Sunday, June 23, 2024
Homeराजनीतिसुप्रीम कोर्ट ने NCP की 'घड़ी' अजित पवार को सौंपी, लेकिन लगा दी एक...

सुप्रीम कोर्ट ने NCP की ‘घड़ी’ अजित पवार को सौंपी, लेकिन लगा दी एक शर्त: शरद पवार को मिला ‘तुरही बजाता आदमी’

सुप्रीम कोर्ट ने एनसीपी के चुनाव निशान को लेकर फैसला दिया है कि लोकसभा चुनाव में फिलहाल अजित पवार घड़ी सिंबल का ही इस्तेमाल करेंगे। कोर्ट ने शरद पवार गुट के लिए 'तुरहा बजाता व्यक्ति' चुनाव निशान निर्धारित किया है।

सुप्रीम कोर्ट ने एनसीपी के चुनाव निशान को लेकर फैसला दिया है कि लोकसभा चुनाव में फिलहाल अजित पवार घड़ी सिंबल का ही इस्तेमाल करेंगे। कोर्ट ने शरद पवार गुट के लिए ‘तुरहा बजाता व्यक्ति’ चुनाव निशान निर्धारित किया है। सुप्रीम कोर्ट ने शरद पवार की अजित पवार गुट को घड़ी सिंबल न देने की माँग नामंजूर कर दी।

सुप्रीम कोर्ट में एनसीपी के चुनाव निशान को लेकर आदेश आया है। इस आदेश से अजित पवार गुट को राहत मिली है, हालाँकि ये अस्थाई है। सुप्रीम कोर्ट ने अजित पवार गुट को एनसीपी के चुनाव निशान घड़ी के इस्तेमाल की इजाजत तो दे दी है, साथ ही कोर्ट ने अजित पवार गुट से ये भी कहा कि वो सार्वजनिक रूप से विज्ञापन देकर बताएं कि उनके चुनाव चिह्न घड़ी का मामला अदालत में है।

सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया कि एनसीपी अजित पवार को अंग्रेजी, हिंदी, मराठी के अखबारों में विज्ञापन देकर बताएं कि उनके इलेक्शन सिंबल घड़ी का मामला कोर्ट में विचाराधीन है। इस पर अंतिम निर्णय कोर्ट में सुनवाई के बाद ही होगा। एनसीपी-अजित पवार को घड़ी चुनाव चिह्न के कोर्ट में विचाराधीन होने को हर टेम्प्लेट, ऐड, ऑडियो-वीडियो क्लिप में भी बताना होगा।

इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार (19 मार्च 2024) को एनसीपी-शरद चंद्र पवार को चुनाव चिह्न ‘तुरही बजाता आदमी’ को मंजूरी दे दी। सुप्रीम कोर्ट ने शरद गुट को लोकसभा चुनाव एनसीपी-शरदचंद्र पवार नाम से ही लड़ने की परमिशन दे दी। कोर्ट ने चुनाव आयोग को भी निर्देश दिया कि वह लोकसभा-विधानसभा चुनावों के लिए दूसरों को तुरही बजाता आदमी चिह्न न दे।

सुप्रीम कोर्ट ने शरद गुट की उस याचिका पर सुनवाई की थी, जिसमें कहा गया था कि अजित गुट अपने फायदे के लिए शरद पवार का नाम और फोटो इस्तेमाल कर रहा है। हालाँकि अब अजित पवार ने साफ कर दिया है कि वो शरद पवार की जगह यशवंतराव चव्हाण का नाम और फोटो इस्तेमाल कर रहे हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किसानों के आंदोलन से तंग आ गए स्थानीय लोग: शंभू बॉर्डर खुलवाने पहुँची भीड़, अब गीदड़-भभकी दे रहे प्रदर्शनकारी

किसान नेताओं ने अंबाला शहर अनाज मंडी में मीडिया बुलाई, जिसमें साफ शब्दों में कहा कि आंदोलन खराब नहीं होना चाहिए। आंदोलन खराब करने वाला खुद भुगतेगा।

‘PM मोदी ने किया जी अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन का उद्घाटन, गिर गई उसकी दीवार’: News24 ने फेक न्यूज़ परोस कर डिलीट की ट्वीट,...

अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन से जुड़े जिस दीवार के दिसंबर 2023 में बने होने का दावा किया जा रहा है, वो दावा पूरी तरह से गलत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -