Saturday, July 31, 2021
Homeराजनीति'बनारस में तिलक-चोटी वाले खूब मिलेंगे, हर-हर महादेव भी सुनने को मिलेगा': PM मोदी...

‘बनारस में तिलक-चोटी वाले खूब मिलेंगे, हर-हर महादेव भी सुनने को मिलेगा’: PM मोदी ने पूछा- फिर क्या करेंगी दीदी

ममता बनर्जी ने कहा कि ओवैसी और सिद्दीकी को हिन्दू-मुस्लिम वोट बाँटने के लिए भाजपा ने पैसे दिए हैं। यदि आप एनआरसी नहीं चाहते हैं तो इन्हें वोट मत दीजिए, क्योंकि इन्हें वोट देने का मतलब है भाजपा को वोट देना।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार (3 अप्रैल 2021) को पश्चिम बंगाल के हगुली और सोनारपुर में चुनावी रैलियों को संबोधित किया। सोनारपुर में उन्होंने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को निशाने पर लेते हुए कहा कि वह बंगाल में जय श्री राम से चिढ़ती हैं, जबकि बनारस से चुनाव लड़ने पर उन्हें तिलक और चोटी वाले लोग खूब मिलेंगे।

प्रधानमंत्री ने यह तंज टीएमसी सांसद के उस बयान को लेकर कसा में जिसमें उन्होंने कहा था कि ममता अगला चुनाव बनारस से लड़ेंगी। टीएमसी सांसद ने यह बात पीएम मोदी द्वारा ममता के विधानसभा चुनाव में नंदीग्राम के अलावा किसी पर सीट से चुनाव लड़ने को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में कही थी।

पीएम मोदी ने कहा कि दीदी की पार्टी कह रही है कि वो बनारस से चुनाव लड़ेंगी। ऐसे में दो बातें पूरी तरह से साफ हो गई हैं। एक तो यह कि ममता दीदी ने बंगाल में अपनी हार स्वीकार कर ली है और दूसरी कि अब वो बंगाल से बाहर कोई स्थान तलाश रही हैं।

उन्होंने कहा, “बनारस के लोग बड़े ही दयालु हैं। लेकिन दीदी को वहाँ ‘चोटी’ और ‘तिलक’ वाले कई लोगों से मिलना पड़ेगा। ‘जय श्री राम’ का नारा उन्हें परेशान कर देता है लेकिन बनारस में उन्हें हर दो मिनट में ‘हर हर महादेव’ भी सुनना पड़ेगा, तब दीदी क्या करेंगी?”

पीएम मोदी ने यह भी कहा कि संभव है कि उनकी सरकार ने हल्दिया से वाराणसी का जो जलमार्ग बनवाया है उसे देखकर ममता दीदी का मन बनारस की तरफ मुड़ गया हो। ममता बनर्जी के ‘बाहरी लोगों’ के बयान का जवाब देते हुए पीएम मोदी ने यह भी कहा कि उत्तर प्रदेश और बनारस के लोग उन्हें बाहरी भी नहीं कहेंगे। दरअसल कई बार ममता बनर्जी भाजपा के नेताओं को बंगाल में बाहरी कहती आई हैं।

वहीं रायदिघी में रैली को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि हैदराबाद (असदुद्दीन ओवैसी) और फुरफुरा शरीफ (अब्बास सिद्दीकी) को हिन्दू-मुस्लिम वोट बाँटने के लिए भाजपा ने पैसे दिए हैं। यदि आप एनआरसी नहीं चाहते हैं तो इन्हें वोट मत दीजिए, क्योंकि इन्हें वोट देने का मतलब है भाजपा को वोट देना।

ममता ने यह भी कहा कि हिन्दू-मुस्लिम साथ बैठकर चाय पीते हैं और दुर्गा पूजा एवं काली पूजा में भी साथ भाग लेते हैं। यह हमारी संस्कृति है। यदि हमारे गाँव में कोई अस्थिरता होगी तो इसका फायदा भाजपा को ही होगा।

आपको बात दें कि पश्चिम बंगाल में 6 अप्रैल को तीसरे चरण के लिए वोट डाले जाएँगे।  इस चरण में 31 सीटों के लिए मतदान होगा। राज्य में 8 चरणों में मतदान होना है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पेगासस: ‘खोजी’ पत्रकारिता का भ्रमजाल, जबरन बयानबाजी और ‘टाइमिंग’- देश के खिलाफ हर मसाले का प्रयोग

दुनिया भर में कुल जमा 23 स्मार्टफोन में 'संभावित निगरानी' को लेकर ऐसा बड़ा हल्ला मचा दिया गया है, मानो 50 देशों की सरकारें पेगासस के ज़रिए बड़े पैमाने पर अपने नागरिकों की साइबर जासूसी में लगी हों।

पिता ने उधार लेकर करवाई हॉकी की ट्रेनिंग, निधन के बाद अंतिम दर्शन भी छोड़ा: अब ओलंपिक में इतिहास रच दी श्रद्धांजलि

वंदना कटारिया के पिता का सपना था कि भारतीय महिला हॉकी टीम ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीते। बचपन में पिता ने उधार लेकर उन्हें हॉकी की ट्रेनिंग दिलवाई थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,211FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe