Saturday, July 20, 2024
Homeराजनीति'8 साल में कोई ऐसा कार्य नहीं किया, जिससे देश का सिर झुके': गुजरात...

‘8 साल में कोई ऐसा कार्य नहीं किया, जिससे देश का सिर झुके’: गुजरात में दुनिया का पहला ‘नैनो यूरिया प्लांट’, मल्टी स्पेशलिटी अस्पताल का भी उद्घाटन

सुबह करीब 10 बजे गुजरात के राजकोट पहुँचे प्रधानमंत्री ने आटकोट में 50 करोड़ रुपए की लागत से निर्मित मल्टी स्पेशियलिटी हॉस्पिटल का लोकार्पण किया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार (28 मई 2022) को राज्य गुजरात के दौरे पर हैं। यहाँ गाँधीनगर के इफको कलोल में बने देश के पहले नैनो लिक्विड यूरिया प्लांट का उद्धाटन उन्होंने किया। पीएम मोदी ने कहा नैनो यूरिया की आधा लीटर की बोतल एक बोरी यूरिया के जितना काम करेगी। इससे किसानों की खाद की जरूरतें पूरी होंगी। आत्मनिर्भर भारत के लिए आत्मनिर्भर गाँव का होना जरूरी है।

पीएम मोदी ने कहा कि 7-8 साल पहले तक देश में यूरिया की इतनी किल्लत होने के बाद भी खेत तक पहुँचने से पहले ही इसकी कालाबाजारी हो जा रही थी। यूरिया माँगने पर किसानों को लाठियाँ खानी पड़ती थीं, लेकिन जब 2014 में हमारी सरकार आई तो हमने यूरिया के 100% नीम कोटिंग का काम शुरू किया। इससे किसानों को भी पर्याप्त मात्रा में यूरिया मिला। प्रधानमंत्री ने कहा कि यूपी, बिहार, झारखंड, ओडिशा और तेलंगाना में यूरिया के पाँच बड़े प्लांट बंद पड़े हुए थे, जिन्हें हमारी सरकार ने दोबारा से चालू करवाया।

अपने संबोधन में पीएम मोदी ने इस बात का जिक्र किया कि अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए भारत को विदेशों से यूरिया का आयात करना पड़ता है। विदेशों से आयातित यूरिया का 50 किलो का एक बैग 35,00 रुपए का पड़ता है, जिसे किसानों को केवल 300 रुपए में ही उपलब्ध कराया जाता है, बाकी के 3200 रुपए का भार सरकार को ही वहन करना पड़ता है।

गाँधीनगर प्लांट की क्षमता

शनिवार को गाँधीनगर में प्रधानमंत्री ने जिस प्लांट का उद्धाटन किया है, उस प्लांट को 175 करोड़ रुपए की लागत से बनाया गया है। इस तरह के 8 और प्लांटों को देश के अलग-अलग हिस्सों में लगाया जाएगा।

देश को नीचा दिखाने वाला कोई काम नहीं किया

इससे पहले सुबह करीब 10 बजे गुजरात के राजकोट पहुँचे प्रधानमंत्री ने आटकोट में 50 करोड़ रुपए की लागत से निर्मित मल्टी स्पेशियलिटी हॉस्पिटल का लोकार्पण किया। उन्होंने कहा कि 8 साल पहले गुजरात ने उन्हें विदा किया था, लेकिन आज भी उनके अंदर गुजरातियों द्वारा दी गई शिक्षा और संस्कार हैं। उन्होंने कहा कि बीते 8 सालों में उन्होंने ऐसा कोई काम नहीं किया, जिससे देश को नीचा देखना पड़े। पीएम मोदी ने कहा कि इन 8 सालों में उन्होंने देश को गाँधी का देश बनाने की कोशिशें की हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार ने अब तक 6 करोड़ परिवारों को नल से जल योजना का लाभ दिया है। इसके साथ ही 3 करोड़ लोगों को घर और किसानों के अकाउंट्स में डायरेक्ट पैसे भेजे हैं। हालाँकि, इस दौरान प्रधानमंत्री विपक्ष पर निशाना साधना नहीं भूले। उन्होंने कहा कि 8 साल पहले तक देश में ऐसी भी सरकार थी, हर फाइल में मोदी दिखता था, जिस कारण उसने हमारी हर फाइल पर ताला लगाया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -