Monday, April 15, 2024
Homeराजनीति2 बच्चों की माँ जो पाकिस्तान में पैदा हुईं, सितंबर में भारत की नागरिक...

2 बच्चों की माँ जो पाकिस्तान में पैदा हुईं, सितंबर में भारत की नागरिक बनी और अब लड़ रहीं चुनाव

नीता का कहना है कि सीएए से शरणार्थियों को भारत में अच्छा जीवन-यापन करने और अच्छी शिक्षा हासिल करने में मदद मिलेगी। वह खुद लैंगिक समानता, महिला सशक्तिकरण, लड़कियों के लिए शिक्षा और उचित चिकित्सा सुविधाओं के लिए काम करना चाहती हैं।

पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान के प्रताड़ित अल्पसंख्यकों को नागरिकता का मार्ग प्रशस्त करने वाले नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर वर्ग विशेष के विरोध और विपक्षी दलों की अफवाहों से आप परिचित हैं। सीएए के छिटपुट विरोध के बीच एक ऐसी खबर सामने आई है जो बताती है कि नागरिकता से कैसे इनका जीवन बदल सकता है।

भारत आने के 18 साल बाद नीता कंवर को पिछले साल सितंबर में नागरिकता मिली थी। वह 2001 में अपनी बड़ी बहन अंजना सोढा के साथ पाकिस्तान के सिंध के मीरपुर-खास से राजस्थान के जोधपुर आई थीं। दो बच्चों की मॉं नीता अब राजस्थान के पंचायत चुनावों में अपनी किस्मत आजमा रही हैं।

36 साल की नीता ने 17 जनवरी को नामांकन दाखिल किया। उनका कहना है कि सीएए के जरिए भारत में अच्छा जीवन-यापन करने और अच्छी शिक्षा हासिल करने में मदद मिलेगी। मीडिया रिपोर्टों में बताया गया है कि वह टोंक जिले की नटवारा ग्राम पंचायत का सरपंच बनने के लिए चुनाव लड़ रही हैं। अजमेर के सोफिया गर्ल्स कॉलेज की ग्रेजुएट नीता के हवाले से टाइम्स ऑफ इंडिया ने बताया है, “मुझे पिछले साल सितंबर में टोंक कलेक्टर कार्यालय में नागरिकता प्रमाण-पत्र प्रदान किया गया था। अब मैं पंचायत चुनाव लड़ रही हूॅं।”

नीता जिस सीट से मैदान में हैं उस पर तीन बार उनके ससुर का कब्जा रहा है। वह टोंक जिले के उपखंड निवाई की पंचायत नटवाड़ा के एक राजपूत परिवार की बहू हैं। दैनिक भास्कर ने नीता के हवाले से बताया है की 2011 में उनकी शादी पुण्य प्रताप करण से हुई थी। उनके ससुराल की पृष्ठभूमि राजनीतिक रही है। राजनीति में आने की प्रेरणा उन्हें ससुर ठाकुर लक्ष्मण करण से मिली।

नीता ने बताया, “मैं एक सामान्य सीट पर चुनाव लड़ रही हूॅं। लेकिन यह महिलाओं के लिए आरक्षित है। मैं लैंगिक समानता, महिला सशक्तिकरण, सभी लड़कियों के लिए शिक्षा और उचित चिकित्सा सुविधाओं के लिए काम करना चाहती हूॅं। मुझे बहुत समर्थन मिल रहा है।” मीडिया रिपोर्टों के अनुसार नीता जमकर प्रचार कर रही हैं। वोट मॉंगने के लिए जब वह घरों में जाती हैं तो राजस्थानी परंपरा के अनुसार गॉंव की महिलाएँ शगुन वगैरह का रस्म निभाती हैं।

इस उन्माद, मजहबी नारों के पीछे साजिश गहरी… क्योंकि CAA से न जयंती का लेना है और न जोया का देना

CAA पर बवाल के बीच… Pak से प्रताड़ना का शिकार होकर भागे 7 शरणार्थियों को मिली नागरिकता

CAA को लेकर 9 बड़े प्रश्न और उनके उत्तर: वामपंथियों के हर प्रपंची सवाल का जवाब जानें यहाँ

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली में मनोज तिवारी Vs कन्हैया कुमार के लिए सजा मैदान: कॉन्ग्रेस ने बेगूसराय के हारे को राजधानी में उतारा, 13वीं सूची में 10...

कॉन्ग्रेस की ओर से दिल्ली की चांदनी चौक सीट से जेपी अग्रवाल, उत्तर पूर्वी दिल्ली से कन्हैया कुमार, उत्तर पश्चिम दिल्ली से उदित राज को टिकट दिया गया है।

‘सूअर खाओ, हाथी-घोड़ा खाओ, दिखा कर क्या संदेश देना चाहते हो?’: बिहार में गरजे राजनाथ सिंह, कहा – किसने अपनी माँ का दूध पिया...

राजनाथ सिंह ने गरजते हुए कहा कि किसने अपनी माँ का दूध पिया है कि मोदी को जेल में डाल दे? इसके बाद लोगों ने 'जय श्री राम' की नारेबाजी के साथ उनका स्वागत किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe