Thursday, July 25, 2024
Homeराजनीतिअसम में अपने ही विधायकों से नहीं मिले राहुल, दुनिया भर की पार्टियों से...

असम में अपने ही विधायकों से नहीं मिले राहुल, दुनिया भर की पार्टियों से करते रहे बातचीत: 2 कॉन्ग्रेस MLA का समर्थन मिलने को CM हिमंता ने बताया तोहफा

भारत जोड़ो न्याय यात्रा के दौरान कॉन्ग्रेस सांसद राहुल गाँधी ने असम में अपनी पार्टी के किसी भी विधायक से नहीं मिले थे। असम में उत्तरी करीमगंज से कॉन्ग्रेस विधायक कमलाख्या डे पुरकायस्थ ने आरोप लगाया है कि असम में एक सप्ताह तक राहुल गाँधी उन पार्टियों से मिलते रहे, जिनका कोई जनाधार नहीं है। उधर, असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने राहुल गाँधी को तोहफा दिया है।

भारत जोड़ो न्याय यात्रा के दौरान कॉन्ग्रेस सांसद राहुल गाँधी ने असम में अपनी पार्टी के किसी भी विधायक से नहीं मिले थे। असम में उत्तरी करीमगंज से कॉन्ग्रेस विधायक कमलाख्या डे पुरकायस्थ ने आरोप लगाया है कि असम में एक सप्ताह तक राहुल गाँधी उन पार्टियों से मिलते रहे, जिनका कोई जनाधार नहीं है। उधर, असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने राहुल गाँधी को तोहफा दिया है।

पुरकायस्थ ने कहा, “यहाँ हमारे 24 विधायक हैं। वह (राहुल गाँधी) यहाँ 15 पार्टियों से मिले, जो कि INDI गठबंधन में शामिल हैं। इनकी अपनी कोई पहचान नहीं है और लोगों ने इनका नाम तक नहीं सुना है। अब ये पार्टियाँ 2-3 सीट माँग रही हैं। जब इनसे गठबंधन हुआ तब भूपेन बोरा (असम कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष) ने हमसे कोई सलाह नहीं ली।”

पुरकायस्थ ने राहुल गाँधी को लेकर निराशा व्यक्त की और कहा, “राहुल गाँधी को यहाँ के 24 विधायकों के साथ कम-से-कम आधे घंटे तक बातचीत करनी चाहिए थी। वह यहाँ आठ दिनों तक थे। इस बीच उनकी विधायकों से कोई बातचीत नहीं हुई। आखिरी दिन भी उनकी बस में एक मीटिंग हुई और मुझे नहीं मालूम उसमें क्या बात हुई।” उन्होंने कहा कि कॉन्ग्रेस पार्टी के कई विधायक मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा के संपर्क में हैं।

पुरकायस्थ ने यह भी कहा कि मुख्यमंत्री सरमा राहुल गाँधी के साथ अन्य पार्टियों के नेताओं की हुई मीटिंग के बारे में उनसे अधिक और विस्तार में जानते हैं। पुरकायस्थ ने आरोप लगाया है कि कॉन्ग्रेस में आपसी संवाद नहीं है। अब उन्होंने कॉन्ग्रेस विधायक बसंत दास के साथ विधानसभा में भाजपा सरकार का समर्थन करने का निर्णय लिया है। हालाँकि, वह अभी कॉन्ग्रेस नहीं छोड़ेंगे, लेकिन विधानसभा के भीतर सरकार का साथ देंगे। इसका ऐलान मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने भी किया है।

बता दें कि पुरकायस्थ राज्य की विपक्षी दल कॉन्ग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष थे और बसंत दास इसके पहले वाली कॉन्ग्रेस की तरुण गोगोई सरकार में मंत्री थे। इन दोंनों कॉन्ग्रेस नेताओं का समर्थन मिलने के बाद CM सरमा ने बुधवार (14 फरवरी 2024) को इसे कॉन्ग्रेस नेता राहुल गाँधी को दिया गया तोहफा बताया।

उन्होंने इस बाबत एक्स (पहले ट्विटर) पर लिखा, “एक कहानी सुनिए- जब राहुल गाँधी असम आए, उन्होंने कॉन्ग्रेस के सारे विधायकों को अपनी आलीशान बस में बुलाकर, धमका कर कहा कि असम विधानसभा को चलने नहीं देना चाहिए। हमने भी उन्हें एक तोहफ़ा दिया। अब कॉन्ग्रेस के विधायक सरकार का समर्थन कर सदन को शांतिपूर्ण तरीक़े से चलने दे रहे हैं।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

देशद्रोही, पंजाब का सबसे भ्रष्ट आदमी, MeToo का केस… खालिस्तानी अमृतपाल का समर्थन करने वाले चन्नी की रवनीत बिट्टू ने उड़ाई धज्जियाँ, गिरिराज बोले...

रवनीत सिंह बिट्टू ने कहा कि एक पूर्व मुख्यमंत्री देशद्रोही की तरह व्यवहार कर रहा है, देश को गुमराह कर रहा है। गिरिराज सिंह बोले - ये देश की संप्रभुता पर हमला।

‘दरबार हॉल’ अब कहलाएगा ‘गणतंत्र मंडप’, ‘अशोक हॉल’ बना ‘अशोक मंडप’: महामहिम द्रौपदी मुर्मू का निर्णय, राष्ट्रपति भवन ने बताया क्यों बदला गया नाम

राष्ट्रपति भवन ने बताया है कि 'दरबार' का अर्थ हुआ कोर्ट, जैसे भारतीय शासकों या अंग्रेजों के दरबार। बताया गया है कि अब जब भारत गणतंत्र बन गया है तो ये शब्द अपनी प्रासंगिकता खो चुका है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -