Thursday, January 27, 2022
Homeराजनीतिघाटी में हलचल से सहमे विपक्षी दल, उमर अब्दुल्ला और महबूबा ने बुलाई आपात...

घाटी में हलचल से सहमे विपक्षी दल, उमर अब्दुल्ला और महबूबा ने बुलाई आपात बैठक

अमरनाथ यात्रा पर आतंकी हमले का खुफिया इनपुट मिलने के बाद राज्य सरकार के गृह विभाग ने पर्यटकों और श्रद्धालुओं को जल्द से जल्द कश्मीर घाटी छोड़ने की सलाह देते हुए एक एडवाइजरी जारी किया है।

आतंकी हमले के मद्देनजर घाटी में मौजूद श्रद्धालुओं और पर्यटकों के लिए जारी एडवाइजरी और अतिरिक्त जवानों की तैनाती से जम्मू-कश्मीर के राजनीतिक दल सहम गए हैं। तरह-तरह की अटकलों के बीच पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला की पार्टी नेशनल कान्फ्रेंस, महबूबा मुफ़्ती की पीडीपी और जम्मू-कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट ने आपात बैठक बुलाई है।

महबूबा मुफ्ती ने ट्वीट करते हुए लिखा है, “आप (केंद्र सरकार) इकलौते मुस्लिम बहुल राज्य का प्यार जीतने में नाकाम रहे हैं, जिसने धार्मिक आधार पर विभाजन को खारिज कर सेक्युलर इंडिया को चुना। अब चीजें बदल गई हैं और भारत ने लोगों के ऊपर भूभाग को चुना है।”

एक अन्य ट्वीट में महबूबा ने लिखा है, “मुफ्ती साहब ( महबूबा के मरहूम पिता) हमेशा कहा करते थे कि कश्मीरी जो कुछ भी पाएँगे, वह अपने देश भारत से ही पाएँगे। लेकिन आज लगता है कि वही देश कश्मीरियों के पास अपनी अनूठी पहचान की रक्षा करने के लिए जो कुछ भी थोड़ा बहुत बचा है, उसको छीनने की तैयारी कर रहा है।”

वहीं, उमर अब्दुल्ला ने कश्मीर घाटी से तीर्थयात्रियों और पर्यटकों को जल्द से जल्द लौटने संबंधी एडवाइजरी के तुक पर सवाल उठाया है। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, “मुझे यह समझ में नहीं आ रहा है कि जब सरकार विदेशी और भारतीय पत्रकारों की टीम पर पैसे बहाकर उन्हें यह बता रही है कि कश्मीर के हालात कितने अच्छे हैं और यात्रा कितनी अच्छी चल रही है तो फिर यात्रियों और पर्यटकों को तत्काल लौटने का यह आदेश क्यों जारी किया गया है?”

हालाँकि, कश्मीर के डिविजनल कमिश्नर का कहना है कि कश्मीर को लेकर चलाई जा रही अफवाहों पर ध्यान ना दें। उन्होंने कहा कि यहाँ पर कोई भी स्कूल बंद नहीं कराए गए हैं।

गौरतलब है कि अमरनाथ यात्रा पर आतंकी हमले का खुफिया इनपुट मिलने के बाद राज्य सरकार के गृह विभाग ने पर्यटकों और श्रद्धालुओं को जल्द से जल्द कश्मीर घाटी छोड़ने की सलाह देते हुए एक एडवाइजरी जारी किया है। इसके अलावा सेना ने भी शुक्रवार को कुछ ऐसे सबूत सामने रखे जो कश्मीर में आतंकवाद के पीछे पाकिस्तानी सेना का हाथ होने की पुष्टि करते हैं।

चिनार कॉर्प्स के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्लन ने पत्रकारों को बताया कि आतंकवादियों के पास से पाकिस्तान सेना की लैंडमाइंस बरामद की गई है। उन्होंने बताया कि अमरनाथ यात्रा रूट से अमेरिकन स्नाइपर राइफल एम-24 भी बरामद की गई है। सेना के मुताबिक श्रद्धालुओं को निशाना बनाने के लिए आईईडी ब्लास्ट करने की साजिश रची गई थी।

इससे पहले केन्द्र सरकार ने घाटी में अतिरिक्त जवानों की तैनाती का आदेश दिया था। इसके बाद से अनुच्छेद 35-ए को हटाने की अटकलें जोरों पर है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘योगी जैसा मुख्यमंत्री मुलायम सिंह और अखिलेश भी नहीं रहे’: सपा के खिलाफ प्रचार पर बोलीं अपर्णा यादव- ‘पार्टी जो कहेगी करूँगी’

अपर्णा यादव ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तारीफ करते हुए कहा कि उन्हें मेरा समाजसेवा का काम दिखा था, जबकि अखिलेश यह नहीं देख पाए।

धर्मांतरण के दबाव से मर गई लावण्या, अब पर्दा डाल रही मीडिया: न्यूज मिनट ने पूछा- केवल एक वीडियो में ही कन्वर्जन की बात...

लावण्या की आत्महत्या पर द न्यूज मिनट कहता है कि वॉर्डन ने अधिक काम दे दिया था, जिससे लावण्या पढ़ाई में पिछड़ गई थी और उसने ऐसा किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
153,876FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe