Monday, January 24, 2022
Homeराजनीतिकोरोना वैक्सीन लेकर बांग्लादेश पहुँचे PM मोदी, सबसे पहले 1971 के युद्ध में बलिदान...

कोरोना वैक्सीन लेकर बांग्लादेश पहुँचे PM मोदी, सबसे पहले 1971 के युद्ध में बलिदान हुए जवानों को दी श्रद्धांजलि

PM मोदी ने ढाका में भारतीय समुदाय के लोगों से मुलाकात की। सभी हाथ में तिरंगा लिए नजर आए। वहाँ मुस्लिम समुदाय के लोग पीएम को शॉल उढ़ाकर उनका स्वागत करते, उनसे बात करते दिखे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने दो दिन के बांग्लादेश दौरे के लिए आज (मार्च 26, 2021) सुबह ढाका पहुँच गए हैं। एयरपोर्ट पर बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने खुद गुलदस्ता देकर उनका स्वागत किया। उनके सम्मान में उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया।

पीएम मोदी भारत से अपने साथ बांग्लादेश के लिए वैक्सीन की 10 लाख (कुछ रिपोर्ट के अनुसार 12 लाख) डोज लेकर गए हैं। कोरोना महामारी के बाद प्रधानमंत्री की इस पहली विदेश यात्रा का उद्देश्य द्विपक्षीय रिश्ते मजबूत करना है। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बांग्लादेश पहुँचने के बाद सबसे पहले ढाका के सावर में स्थित वॉर मेमोरियल गए। यहाँ उन्होंने 1971 के युद्ध में बलिदान हुए जवानों को श्रद्धांजलि दी। यहाँ स्मारक पर पौधारोपण करते हुए उनकी एक वीडियो भी सामने आई।

>

प्रधानमंत्री मोदी ने ढाका में भारतीय समुदाय के लोगों से हाथ जोड़ कर मुलाकात की। सभी उनके सम्मान में हाथ में तिरंगा लिए नजर आए। सामने आई वीडियो में मुस्लिम समुदाय के लोग पीएम को शॉल उढ़ाकर उनका स्वागत करते, उनसे बात करते दिख रहे हैं।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज एयर इंडिया-1 के बिलकुल नए विमान के साथ ढाका पहुँचे हैं। ये वीवीआईपी विमान ऐसे एडवांस कम्युनिकेशन सिस्टम से लैस है और बिना हैक किए मिड-एयर में ऑडियो और वीडियो कम्युनिकेशन फंक्शन की सुविधा देता है।

बांग्लादेश में पीएम मोदी का यह दौरा संभवत: कई समझौतों पर मुहर लगाने वाला होगा। उनकी यात्रा कार्यक्रम में ओरकांडी के मतुआ मंदिर और सतखिरा के जसोरेश्वरी काली मंदिर जैसे धार्मिक स्थानों की यात्रा भी शामिल है।

बता दें कि बीते साल कोरोना वायरस की शुरुआत के बाद प्रधानमंत्री मोदी की जो विदेश यात्रा मार्च 2020 में रद्द की गई थी, वो बांग्लादेश की ही थी। पीएम मोदी को तब शेख मुजीबुर रहमान जन्मशती कार्यक्रम में शरीक होने के लिए पहले 17 मार्च 2020 को बांग्लादेश पहुँचना था। हालाँकि तब ऐसा नहीं हो सका, इसलिए कोविड-19 महामारी के बीच अपनी विदेश यात्राओं का सिलसिला शुरू करने के लिए उन्होंने पड़ोसी मुल्क बांग्लादेश को ही चुना।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हिजाब के लिए प्रदर्शन के बाद अब सरकारी स्कूल की क्लास में ही नमाज: हिन्दू संगठनों ने किया विरोध, डीएम ने तलब की रिपोर्ट

कर्नाटक के कोलार स्थित सरकारी स्कूल में मुस्लिम छात्रों के नमाज मामले में प्रिंसिपल का कहना है कि उन्होंने कोई भी इजाजत नहीं दी थी।

उधर ठंड से मर रहे थे बच्चे, इधर सपा सरकार ने सैफई पर उड़ा दिए ₹334 Cr: नाचते थे सलमान, मुलायम सिंह के पाँव...

एक बार तो 15 दिन के 'सैफई महोत्सव' में 334 करोड़ रुपए फूँक डाले गए। एक साल दंगा पीड़ित बेहाल रहे और इधर बॉलीवुड का नाच-गान होता रहा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
153,155FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe