Sunday, June 23, 2024
Homeराजनीति'फूड पार्क में उगाएँ आलू के चिप्स और टोमैटो केचप': राहुल गाँधी फिर हुए...

‘फूड पार्क में उगाएँ आलू के चिप्स और टोमैटो केचप’: राहुल गाँधी फिर हुए ट्रोल, लोगों ने सोशल मीडिया पर कॉन्ग्रेस नेता का बनाया मजाक

लोगों ने कॉन्ग्रेस नेता का इस बात के मजाक उड़ाया, "राहुल गाँधी ने वादा किया है कि किसान फ़ूड पार्कों में आलू के चिप्स और टमाटर केचप जैसे तैयार उत्पाद उगा सकेंगे।"

सोमवार, 14 फरवरी, 2022 को, पंजाब के होशियारपुर में एक चुनावी रैली में, कॉन्ग्रेस नेता राहुल गाँधी ने कहा कि अगर उनकी पार्टी राज्य में फिर से चुनी जाती है, तो किसान अपनी उपज सीधे अपने खेतों से खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों को बेच सकेंगे। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार खेतों के पास फूड पार्क स्थापित करेगी, जो खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों का संचालन करेगा।

हालाँकि, भाषण के दौरान, राहुल गाँधी ने कहा कि किसान फूड पार्कों में आलू के चिप्स और टमाटर केचप की खेती कर सकेंगे। राहुल गाँधी को एएनआई द्वारा साझा किए गए 1.19 मिनट के वीडियो में लगभग 0.30 सेकंड में यह कहते हुए सुना जा सकता है, “होशियारपुर कृषि और कृषि उपकरणों का केंद्र है। हमारी सरकार होशियारपुर में फूड पार्क और मशीन टूल्स का क्लस्टर बनाने का काम करेगी। फूड पार्क में किसान जो भी ‘उगाते’ हैं, चाहे वह आलू के चिप्स हों या टोमैटो केचप, वह यहीं बनेगा। आप अपने खेत में फसल की खेती करते हैं, और वहाँ से इसे सीधे खाद्य प्रसंस्करण इकाई में ले जाते हैं।”

विकास सारस्वत ने राहुल गाँधी पर तंज करते ट्ववीट किया, “इनके पिताजी का एक मशहूर किस्सा है। आगरा आ रहे थे। रास्ते में खेतों के पास रुक गए। मिर्च उगी हुई थी। हाथ में हरी मिर्च लेकर किसानों से पूछा “हरी मिर्च ज्यादा की बिकती है या लाल?” किसानों ने कहा “लाल”। इनके तीक्ष्ण बुद्धि पापाजी तपाक से बोले “तो आप लोग लाल मिर्च क्यों नहीं उगाते?”

हालाँकि, सोशल मीडिया पर नेटिज़न्स ने इसका इस्तेमाल उनका मज़ाक उड़ाने के लिए किया। लोगों ने कॉन्ग्रेस नेता का इस बात के मजाक उड़ाया, “राहुल गाँधी ने वादा किया है कि किसान फ़ूड पार्कों में आलू के चिप्स और टमाटर केचप जैसे तैयार उत्पाद उगा सकेंगे।” हालाँकि, इस बार राहुल गाँधी ने खाद्य प्रसंस्करण उद्योग के मामलों पर ध्यान नहीं दिया।

क्योंकि, अगले वाक्य में ही राहुल गाँधी कहते हैं कि किसान अपने खेतों से फसल को सीधे फूड पार्कों में ला सकेंगे, जहाँ उसे संसाधित किया जाएगा और अंतिम खाद्य उत्पादों का उत्पादन किया जाएगा। “आप अपने खेत में फसल उगाएँगे, वहाँ से आप इसे सीधे खाद्य प्रसंस्करण इकाई में ले जाएँगे। आलू, टमाटर, मिर्च, किसान जो कुछ भी उगाते हैं, वे सीधे खाद्य प्रसंस्करण इकाई में ले जा सकते हैं, और उन्हें सीधे भुगतान मिल जाएगा।”

सामान्य तौर पर, यह एक ऐसा वादा है जो मोदी सरकार ने पहले ही किया था। यह ऐसा कुछ नहीं है जो राहुल गाँधी ने पहली बार कहा, जैसा कि कुछ नेटिज़न्स द्वारा आरोप लगाया गया है, और उनके ‘फूड पार्क में चिप्स और केचप उगाना’ एक छोटा सा स्लिप ऑफ़ टंग है।

लेकिन समस्या यह है कि राहुल गाँधी का किसानों से वादा है कि वे अपनी उपज फूड पार्कों को बेच सकेंगे, क्योंकि कॉन्ग्रेस पार्टी एक साल से अधिक समय से उसी कृषि कानूनों का विरोध कर रही थी, जो बिल्कुल वैसा ही सुनिश्चित करते थे। अब निरस्त किए गए कृषि कानूनों में किसानों को बिचौलियों को दरकिनार करने और खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों सहित अंतिम उपयोगकर्ताओं को सीधे बेचने की अनुमति देने वाले प्रावधान थे। लेकिन इसी प्रावधान का किसान संघों और कॉन्ग्रेस पार्टी ने कड़ा विरोध किया था।

उन्होंने आरोप लगाया था कि खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों को सीधे किसानों से खरीदने की अनुमति देने से वे बाजार पर नियंत्रण कर सकेंगे और किसानों का शोषण करेंगे। उन्होंने आरोप लगाया था कि पीएम मोदी ने अपने ‘उद्योगपति मित्रों’ को लाभ पहुँचाने के लिए कृषि कानून लाए थे जो खाद्य प्रसंस्करण व्यवसाय में हैं। उन्होंने कृषि उपज के व्यापार में बिचौलियों के कई लाभों को सूचीबद्ध किया था और ऐसे किसी भी प्रावधान का विरोध किया था जो किसानों को मंडियों सहित ऐसे बिचौलियों को बायपास करने की अनुमति देता था। पंजाब में कॉन्ग्रेस सरकार द्वारा सहायता प्राप्त किसान संघों के आक्रामक विरोध के कारण, केंद्र सरकार ने कृषि कानूनों को वापस ले लिया था, जिन्हें सुप्रीम कोर्ट ने पहले ही निलंबित कर दिया था।

और अब कॉन्ग्रेस नेता राहुल गाँधी ठीक वही वादा कर रहे हैं, जिसका वे और उनकी पार्टी डेढ़ साल से विरोध कर रहे थे। अब उनका कहना है कि किसान मंडी या बिचौलिए के पास जाने से बच सकते हैं और सीधे खाद्य प्रसंस्करण इकाई को बेच सकते हैं। यह कॉन्ग्रेस सांसद की दोहरी नीति है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किसानों के आंदोलन से तंग आ गए स्थानीय लोग: शंभू बॉर्डर खुलवाने पहुँची भीड़, अब गीदड़-भभकी दे रहे प्रदर्शनकारी

किसान नेताओं ने अंबाला शहर अनाज मंडी में मीडिया बुलाई, जिसमें साफ शब्दों में कहा कि आंदोलन खराब नहीं होना चाहिए। आंदोलन खराब करने वाला खुद भुगतेगा।

‘PM मोदी ने किया जी अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन का उद्घाटन, गिर गई उसकी दीवार’: News24 ने फेक न्यूज़ परोस कर डिलीट की ट्वीट,...

अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन से जुड़े जिस दीवार के दिसंबर 2023 में बने होने का दावा किया जा रहा है, वो दावा पूरी तरह से गलत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -