी भूमिका है। लाभ का मार्जिन 12 प्रतिशत त​क रखा गया, जो पूरी तरह से नीति के खिलाफ था। जाँच एजेंसी के मुताबिक, कुछ लोगों को फायदा देने के लिए मनीष सिसोदिया ने ये सब किया। शराब की बिक्री के लिए जो नीति तय की गई थी उसका उल्लंघन किया गया।

बता दें कि मनी लॉन्ड्रिंग के केस में 9 मार्च 2023 को करीब 8 घंटे की पूछताछ के बाद ईडी ने सिसोदिया को गिरफ्तार किया था। प्रवर्तन निदेशालय ने उनके ऊपर ये कार्रवाई उनकी जमानत याचिका पर होने वाली सुनवाई से ठीक एक दिन पहले की थी। इससे पहले शराब घोटाला मामले में पूछताछ के बाद सीबीआई ने मनीष सिसोदिया को गिरफ्तार किया था, जिसके बाद सिसोदिया ने सीबीआई की कार्रवाई को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जो प्रधानमंत्री है खालिस्तानी आतंकियों का ‘हमदर्द’, उसने अब दिलजीत दोसांझ को दिया ‘सरप्राइज’: PM ट्रुडो से मिलकर बोले भारतीय सिंगर- विविधता कनाडा की...

कनाडा पीएम ट्रुडो जो हमेशा से खालिस्तानी आतंकियों के 'हमदर्द' बनकर रहे उन्होंने हाल में दिलजीत दोसांझ को कनाडा में 'सरप्राइज' दिया।

कॉन्ग्रेस के चुनावी चोचले ने KSRTC का भट्टा बिठाया, ₹295 करोड़ का घाटा: पहले महिलाओं के लिए बस सेवा फ्री, अब 15-20% किराया बढ़ाने...

कर्नाटक में फ्री बस सेवा देने का वादा करना कॉन्ग्रेस के लिए आसान था लेकिन इसे लागू करना कठिन। यही वजह है कि KSRTC करोड़ों के नुकसान में है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -