Tuesday, July 23, 2024
Homeराजनीति10 महीने में ही पंजाब की AAP सरकार का दूसरा विकेट गिरा: भगवंत मान...

10 महीने में ही पंजाब की AAP सरकार का दूसरा विकेट गिरा: भगवंत मान के मंत्री फौजा सिंह का इस्तीफा, वायरल हुआ था जबरन वसूली का ऑडियो

इसके पहले भष्टाचार के आरोपों की वजह से स्वास्थ्य मंत्री विजय सिंगला को बर्खास्त किया गया था। उन पर टेंडर में कमीशन लेने के इल्ज़ाम लगे थे। इसके बाद सिंगला को जेल में भी रहना पड़ा था।

पंजाब में फौजा सिंह सरारी ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है। 10 महीने पुरानी आम आदमी पार्टी (AAP) की सरकार से विदा होने वाले सरारी दूसरे कैबिनेट मंत्री हैं। इससे पहले विजय सिंगला को बर्खास्त किया गया था। सरारी की जगह डॉक्टर बलबीर सिंह को कैबिनेट में जगह मिली है। मुख्यमंत्री भगवत सिंह मान की मौजूदगी में राज्यपाल ने शनिवार (7 जनवरी 2023) को राजभवन में उन्हें शपथ दिलाई।

फौजा सिंह के पास खाद्य और बागवानी मंत्रालय था। इस्तीफा देते हुए उन्होंने कहा है कि वे आप के वफादार सिपाही बने रहेंगे। उन पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे थे। इससे संबंधित उनका एक ऑडियो भी वायरल हुआ था।

सितंबर 2022 में यह ऑडियो वायरल हुआ था। उस समय मुख्यमंत्री विदेश दौरे पर थे। दावा किया गया था कि ऑडियो में सरारी ठेकेदारों से वसूली की प्लानिंग कर रहे थे। ऑडियो बाहर आने के बाद विपक्ष ने सरकार पर सवाल उठाए थे। इसके बाद आम आदमी पार्टी ने फौजा सिंह को शो कॉज नोटिस जारी किया था। इस नोटिस का उन्होंने क्या जवाब दिया, जवाब दिया भी या नहीं, यह स्पष्ट नहीं है।

उस वक्त फौजा सिंह ने अपने ऊपर लगे आरोपों को बेबुनियाद करार दिया था। उन्होंने लीक ऑडियो के खिलाफ शिकायत दर्ज करते हुए इसे अपने खिलाफ साजिश करार दिया था। अब उन्होंने निजी कारणों से इस्तीफा देने की बात कही है।

इसके पहले भष्टाचार के आरोपों की वजह से स्वास्थ्य मंत्री विजय सिंगला को बर्खास्त किया गया था। सिंगला पर विभाग द्वारा जारी टेंडर में कमीशन लेने के इल्ज़ाम लगे थे। इसके बाद सिंगला को जेल में भी रहना पड़ा था। हालाँकि सिंगला को आम आदमी पार्टी से बर्खास्त नहीं किया गया। गौरतलब है कि पंजाब के अलावा दिल्ली की आप सरकार के मंत्रियों पर भी भष्टाचार के आरोप हैं। मनी लॉन्ड्रिंग मामले में केजरीवाल सरकार में मंत्री सत्येंद्र जैन महीनों से सलाखों के पीछे हैं। पार्टी ने उनका भी इस्तीफा नहीं लिया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -