Tuesday, July 27, 2021
Homeराजनीति'मुस्लिम पूरा पोलराइज हुआ, हिन्दू घंटा हुआ'

‘मुस्लिम पूरा पोलराइज हुआ, हिन्दू घंटा हुआ’

संसद भवन में कुछ सांसद आपस में बातचीत कर रहे थे। 'द हिन्दू' की पोलिटिकल एडिटर निस्तुला ने सुना, वे कह रहे थे - "सीधी बात है। मुस्लिम पूरा पोलराइज हुआ, हिन्दू घंटा हुआ।"

भारत की संसद से लेकर पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय तक दिल्ली विधानसभा चुनाव के नतीजों का इंतजार हो रहा था। पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने तो पहले ही भविष्यवाणी कर दी थी कि दिल्ली में भाजपा की बड़ी हार होने वाली है क्योंकि उसने अनुच्छेद 370 से छेड़छाड़ किया, कश्मीरियों पर ‘अत्याचार’ किया और नागरिकता को लेकर क़ानून लाया। वहीं भारतोय मीडिया का एक बड़े तबके में भी उत्साह का माहौल है। गिरोह विशेष के पत्रकारों की ख़ुशी का ठिकाना नहीं है।

इसी बीच देश के बड़े मीडिया संस्थानों में से एक ‘द हिन्दू’ की पोलिटिकल एडिटर निस्तुला हेब्बर ने एक ट्वीट किया, जो दिल्ली चुनाव के बारे में देश के कुछ जनप्रतिनिधियों की राय को बयाँ करता है। आप भी उनके ट्वीट पर एक नज़र डालिए। संसद भवन में कवरेज के दौरान उन्होंने कुछ सांसदों को बातचीत करते हुए सुना। बकौल निस्तुला, बातचीत के दौरान सांसद कह रहे थे- “सीधी बात है। मुस्लिम पूरा पोलराइज हुआ, हिन्दू घंटा हुआ।

दिल्ली विधानसभा चुनाव में शाहीन बाग़ पूरी तरह छाया रहा। अमानतुल्लाह ख़ान के क्षेत्र में मुस्लिम महिलाओं ने धरने पर बैठ कर मीडिया को उलझाए रखा। कॉन्ग्रेस का वोटिंग प्रतिशत धड़ाम से गिरा है और कहा जा रहा है कि ये वोट्स केजरीवाल की पार्टी को ट्रांसफर हुए। मुस्लिमों ने कॉन्ग्रेस की बजाए AAP पर विश्वास जताया, क्योंकि उन्हें भाजपा को हराने से मतलब था।

दिल्ली के मुस्लिम बहुल इलाक़ों के ट्रेंड्स पर नज़र डालें तो बहुत कुछ साफ हो जाता है। ओखला, सीलमपुर, मटिया महल और बल्लीमरान विधानसभा क्षेत्रों से आम आदमी पार्टी आगे चल रही है। इन चारों ही क्षेत्रों से AAP ने मुस्लिम उम्मीदवार उतारे थे। इनके अलावा मुस्तफाबाद, किराड़ी, बाबरपुर और चाँदनी चौक से भी AAP ही आगे चल रही है।

दिल्ली की राजनीति में कॉन्ग्रेस की ‘दमदार’ वापसी, EVM पर दिग्विजय सिंह ने सवाल उठा किया एकमात्र काम

8 मुस्लिम बहुल इलाकों का हाल: कौन आगे, कौन पीछे – मुस्तफाबाद में समीकरण गड़बड़ाया

13+9 सीटों पर बीजेपी दे रही कड़ी टक्कर, केजरीवाल और कुर्सी के बीच पिक्चर अभी बाकी है!

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फोन से ‘खेला’ फिर भी नहीं बचा राज कुंद्रा, कानपुर का खाता भी फ्रीज: शर्लिन चोपड़ा-पूनम पांडे को हाईकोर्ट से राहत

सबूत के रूप में एक प्रेजेंटेशन को भी इस चार्जशीट का हिस्सा बनाया गया है, जिसमें पोर्न कारोबार से 146 करोड़ रुपए का राजस्व का अनुमान लगाया गया है।

6 साल के जुड़वा भाई, अगवा कर ₹20 लाख फिरौती ली; फिर भी हाथ-पैर बाँध यमुना में फेंका: ढाई साल बाद इंसाफ

मध्य प्रदेश स्थित सतना जिले के चित्रकूट में दो जुड़वा भाइयों के अपहरण और हत्या के मामले में 5 दोषियों को आजीवन कारावास की सज़ा सुनाई गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,381FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe