Tuesday, April 23, 2024
Homeराजनीतिराहुल गाँधी बोले- किसान मजबूत होते तो सेना की जरूरत नहीं होती... अनुवादक मोहम्मद...

राहुल गाँधी बोले- किसान मजबूत होते तो सेना की जरूरत नहीं होती… अनुवादक मोहम्मद इमरान बेहोश हो गए

राहुल गाँधी ने इरोड में खतरनाक भाषण भी 'जबरदस्त' दिया था। उन्होंने सुझाव दिया था कि अगर भारत के किसान, श्रमिक और मजदूर मजबूत होते, तो भारत को सीमाओं पर सेना, नौसेना और वायु सेना को तैनात करने की आवश्यकता नहीं होती, खासकर इंडो-चाइना बॉर्डर पर।

कॉन्ग्रेस नेता राहुल गाँधी फिलहाल तमिलनाडु दौरे पर हैं। दौरे के दूसरे दिन राहुल गाँधी तमिलनाडु के इरोड पहुँचे। यहाँ पर उनके भाषण के दौरान एक अजीब घटना घटी। राहुल गाँधी के अंग्रेजी भाषण का तमिल में अनुवाद करने वाले प्रोफेसर मंच पर ही बेहोश होकर गिर पड़े।

रिपोर्टों के अनुसार, 35 वर्षीय प्रोफेसर मोहम्मद इमरान रविवार (जनवरी 24, 2021) को राहुल गाँधी द्वारा दिए गए भाषणों का उत्साहपूर्वक अनुवाद कर रहे थे। राहुल गाँधी के भाषण को अभी कुछ ही मिनट हुआ था कि वह अचानक से बेहोश हो गए। जिसके बाद उन्हें नजदीकी अस्पताल ले जाया गया। हालाँकि अभी तक यह स्पष्ट नहीं है कि किस कारण से कॉन्ग्रेस की रैली में प्रोफेसर बेहोश हो गए।

राहुल गाँधी ने इरोड में भाषण भी ‘जबरदस्त’ दिया। उन्होंने सुझाव दिया था कि अगर भारत के किसान, श्रमिक और मजदूर मजबूत होते, तो भारत को सीमाओं पर सेना, नौसेना और वायु सेना को तैनात करने की आवश्यकता नहीं होती, खासकर इंडो-चाइना बॉर्डर पर। उन्होंने दावा किया था कि अगर किसानों और मजदूरों को सुरक्षा और अधिकार दिया गया तो चीन भारतीय क्षेत्रों में घुसपैठ करने की हिम्मत नहीं करेगा।

दिनाकरन की रिपोर्ट में कहा गया है कि राहुल गाँधी द्वारा दिए गए भाषण का अनुवाद करने के बाद, अनुवादक इमरान ने अपना होश खो दिया और घटनास्थल पर बेहोश हो गए। घटना के बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया।

राहुल ने यहाँ पर रोड शो के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज कसते हुए कहा कि वह यहाँ पर ‘मन की बात’ बताने नहीं आए हैं, बल्कि तमिलनाडु के लोगों की समस्याएँ सुनने आए हैं। राहुल गाँधी ने रोड शो के दौरान कहा, “मैं यहाँ आपको ये बताने नहीं आया हूँ कि क्या करना चाहिए या अपने मन की बात करने नहीं आया हूँ। मैं यहाँ आपको सुनने आया हूँ, आपकी समस्याओं को सुनकर उन्हें सुलझाने में मदद करने आया हूँ।”

तमिलनाडु में कॉन्ग्रेस की अस्तित्व की लड़ाई

1967 में तमिलनाडु की सत्ता से बाहर होने के बाद कॉन्ग्रेस कभी वापसी नहीं कर पाई। 2016 में हुए विधानसभा चुनाव में कॉन्ग्रेस के हिस्से में सिर्फ 8 सीटें आई थीं। अभी राज्य में AIADMK की सरकार है। इस बार कॉन्ग्रेस के DMK के साथ मिलकर चुनाव लड़ने की अटकलें हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बेटी की हत्या ‘द केरल स्टोरी’ स्टाइल में हुई: कर्नाटक के कॉन्ग्रेस पार्षद का खुलासा, बोले- हिंदू लड़कियों को फँसाने की चल रही साजिश

कर्नाटक के हुबली में हुए नेहा हीरेमठ के मर्डर के बाद अब उनके पिता ने कहा है कि उनकी बेटी की हत्या 'दे केरल स्टोरी' के स्टाइल में हुई थी।

‘महिला ने दिया BJP को वोट, इसीलिए DMK वालों ने मार दिया’: अन्नामलाई ने डाला मृतका के पति और परिवार का वीडियो, स्टालिन सरकार...

भाजपा तमिलनाडु अध्यक्ष के अन्नामलाई ने आरोप लगाया है कि एक महिला की हत्या भाजपा को वोट देने के कारण हुई। उन्होंने एक वीडियो भी डाला है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe