Thursday, June 13, 2024
Homeराजनीतिजिस LKS का कॉन्ग्रेस और उसके साथियों ने बहिष्कार किया, उसी की शान में...

जिस LKS का कॉन्ग्रेस और उसके साथियों ने बहिष्कार किया, उसी की शान में राहुल गाँधी ने कसीदे पढ़े

लोक केरल सभा राज्य के प्रवासियों का मंच है। इसकी सराहना कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने ऐसे वक्त में की जब उसक कार्यक्रम से राज्य के हर विपक्षी नेता ने दूरी बना ली थी।

एक संगठन है LKS। यानी लोक केरल सभा। केरल के प्रवासियों के इस संगठन का एक सम्मेलन हाल में संपन्न हुआ है। इस सम्मेलन का केरल के विपक्षी गठबंधन UDF ने बहिष्कार किया। इसमें कॉन्ग्रेस भी शामिल है। लेकिन कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गॉंधी ने इसी संगठन की तारीफों के पुल बॉंध दिए। यह बात सामने आने के बाद कॉन्ग्रेस और यूडीएफ के उसके साथियों की जमकर किरकिरी हो रही है।

केरल के वायनाड से सांसद राहुल गाँधी ने 12 दिसंबर को लिखे पत्र में LKS की सराहना की। इसे भारतीय प्रवासी से जुड़ने का एक “महान मंच” बताया। राहुल गाँधी ने पत्र में लिखा,

“मैं मलयाली प्रवासी सदस्यों को उनकी अभूतपूर्व सफलता और राज्य के योग्य राजदूतों को बधाई देता हूँ। लोक केरल सभा प्रवासी भारतीयों से जुड़ने और उनके योगदान को पहचानने का एक बेहतरीन मंच है।”

केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से गुरुवार (2 जनवरी) को राहुल गाँधी का यह पत्र पोस्ट किया गया।

इसके बाद यूडीएफ को बेहद शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा। राहुल गाँधी ने LKS की प्रशंसा ऐसे समय में की जब राज्य के विपक्षी दलों अन्य नेताओं ने उससे दूरी बना राखी थी। बीजेपी नेता और केंद्रीय राज्य मंत्री, वी मुरलीधरन LKS के सम्मलेन के मुख्य अतिथि थे। लेकिन उन्होंने भी इसमें भाग नहीं लिया।

विपक्ष के नेता रमेश चेन्निथला ने जून 2019 में दो कारोबारियों की आत्महत्या के विरोध में LKS उपाध्यक्ष का पद छोड़ दिया था। मृतकों में कन्नूर से साजन परील और पुनालुर से सुगाथन शामिल थे। दोनों को कथित तौर पर उनके महँगे निर्माणों के लिए सरकार की ओर से प्रशासनिक मंज़ूरी नहीं दी गई। विपक्ष ने तिरुवनंतपुरम में लोक केरल सभा द्वारा आर शंकर नारायणन थम्पी हॉल के पुनर्निर्मित करने के खर्च पर भी नाराज़गी जताई थी।

LKS का तीन दिवसीय बैठक शुक्रवार (27 दिसंबर) को सम्पन्न हुआ था। राहुल गाँधी का प्रशंसा-पत्र सामने आने के बाद कॉन्ग्रेस नेता उनके बचाव में जुट गए हैं। पार्टी महासचिव केसी वेणुगोपाल का कहना है कि राहुल गाँधी के पत्र में कुछ भी राजनीतिक नहीं है। उन्होंने त्रिशुर में कहा, “UDF ने जब LKS का बहिष्कार करने का फैसला किया उससे पहले ही यह पत्र भेजा जा चुका था।”

लोकसभा में सो रहे थे राहुल गाँधी, भारत-चीन पर बोल रहे थे अधीर रंजन: देखें वीडियो

वे गायब हैं, मैं चिंतित हूँ: वायनाड में सांसद राहुल गाँधी को लेकर दर्ज कराई गई ‘मिसिंग कंप्लेंट’

राहुल गाँधी ने आँख मारी तो उनके विधायक जी ने भरी सभा में दे दी फ्लाइंग किस

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

नेता खाएँ मलाई इसलिए कॉन्ग्रेस के साथ AAP, पानी के लिए तरसते आम आदमी को दोनों ने दिखाया ठेंगा: दिल्ली जल संकट में हिमाचल...

दिल्ली सरकार ने कहा है कि टैंकर माफिया तो यमुना के उस पार यानी हरियाणा से ऑपरेट करते हैं, वो दिल्ली सरकार का इलाका ही नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -