Saturday, May 18, 2024
Homeराजनीतिडमरू की डमडम, मंत्रों की गूँज, शंखनाद, कलाकारों की प्रस्तुतियाँ, साथ में 'शिवगण'... वाराणसी...

डमरू की डमडम, मंत्रों की गूँज, शंखनाद, कलाकारों की प्रस्तुतियाँ, साथ में ‘शिवगण’… वाराणसी की गलियों में PM के रोडशो में उमड़ा जनसैलाब, लोग बोले – हमार काशी, हमार मोदी

इस दौरान डमरू की डमडम और मन्त्रों की गूँज भी सुनाई दे रही थी। पूरा वाराणसी भगवामय हो गया था। वाराणसी में नरेंद्र मोदी ने बतौर सांसद कई कार्य किए हैं, वहाँ कैंसर अस्पताल भी खुला।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लगातार तीसरी बार वाराणसी लोकसभा क्षेत्र से नामांकन के 1 दिन पहले सोमवार (13 मई, 2024) को वहाँ भव्य रोडशो किया, जिसमें उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी उनके साथ मौजूद रहे। रोडशो के दौरान उन्होंने BHU के संस्थापक महामना मदन मोहन मालवीय की प्रतिमा पर उन्हें पुष्पांजलि भी अर्पित की। वाराणसी से नरेंद्र मोदी ने 2014 में 3.71 लाख और 2019 में 4.79 लाख वोटों से जीत दर्ज की थी।

उन्हें 2014 में कुल मतों का 56.37% तो 2019 में 63.62% प्राप्त हुआ था। इस बार भी उनके रोडशो में उमड़े जनसैलाब के बाद चर्चा है कि न सिर्फ वाराणसी, बल्कि आसपास की कई सीटों पर इसका प्रभाव पड़ेगा। इस दौरान डमरू की डमडम और मन्त्रों की गूँज भी सुनाई दे रही थी। पूरा वाराणसी भगवामय हो गया था। वाराणसी में नरेंद्र मोदी ने बतौर सांसद कई कार्य किए हैं, वहाँ कैंसर अस्पताल भी खुला। काशी में गंगा नदी की साफ़-सफाई को लेकर भी कार्य हुए हैं।

उनके ही कार्यकाल में बाबा विश्वनाथ कॉरिडोर भी बना। साथ ही ज्ञानवापी में पूजा शुरू हुई। 2014 के बाद से ही BHU के अस्पताल और जिला अस्पताल में भी कई कार्य किए गए हैं। वाराणसी की गलियों से भी पीएम मोदी का कारवाँ गुजरा। इस रोडशो में कई लोग भगवान शिव की वेशभूषा में थे। वाराणसी में स्वच्छता अभियान के तहत 1.38 लाख लोगों को शौचालय, 12 शमशान घाटों का पुनर्निर्माण हुआ और 14 पंचायत भवनों का भी निर्माण हुआ।

रोडशो के दौरान शंखनाद भी होता रहा, सांस्कृतिक प्रस्तुतियाँ भी कलाकार देते रहे। ये रोडशो लगभग 6 किलोमीटर चला। लंका गेट से लेकर संत रविदास दरवाजे के पास रोडशो का पहला पड़ाव रहा, उसके बाद अस्सी घाट वाले रोड में गोदौलिया चौराहा होते हुए पीएम नरेंद्र मोदी का काफिला गुजरा। बच्चों से लेकर महिलाओं तक की हिस्सेदारी इस रोडशो में रही। इस दौरान ‘विकास भी, विरासत भी’ के पोस्टर भी लोग लिए हुए थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिसे वामपंथन रोमिला थापर ने ‘इस्लामी कला’ से जोड़ा, उस मंदिर को तोड़ इब्राहिम शर्की ने बनवाई थी मस्जिद: जानिए अटाला माता मंदिर लेने...

अटाला मस्जिद का निर्माण अटाला माता के मंदिर पर ही हुआ है। इसकी पुष्टि तमाम विद्वानों की पुस्तकें, मौजूदा सबूत भी करते हैं।

रोफिकुल इस्लाम जैसे दलाल कराते हैं भारत में घुसपैठ, फिर भारतीय रेल में सवार हो फैल जाते हैं बांग्लादेशी-रोहिंग्या: 16 महीने में अकेले त्रिपुरा...

त्रिपुरा के अगरतला रेलवे स्टेशन से फिर बांग्लादेशी घुसपैठिए पकड़े गए। ये ट्रेन में सवार होकर चेन्नई जाने की फिराक में थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -