Wednesday, July 17, 2024
Homeराजनीतिराम मंदिर पर अनाप-शनाप न बोलें, बयान बहादुरों और बड़बोलों को PM मोदी ने...

राम मंदिर पर अनाप-शनाप न बोलें, बयान बहादुरों और बड़बोलों को PM मोदी ने चेताया

"मैं देख रहा हूँ कि पिछले दो-तीन सप्ताह से कुछ बयान बहादुर लोग, कुछ बड़बोले लोग राम मंदिर को लेकर अनाप-शनाप बयानबाजी कर रहे हैं। देश के सभी नागरिकों का भारत की सुप्रीम कोर्ट के प्रति सम्मान बहुत आवश्यक है।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज यानी गुरुवार (सितंबर 19, 2019) को महाराष्‍ट्र के नासिक में रैली को संबोधित करते हुए कई समसामायिक विषयों पर बात की। उन्होंने इस बीच राम मंदिर को लेकर बयानबाजी कर रहे नेताओं को सलाह भी दी कि वे बयान बहादुर बनने की जगह न्यायपालिका और संविधान पर भरोसा रखें।

उन्होंने कहा, “मैं देख रहा हूँ कि पिछले दो-तीन सप्ताह से कुछ बयान बहादुर लोग, कुछ बड़बोले लोग राम मंदिर को लेकर अनाप-शनाप बयानबाजी कर रहे हैं। देश के सभी नागरिकों का भारत की सुप्रीम कोर्ट के प्रति सम्मान बहुत आवश्यक है।”

अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने कहा, “जब मामला सुप्रीम कोर्ट में चल रहा हो, सब पक्ष अपनी बात रख रहे हों, सुप्रीम कोर्ट लगातार समय निकालकर बातों को सुन रही हो, तब मैं हैरान हूँ ये बयान बहादुर कहाँ से आ गए। हमारा सुप्रीम कोर्ट पर भरोसा होना चाहिए। बाबा साहब अम्बेडकर ने जो संविधान दिया है उस पर भरोसा होना चाहिए। हमारा भरोसा भारत की न्यायप्रणाली पर होना चाहिए। इसलिए मैं आज नासिक की पवित्र धरती से देश भर में जो बड़बोले लोग हैं और जो बयान बहादुरों लोग हैं, उनसे हाथ जोड़कर विनती करता हूँ कि प्रभु श्रीराम के खातिर सिर्फ़ और सिर्फ भारत की न्याय प्रणाली के प्रति अपनी श्रद्धा रखें।”

उल्लेखनीय है कि अयोध्या केस पर सुप्रीम कोर्ट में लगातार सुनवाई चल रही हैं। कहा जा रहा है कि सुप्रीम कोर्ट इस मसले पर आने वाले एक महीने यानी 18 अक्टूबर तक सुनवाई पूरी कर लेगा और 17 नवंबर तक इस मामले पर फैसला आने की उम्मीद हैं। लेकिन इससे पहले कुछ लोग और नेता ऐसे हैं जो लगातार इस विषय को बढ़ा-चढ़ाकर जनता के समक्ष पेश कर रहे हैं और सुप्रीम कोर्ट के प्रयासों को जनता के सामने दरकिनार कर रहे हैं। जिसके चलते ही आज प्रधानमंत्री ने आवाज उठाई।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेरिकी राजनीति में नहीं थम रहा नस्लवाद और हिंदू घृणा: विवेक रामास्वामी और तुलसी गबार्ड के बाद अब ऊषा चिलुकुरी बनीं नई शिकार

अमेरिका में भारतीय मूल के हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। निक्की हेली, विवेक रामास्वामी, तुलसी गबार्ड जैसे मशहूर लोग हिंदूफोबिया झेल चुके हैं।

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -