Thursday, June 20, 2024
Homeराजनीतिमेरी माटी, मेरा देश: देश के वीर बलिदानियों की याद में बनेगी वाटिका, 750...

मेरी माटी, मेरा देश: देश के वीर बलिदानियों की याद में बनेगी वाटिका, 750 कलशों में आएगी मिट्टी – मन की बात में PM मोदी

PM मोदी ने कहा कि काशी में हर साल 10 करोड़ से अधिक पर्यटक पहुँच रहे। धर्मस्थलों में लोगों की बढ़ती रूचि को सांस्कृतिक जनजागरण बताते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने बताया कि अयोध्या, मथुरा और उज्जैन जैसे तीर्थों को जाने वाले श्रद्धालुओं की तादाद भी काफी तेजी से बढ़ी है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार (30 जुलाई 2023) को एक बार फिर से मन की बात की। यह मन की बात सीरीज का 103वाँ एपिसोड था। इस बार PM मोदी ने अपने सम्बोधन में लोगों से अपने पर तिरंगा फहराने की अपील की। साथ ही उन्होंने लोगों से भारत सरकार द्वारा किए जा रहे महिला सशक्तिकरण के प्रयासों के बारे में भी बताया। प्रधानमंत्री ने ‘मेरी माटी, मेरा देश’ नामक अभियान चलाने का भी एलान किया।

बरसात के मौसम में आई बाढ़ और भूस्खलन जैसी प्राकृतिक आपदाओं का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने NDRF, स्थानीय प्रशासन के साथ आम लोगों की भी तारीफ की। उन्होंने कहा कि सभी ने मिल-जुल कर आपदा का सामना किया, जो काबिल ए तारीफ है। इस भावना को मोदी ने सर्वजन हिताय की सकारात्मक सोच बताया।

प्रधानमंत्री मोदी ने लोगों को जल संरक्षण की दिशा में प्रयास करने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने बताया कि देश भर में 60 हजार जल सरोवरों का निर्माण हो चुका है जबकि 50 हजार सरोवरों को बनाने का काम अभी चल रहा है। जल संरक्षण के साथ PM मोदी ने वृक्षारोपण की जरूरत पर भी जोर दिया। उत्तर प्रदेश की तारीफ करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि वहाँ सरकार के साथ आम जनता ने मिल कर 30 करोड़ पेड़ लगाए हैं, जो कि एक रिकॉर्ड है।

सावन के माह को पवित्र बताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसके आध्यात्मिक और वैज्ञानिक महत्त्व को सामने रखा। PM मोदी ने कहा कि हमारे त्यौहार हमें गतिशील बनाते हैं। आँकड़ो का जिक्र करते हुए नरेंद्र मोदी ने कहा कि काशी में हर साल 10 करोड़ से अधिक पर्यटक पहुँच रहे हैं। धर्मस्थलों में लोगों की बढ़ती रूचि को सांस्कृतिक जनजागरण बताते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने बताया कि अयोध्या, मथुरा और उज्जैन जैसे तीर्थों को जाने वाले श्रद्धालुओं की तादाद भी काफी तेजी से बढ़ी है। उन्होंने कहा कि अमेरिका के कैलिफोर्निया तक से आए लोगों ने अमरनाथ की यात्रा की थी।

मन की बात में PM मोदी ने आगे कहा कि हाल के दिनों में अमेरिका ने भारत की कई कलाकृतियों को वापस लौटाया है। ये कलाकृतियाँ 250 से 2500 वर्षों तक पुरानी हैं। वापस लौटाई गईं कलाकृतियाँ देश के अलग-अलग क्षेत्रों से ताल्लुक रखती हैं। प्रधानमंत्री ने इस बात पर भी ख़ुशी जाहिर की है कि देश के तमाम युवा इन कलाकृतियों के वापस आने पर खुश हैं। उन्होंने इसे युवाओं के भारतीय संस्कृति से जुड़ने और आने वाले समय के लिए सुखद संकेत बताया। मोदी ने भारतीय कलाकृतियों को लौटाने पर अमेरिकी सरकार का धन्यवाद भी किया।

देश में महिला सशक्तिकरण का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने बताया कि इस बार 4000 मुस्लिम महिलाओं ने बिना पुरुष सहयोगियों के हज यात्रा की है। बिना मेहरम के यात्रा की माँग को स्वीकार करने वाली अरब सरकार को भी प्रधानमंत्री मोदी ने धन्यवाद दिया। बकौल PM मोदी हज यात्रा से लौटी मुस्लिम महिलाओं ने उन्हें पत्र लिख कर धन्यवाद भी दिया है।

इसी के साथ प्रधानमंत्री ने ‘मेरी माटी, मेरा देश’ नाम का अभियान चलाने की घोषणा की। इस अभियान के तहत देश के लिए अपनी जान न्योछावर करने वाले बलिदानियों को याद किया जाएगा। देश भर से गुजरने वाली इस यात्रा में 750 कलशों में मिट्टी भर के लाई जाएगी। इस मिट्टी से राष्ट्रीय युद्ध स्मारक के पास एक वाटिका बनाई जाएगी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -