Tuesday, September 27, 2022
Homeराजनीति'जहाँ माइक से अजान वहीं बजाएँगे हनुमान चालीसा': राज ठाकरे की दो टूक,...

‘जहाँ माइक से अजान वहीं बजाएँगे हनुमान चालीसा’: राज ठाकरे की दो टूक, पूछा- अभी भी 135 मस्जिदों पर लाउडस्पीकर क्यों

"महाराष्‍ट्र के गृह मंत्रालय ने बताया है कि मुंबई में 1140 मस्जिदें हैं जहाँ पर 135 लाउडस्‍पीकरों का इस्‍तेमाल आज सुबह 6 बजे तक किया गया। सुप्रीम कोर्ट के फैसले खिलाफ उठाए गए इन मस्जिदों के खिलाफ सरकार क्या कदम उठा रही है।"

महाराष्ट्र में मनसे प्रमुख राज ठाकरे की अपील का असर होता नजर आ रहा है। खबर है कि बुधवार (4 मई, 2022) सुबह मुंबई के एक इलाके में नमाज के दौरान लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा चलाया गया। वहीं हाल ही में राज ठाकरे द्वारा महा आरती करने के ऐलान और उनके द्वारा लिखे गए एक खुले पत्र के बाद इस मामले ने और तूल पकड़ लिया है। अपने बयान में ठाकरे ने आरोप लगाए थे कि स्कूल या अस्पताल के नाम पर हिंदू त्योहारों पर साइलेंस जोन के जरिए पाबंदियाँ लगा दी जाती हैं, लेकिन ऐसी पाबंदियों से मस्जिदों को छूट है।

राज ठाकरे ने कहा कि महाराष्‍ट्र के गृह मंत्रालय ने बताया है कि मुंबई में 1140 मस्जिदें हैं जहाँ पर 135 लाउडस्‍पीकरों का इस्‍तेमाल आज सुबह 6 बजे तक किया गया। सुप्रीम कोर्ट के फैसले खिलाफ उठाए गए इन मस्जिदों के खिलाफ सरकार क्या कदम उठा रही है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, महाराष्‍ट्र में लाउडस्‍पीकर के मुद्दे पर राज्‍य सरकार को घेरते हुए मनसे चीफ राज ठाकरे ने कहा है कि जब तक समूचे राष्‍ट्र की मस्जिदों से लाउडस्‍पीकर नहीं उतरते हैं तब तक आंदोलन जारी रहेगा। उन्होंने आगे चेतावनी देते हुए कहा कि ये धार्मिक नहीं बल्कि सामाजिक मसला है। यदि सरकार या दूसरा पक्ष उनकी बातों को नहीं मानता है तो वो भी उसको उसकी ही भाषा में जवाब देंगे।

बता दें कि इससे पहले अपने पत्र में राज ठाकरे ने लिखा था, “यदि बुधवार से किसी भी मस्जिद से लाउडस्‍पीकर से आवाज आई तो वो वहाँ पर हनुमान चालिसा का पाठ उसी तरह से करेंगे।” इसको देखते हुए महाराष्ट्र सरकार ने न सिर्फ मस्जिदों की सुरक्षा व्‍यवस्‍था को चाक-चौबंद कर दिया है बल्कि राज ठाकरे के घर के बाहर भी सुरक्षा व्‍यवस्‍था को सख्त किया गया है।

वहीं कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी से भड़के राज ठाकरे ने कहा, “पूरे महाराष्‍ट्र में अलग-अलग जगहों पर पुलिस ने करीब 250 एमएनएस कार्यकर्ताओं को हनुमान चालीसा का लाउडस्‍पीकर से पाठ कराने पर हिरासत में लिया है। पुणे में पुलिस ने एमएनएस के महासचिव अजय शिंदे को भी 6 अन्‍य लोगों के साथ महाआरती करने पर हिरासत में लिया है।”

राज ठाकरे ने कहा, “मैं महाराष्ट्र में शांति चाहता हूँ हिंसा नहीं चाहता हूँ। चार तारीख के बाद अगर लाउडस्पीकर चलाए गए तो हम लोग लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा चलाएँगे। महाराष्ट्र में 1400 से 1500 मस्जिदों में से 135 मस्जिदों के ऊपर सुप्रीम कोर्ट के नियम तोड़कर लाउडस्पीकर पर अजान पढ़ी गई। मैं महाराष्ट्र की पुलिस और महाराष्ट्र सरकार से पूछ रहा हूँ इन 135 मस्जिदों पर कौन सी कार्रवाई कर रहे हैं। ये एक दिन का आंदोलन नहीं है ये जारी रहेगा। अगर सुप्रीम कोर्ट की ओर से तय डेसिबल के मुताबिक आवाज नहीं होगी तो कार्रवाई होनी चाहिए। जब तक ये लाउडस्पीकर बंद नहीं होते हैं और मस्जिदों से नहीं उतरते हैं, हमारा आंदोलन जारी रहेगा। हम लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा पढ़ेंगे।”

इस मामले में पुणे के कमिश्‍नर अमिताभ गुप्‍ता का कहना है कि हालात पूरी तरह से काबू में हैं। अधिकतर मस्जिदों से अजान लाउडस्‍पीकरों से नहीं दी गई और सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइंस का पूरा पालन किया गया है। शहर में शांति व्‍यवस्‍था बनाए रखने के लिए 2500 पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है।

वहीं शिवसेना नेता संजय राउत ने राज ठाकरे के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि राज्‍य में कोई भी गैरकानूनी लाउडस्पीकर नहीं चल रहा है। उन्‍होंने आरोप लगाया है कि राज ठाकरे माहौल खराब करने की कोशिश कर रहे हैं। पूरे देश में लाउडस्पीकर को लेकर कानून बना है उसका पालन महाराष्ट्र में भी किया जा रहा है। संजय राउत ने ये भी कहा है कि शिवसेना ही असली हिंदुत्‍व है। उनका कहना है कि बाल ठाकरे और वीर सावरकर ने ही देश को हिंदुत्‍व का पाठ पढ़ाया। राज्‍य में कहीं भी विरोध प्रदर्शन नहीं हो रहा है।

राज ठाकरे के खिलाफ मामला दर्ज

गौरतलब है कि राज ठाकरे की मुश्किलें उस वक्त और बढ़ गईं, जब औरंगाबाद पुलिस ने दो दिन पहले ही मस्जिदों के ऊपर लाउडस्पीकर संबंधी उनके भड़काऊ भाषण को लेकर उनके खिलाफ मामला दर्ज किया। वहीं, महाराष्ट्र के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) ने कहा कि इस मुद्दे पर उनके खिलाफ उचित कानूनी कार्रवाई की जाएगी। इससे संबंधित घटनाक्रम में, पश्चिमी महाराष्ट्र के सांगली जिले की एक अदालत ने 14 साल पुराने एक मामले में राज ठाकरे के खिलाफ एक गैर-जमानती वारंट जारी किया है, जबकि मुंबई पुलिस ने उन्हें संज्ञेय अपराधों की रोकथाम से संबंधित सीआरपीसी की एक धारा के तहत नोटिस जारी किया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘भारत जोड़ो यात्रा’ छोड़ कर दिल्ली पहुँचे कॉन्ग्रेस के महासचिव, कमलनाथ-प्रियंका से भी मिलीं सोनिया गाँधी: राजस्थान के बागी बोले- सड़कों पर बहा सकते...

राजस्थान में जारी सियासी घमासान के बीच कॉन्ग्रेस हाईकमान के सामने मुश्किल खड़ी हो गई है। वेणुगोपाल और कमलनाथ दिल्ली पहुँच गए हैं।

अब इटली में भी इस्लामी कट्टरपंथियों की खैर नहीं, वहाँ बन गई राष्ट्रवादी सरकार: देश को मिली पहली महिला PM, तानाशाह मुसोलिनी की हैं...

इटली के पूर्व तानाशाह बेनिटो मुसोलिनी की कभी समर्थक रहीं जॉर्जिया मेलोनी इटली की पहली प्रधानमंत्री बनने जा रही हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
224,428FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe