Saturday, July 20, 2024
Homeराजनीतिसंकट में शिवसेना का नाम, निशान और झंडा: राज ठाकरे की MNS ने मुंबई...

संकट में शिवसेना का नाम, निशान और झंडा: राज ठाकरे की MNS ने मुंबई में पोस्टर लगा कसा तंज, पूछा- अब कैसा लग रहा है?

राज ठाकरे की महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) के कार्यकर्ताओं ने शिवसेना पर पोस्टर वॉर करते हुए तंज कसा है। मनसे ने पोस्टर में पूछा है, "अब कैसा लग रहा है।"

आज शिवसेना में बगावत के कारण महाराष्‍ट्र की महा विकास अघाड़ी सरकार संकट में पड़ गई है। इस बार बगावत किसी अपने नहीं बल्कि बाहरी ने की है। बागी MLA एकनाथ शिंदे ने उद्धव ठाकरे के पैरों तले जमीन खिसका दी है। ऐसे में शिवसेना (Shiv sena) में बगावत के बीच राज ठाकरे की महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) ने इस विवाद में एंट्री मारते हुए शुक्रवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर निशाना साधा है।

महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे की शिवसेना जहाँ टूटने के कगार पर पहुँच गई है। वहीं राज ठाकरे की महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) के कार्यकर्ताओं ने शिवसेना पर पोस्टर वॉर करते हुए तंज कसा है। मनसे ने पोस्टर में पूछा है, “अब कैसा लग रहा है।” शिवसेना पर तंज कसता हुआ यह होर्डिंग मुंबई के साकीनाका इलाके में लगाया गया है।

मराठी में पोस्टर में लिखा है, “उस समय हमारे नगर सेवकों को फोड़ा था। यह कैसा लगता है?” पोस्टर में महेंद्र भानुशाली का नाम भी है। गौरतलब है कि बीते दिनों राज्य में लाउडस्पीकर पर अजान के विवाद -को लेकर राज ठाकरे और उद्धव ठाकरे आमने-सामने आ गए थे। माना जा रहा है कि हिन्दुत्व की विचारधारा को कुचलने के बाद शिवसेना के सियासी हालात को लेकर ही मनसे की तरफ से जले में नमक छिड़कने का काम किया गया है।

बता दें कि राज ठाकरे ने पिछले महीने 4 मई को अजान विवाद के बीच ऐलान किया था कि राज्य में जिस भी जगह लाउडस्पीकर पर अजान होगी वहीं पर हनुमान चालीसा बजाएँगे। उन्होंने आरोप लगाए थे कि स्कूल या अस्पताल के नाम पर हिंदू त्योहारों पर साइलेंस जोन के जरिए पाबंदियाँ लगा दी जाती हैं, लेकिन ऐसी पाबंदियों से मस्जिदों को छूट है।

बहरहाल मौजूदा विवाद ये है कि कभी शिवसेना के खास रहे एकनाथ शिंदे पार्टी से नाराज होकर अपने साथ विधायकों का एक जत्था लेकर गुवाहाटी चले गए हैं। उनके समर्थन में बताया जा रहा है कि शिवसेना के बागी विधायकों समेत अब तक कुल 50 विधायक भी आ गए हैं। उद्धव ठाकरे के सामने पार्टी के नाम, निशान, झंडे के रंग और उसके प्रतीकों पर तक बात आ गई है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -