Sunday, September 19, 2021
Homeराजनीतिआतंकवाद से लड़ने में PM मोदी जितने कठोर नहीं थे मनमोहन सिंह: शीला दीक्षित

आतंकवाद से लड़ने में PM मोदी जितने कठोर नहीं थे मनमोहन सिंह: शीला दीक्षित

शीला दीक्षित ने स्वीकार किया कि 26/11 के मुंबई आतंकी हमलों के बाद पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की प्रतिक्रिया, पुलवामा आतंकी हमले के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरह मजबूत और दृढ़ नहीं थी।

एक और जहाँ गाँधी परिवार जमीन घोटाले में अपने नाम मीडिया में आने के कारण परेशान चल रहा है, वहीं दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने आज एक बयान दिया है, जिसके कारण कॉन्ग्रेस में बवंडर मच सकता है। पुलवामा आतंकी हमले के बाद से कॉन्ग्रेस लगातार ये माहौल बनाने के प्रयास कर रही है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आतंकवाद पर ठीक तरह से कार्रवाई नहीं कर रहे हैं।

बृहस्पतिवार (मार्च 14, 2019) को एक निजी चैनल को दिए इंटरव्यू में शीला दीक्षित ने स्वीकार करते हुए कहा कि मनमोहन सिंह आतंकवाद से लड़ने में उतने कठोर नहीं थे, जितने कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हैं। हालाँकि, शीला दीक्षित ने यह भी कहा है कि नरेंद्र मोदी के ज्यादातर काम राजनीति से प्रेरित होने के साथ ही राजनीतिक लाभ उठाने के लिए होते हैं। इस बयान के सामने आने के बाद शीला दीक्षित ने सफाई देते हुए कहा है, “मनमोहन सिंह का आतंकवाद को लेकर उतना कड़ा कदम नहीं होता, जितना कि पीएम मोदी उठाते हैं। अगर मेरे बयान को किसी दूसरी तरह पेश किया जा रहा है तो मैं कुछ नहीं कह सकती।”

दिल्ली कॉन्ग्रेस प्रमुख शीला दीक्षित ने स्वीकार किया कि 26/11 के मुंबई आतंकी हमलों के बाद पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की प्रतिक्रिया, पुलवामा आतंकी हमले  के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरह मजबूत और दृढ़ नहीं थी।

शीला दीक्षित के इस बयान के बाद दिल्ली मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल, जिन्हें आजकल सोशल मीडिया पर आत्ममुग्ध बौने के नाम से भी ‘वायरल’ किया जा रहा है, तुरंत एक्शन में आ गए हैं। उन्होंने शीला दीक्षित के इस बयान पर ट्वीट करते हुए कहा, “शीला जी का ये बयान वाक़ई चौंकाने वाला है। भाजपा और कॉन्ग्रेस में कुछ तो खिचड़ी पक रही है।” वहीं मनीष सिसोदिया ने भी ट्वीट में लिखा है, “हम तो पहले से ही कह रहे थे कि इस बार कॉन्ग्रेस, मोदी जी को दोबारा पीएम बनाने पर काम कर रही है।”

इन सबसे ज्यादा चौंकाने वाली बात यह है कि इस सब जानकारी के बाद भी केजरीवाल लगातार हर दूसरे दिन कॉन्ग्रेस के सामने गिड़गिड़ाते हुए गठबंधन की भीख माँग रहे हैं। इसी कड़ी में आज हरियाणा कॉन्ग्रेस प्रमुख ने भी केजरीवाल की गठबंधन की पेशकश को लगभग रद्द कर दिया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सिब्बल की राह पर थरूर, कॉन्ग्रेसी आलाकमान पर साधा निशाना, कहा – ‘पार्टी को तुरंत नए नेतृत्व की जरूरत’

"सोनिया गाँधी के खिलाफ किसी ने एक शब्द नहीं कहा, लेकिन वह खुद से ही पद छोड़ना चाहती हैं। नए नेतृत्व को जल्द से जल्द पद सँभाल लेना चाहिए।"

पंजाब के बाद राजस्थान में फँसी कॉन्ग्रेस: सचिन पायलट दिल्ली में, CM अशोक गहलोत के OSD का इस्तीफा

इस्तीफे की वजह लोकेश शर्मा द्वारा किया गया एक ट्वीट बताया जा रहा है जिसके बाद कयासों का नया दौर शुरू हो गया था और उनके ट्वीट को पंजाब के घटनाक्रम के साथ भी जोड़कर देखा जाने लगा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,150FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe