दब्बू होते हैं उत्तर भारत के वोटर, दक्षिण भारतीयों की तरह शिक्षित भी नहीं: कॉन्ग्रेसी शमा मोहम्मद ने उड़ाया मजाक

शमा मोहम्मद ने आरोप लगाया कि मीडिया के लोग भाजपा प्रवक्ताओं से सवाल नहीं पूछते। उन्होंने दावा किया कि यूपीए के समय में हुए सर्जिकल स्ट्राइक्स को लेकर भी मीडिया ने भाजपा नेताओं से सवाल नहीं पूछे।

कॉन्ग्रेस की नेशनल मीडिया पैनलिस्ट शमा मोहम्मद ने दक्षिण भारतीय मतदाताओं को शिक्षित और उत्तर भारतीय मतदाताओं को अशिक्षित बताया है। हार्वेस्ट टीवी न्यूज़ चैनल पर कॉन्ग्रेस पार्टी की तरफ़ से एक बहस में हिस्सा लेते हुए शमा ने ये बातें कहीं। एग्जिट पोल्स के नतीजों से बौखलाई शमा ने कहा कि उत्तर भारत के मतदाता दक्षिण भारतीय मतदाताओं की तरह शिक्षित नहीं होते और वे मीडिया पर विश्वास जताते हैं। शमा ने कहा कि उत्तर भारतीय मतदाताओं को काफ़ी आसानी से और जल्दी प्रभावित किया जा सकता है। कॉन्ग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल समर्थित हार्वेस्ट टीवी पर बोलते हुए शमा ने ऐसा कहा।

डिबेट की एंकरिंग कर रहीं वरिष्ठ पत्रकार बरखा दत्त ने जब शमा मोहम्मद से पूछा कि अगर एग्जिट पोल्स सही साबित हो जाते हैं, तब वह क्या कहेंगी? इस पर शमा ने कहा कि उत्तर भारत के वोटर्स व्हाट्सप्प पर आई चीजों पर आसानी से विश्वास करते हैं और जल्दी प्रभावित किए जा सकते हैं। उन्होंने कहा कि उत्तर भारतीयों के पास अक्सर व्हाट्सप्प सन्देश आते रहते हैं। भारतीय वायुसेना द्वारा की गई बालाकोट एयर स्ट्राइक पर नाराज़गी जताते हुए शमा मोहम्मद ने कहा कि इसके ऊपर मीडिया द्वारा सवाल नहीं पूछे गए।

शमा मोहम्मद ने आरोप लगाया कि मीडिया के लोग भाजपा प्रवक्ताओं से सवाल नहीं पूछते। उन्होंने दावा किया कि यूपीए के समय में हुए सर्जिकल स्ट्राइक्स को लेकर भी मीडिया ने भाजपा नेताओं से सवाल नहीं पूछे। बहस के दौरान स्वराज इंडिया के संस्थापक योगेंद्र यादव ने कॉन्ग्रेस पर मुद्दों को ठीक से न उठाने का आरोप लगाया। योगेंद्र यादव ने कहा कि मुख्य विपक्षी पार्टी होने के बावजूद कॉन्ग्रेस ने कई मुद्दों को ठीक से जनता के सामने नहीं रखा। बरखा दत्त के शो में शमा ने इजराइल और ऑस्ट्रेलिया के एग्जिट पोल्स का उदाहरण देते हुए सारे एग्जिट ग़लत होने की संभावना जताई।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

योगेंद्र यादव के आरोपों का जवाब देते हुए शमा मोहम्मद ने कहा कि राहुल गाँधी ने अपनी हर एक जनसभा में बेरोज़गारी से लेकर किसानों तक के मुद्दे उठाए, कॉन्ग्रेस ने हर मुद्दे को जनता के बीच ले जाने की हरसंभव कोशिश की। शमा ने योगेंद्र यादव को भी खरी-खरी सुनाई। उन्होंने कहा कि यादव ने कॉन्ग्रेस पर आरोप लगाने की बजाए ख़ुद के प्रत्याशी क्यों नहीं खड़े किए? शमा मोहम्मद ने पूर्व आप नेता से पूछा कि उन्होंने नोटा का समर्थन क्यों किया? उन्होंने योगेंद्र यादव पर निशाना साधते हुए कहा कि लोकतंत्र में सभी को वोट करने की अनुमति होनी चाहिए।

12:45 के बाद सुनें शमा मोहम्मद का विवादस्पद बयान (साभार: हार्वेस्ट टीवी न्यूज़)

सोमवार (मई 20, 2019) को एक अन्य कॉन्ग्रेस नेता उदित राज ने भी अपने एक विवादस्पद ट्वीट में लिखा था कि केरल के लोग शिक्षित होते हैं, इसीलिए वो भाजपा को वोट नहीं करते। इस पर हमने आँकड़े गिनाए थे कि कैसे भारत से आतंकी संगठन आईएसआईएस ज्वाइन करने वाले सबसे ज्यादा केरल के ही लोग हैं। उदित राज ने इस दौरान साक्षरता और शिक्षा के बीच का अंतर भूलकर अपनी नासमझी का परिचय दिया। एग्जिट पोल्स के सामने आने के बाद कॉन्ग्रेस नेताओं ने अब भाजपा की बजाए जनता को ही निशाना बनाना शुरू कर दिया है, ऐसा प्रतीत होता है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू विरोध प्रदर्शन
छात्रों की संख्या लगभग 8,000 है। कुल ख़र्च 556 करोड़ है। कैलकुलेट करने पर पता चलता है कि जेएनयू हर एक छात्र पर सालाना 6.95 लाख रुपए ख़र्च करता है। क्या इसके कुछ सार्थक परिणाम निकल कर आते हैं? ये जानने के लिए रिसर्च और प्लेसमेंट के आँकड़ों पर गौर कीजिए।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,921फैंसलाइक करें
23,424फॉलोवर्सफॉलो करें
122,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: