PM मोदी ने विपक्ष को दी चुनौती, कहा- है हिम्मत तो कहो J&K में फिर से लगाएँगे 370

पीएम ने महाराष्ट्र में अपने चुनाव प्रचार का आगाज करते हुए कहा कि राज्य की बीजेपी सरकार ने पॉंच साल में विकास के जो काम किए हैं उससे विपक्षी भी हैरान हैं। सरकार के कार्यों का विरोधी भी लोहा मान रहे हैं।

महाराष्ट्र में 21 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव होने हैं। उससे ठीक एक हफ्ते पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्य के जलगाँव से अपने चुनाव प्रचार का आगाज किया। कॉन्ग्रेस सहित तमाम विपक्षी दलो को अनुच्छेद 370, 35A, तीन तलाक जैसे मुद्दों पर घेरते हुए चुनौती दी कि यदि उनमें हिम्मत है तो वे जनता से इन मुद्दों पर लिए गए फैसले वापस लेने का वादा करके दिखाएँ।

उन्होंने कहा, “आज मैं विरोधियों को चुनौती देता हूँ कि आपमें अगर हिम्मत है तो इस चुनाव में भी और आने वाले चुनावों में भी अपने चुनावी घोषणा पत्र में ये ऐलान करें कि हम अनुच्छेद 370 को वापस लाएँगे। 5 अगस्त के निर्णय को हम बदल देंगे। वर्ना ये घड़ियाली आँसू बहाना बंद करें।”

पाकिस्तान का नाम लिए बगैर उन्होंने कॉन्ग्रेस पर पड़ोसी देश की भाषा बोलने का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि आज दुर्भाग्य के साथ कहना पड़ रहा है कि हमारे देश के कुछ राजनीतिक दल, कुछ राजनेता, राष्ट्रहित में लिए गए इस निर्णय पर राजनीति करने में जुटे हैं। पीएम ने भाषण की शुरुआत में ही कहा कि नए भारत का नया जोश दुनिया देख रही है और मजबूती से सुन भी रही है। दुनिया का हर देश आज भारत के साथ खड़ा है, हमारे साथ मिलकर आगे बढ़ने के लिए उत्साहित है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

पीएम ने कहा कि जम्मू-कश्मीर और लद्दाख सिर्फ जमीन का एक टुकड़ा नहीं है। माँ भारती का शीश है। वहाँ का कण-कण भारत की शक्ति को मजबूत करता है। उन्होंने कहा, “आप ये जानकार हैरान हो जाएँगे कि 70 साल तक जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के हमारे वाल्मीकि भाइयों को मानवाधिकारों से भी वंचित कर दिया गया था। आज मैं भगवान वाल्मीकि के चरणों में नमन करते हुए कहता हूँ कि आज मुझे अपने उन भाइयों को गले लगाने का सौभाग्य मिल रहा है।”

इस दौरान उन्होंने महाराष्ट्र की बीजेपी सरकार के कामकाज का जिक्र करते हुए कहा, “बीते 5 वर्षों के हमारे काम से यहाँ विपक्षी भी हैरान और परेशान हैं। हमारे विरोधी भी आज ये मान रहे हैं कि भाजपा-शिवसेना गठबंधन का नेतृत्व कर्मशील भी है और ऊर्जावान भी। जब यहाँ की गरीब बहनों के जीवन में आए बदलाव के बारे में सुनते हैं, तो हमें संतोष होता है। आज महाराष्ट्र की करीब 10 लाख बहनें हमारी सरकार की आवास योजना की वजह से अपने पक्के घर में अपने परिवार की देखभाल कर रही हैं।”

उन्होंने कहा, “बीते कुछ समय से हम लगातार चुनौतियों को चुनौती दे रहे हैं। आज नया भारत ठान चुका है कि उसे अतीत के अनावश्यक बंधनों में बंधकर नहीं रहना है। आज नया भारत खुद के वर्तमान को मजबूत करने के साथ खुद का भविष्य भी तय कर रहा है।”

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

"हिन्दू धर्मशास्त्र कौन पढ़ाएगा? उस धर्म का व्यक्ति जो बुतपरस्ती कहकर मूर्ति और मन्दिर के प्रति उपहासात्मक दृष्टि रखता हो और वो ये सिखाएगा कि पूजन का विधान क्या होगा? क्या जिस धर्म के हर गणना का आधार चन्द्रमा हो वो सूर्य सिद्धान्त पढ़ाएगा?"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

115,259फैंसलाइक करें
23,607फॉलोवर्सफॉलो करें
122,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: