Sunday, July 14, 2024
Homeराजनीतिलद्दाख का हीरो: बीजेपी सांसद का भव्य स्वागत, Article 370 पर विरोधियों को कर...

लद्दाख का हीरो: बीजेपी सांसद का भव्य स्वागत, Article 370 पर विरोधियों को कर दिया था बेनकाब

केन्द्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त कर राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में विभाजित कर दिया है। सांसद जाम्यांग ने इस बिल पर चर्चा के दौरान विरोध कर रही पार्टियों की पोल खोल कर रख दी थी।

केंद्र शासित राज्य का दर्जा मिलने के बाद लद्दाख में जश्न का माहौल है। बीते दिनों लोकसभा में अपने भाषण से सुर्ख़ियाँ बटोरने वाले 34 वर्षीय सांसद जाम्यांग त्सेरिंग नामग्याल शनिवार (10 अगस्त) को लद्दाख पहुँचे। यहाँ पहुँचने पर लोगों ने उनका भव्य स्वागत किया।

लोगों का अभिवादन करने के बाद जाम्यांग लेह स्थिक मॉरवियन चर्च, मस्जिद और भगवान बुद्ध के मंदिर गए। इस दौरान उन्होंने लद्दाख के लोगों की समृद्धि के लिए प्रार्थना भी की। इसके बाद वो जामियांग लेह स्थित मुख्य बाज़ार गए जहाँ उन्होंने स्थानीय लोगों से बातचीत की।

ग़ौरतलब है कि केन्द्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त कर राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में विभाजित कर दिया है। सांसद जाम्यांग ने आर्टिकल 370 को निष्प्रभावी करने पर हुई चर्चा के दौरान विरोध कर रही पार्टियों की पोल खोल कर रख दी थी।

लोकसभा में दिए उनके भाषण की तारीफ़ प्रधानमंत्री मोदी ने भी की थी। अपने भाषण में नामग्याल ने कई महत्वपूर्ण बिंदु गिनाए थे। उन्होंने शुरुआत पूर्व-प्रधानमंत्री नेहरू पर तंज़ कसते हुए की। उन्होंने कहा कि 70 साल से लद्दाख को कश्मीर के साथ रखने वालों को वहाँ की स्थानीय संस्कृति, वहाँ की सभ्यता, वहाँ की आकांक्षाओं के बारे में ज्ञान नहीं था; उनके लिए तो यह बंजर भूमि थी जिस पर घास का तिनका भी नहीं उगता।

मालूम हो कि अक्साई चिन पर चीन के कब्ज़े पर पंडित नेहरू ने संसद में कहा था कि अरुणाचल और लद्दाख के पहाड़ों पर तो एक पत्ता घास का भी नहीं उगता, तो ऐसे में उनकी समझ में नहीं आ रहा कि उसके पीछे संसद का कीमती समय बर्बाद करने का क्या मतलब है

नामग्याल ने कहा था कि लद्दाख के लोगों ने शुरू से ही सरकार को बता दिया था कि उन्हें कश्मीर के अलावा किसी भी और तरीके से देश में रहना मंज़ूर है- भले ही वह केंद्र-शासित प्रदेश (UT) के रूप में हो। हिंदी में बोल रहे नामग्याल ने कहा कि हिंदुस्तान का हिस्सा बने रहने के लिए ही लद्दाख ने 70 साल UT बनने की लड़ाई लड़ी, लेकिन पिछली सरकारों ने लद्दाख को ‘फेंककर’ रखा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -