Tuesday, July 27, 2021
Homeराजनीतिगहलोत पर फिर संकट: सचिन पायलट शांत हुए तो निर्दलीय, BSP से आए 19...

गहलोत पर फिर संकट: सचिन पायलट शांत हुए तो निर्दलीय, BSP से आए 19 MLA बागी, माँग रहे सरकार बचाने का इनाम

अब 13 निर्दलीय और बसपा छोड़कर कॉन्ग्रेस में आए 6 विधायक सरकार बचाने के लिए सीएम गहलोत से इनाम माँग रहे हैं। इन सभी 19 विधायकों का कहना है कि जब सचिन पायलट गुट ने बगावत की थी और सरकार गिरने वाली थी, तब इन्होंने ही सरकार को समर्थन देकर बचाए रखा। अब उन्हें इसका इनाम मिलना चाहिए।

राजस्थान में बीते कुछ दिनों से जारी सियासी घमासान में हर दिन नया ट्विस्ट देखने को मिल रहा है। नाराज सचिन पायलट को मनाने के बाद बुधवार (23 जून 2021) को सीएम अशो​क गहलोत के समर्थन को लेकर होने वाली बैठक में नया मोड़ आ गया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अब 13 निर्दलीय और बसपा छोड़कर कॉन्ग्रेस में आए 6 विधायक सरकार बचाने के लिए सीएम गहलोत से इनाम माँग रहे हैं। इन सभी 19 विधायकों का कहना है कि जब सचिन पायलट गुट ने बगावत की थी और सरकार गिरने वाली थी, तब इन्होंने ही सरकार को समर्थन देकर बचाए रखा। अब उन्हें इसका इनाम मिलना चाहिए।

निर्दलीय विधायकों में से एक रामकेश मीणा ने सचिन पायलट गुट पर हमला बोलते हुए कहा कि भाजपा के कहने पर पायलट की बगावत की योजना तैयार हुई थी। उन्होंने कहा कि पायलट जितने दिन राजस्थान में रहेंगे उतना ही कॉन्ग्रेस को नुकसान होगा। मुख्यमंत्री बनने के लिए पायलट ने प्रदेश अध्यक्ष रहते हुए षड्यंत्र रच कर अपनी ही सरकार को गिराने का प्रयास किया, यह देश में पहला उदाहरण है। राजस्थान की जनता ऐसे उद्दंड को पसंद नहीं करेगी।

राजस्थान में 13 में से 12 निर्दलीय विधायक संयम लोढ़ा, रामकेश मीणा, रमीला खड़िया, सुरेश टंक, खुशवीर सिंह, महादेव सिंह खंडेला, ओम प्रकाश हुडला, रामकुमार गौर, कांति चंद मीणा, लक्ष्मण मीणा, आलोक बेनीवाल, बाबूलाल नगर ने आज शाम को जयपुर के एक होटल में बैठक बुलाई।

निर्दलीय विधायकों ने इस बैठक में सरकार से ग्राम सेवकों और पटवारियों के रिक्त पदों को भरने के लिए शासन में सुधार करने और अनुबंधित श्रमिकों को नियमित करने की प्रक्रिया शुरू करने की माँग की। विधायक संयम लोढ़ा ने कहा कि सीएम गहलोत को कोरोना से निपटने के लिए बधाई देते हैं और उनके नेतृत्व में अपना विश्वास दोहराते हैं।

निर्दलीय विधायक लोढ़ा ने आगे कहा कि कैबिनेट का विस्तार कब और किसे शामिल किया जाए, यह तय करना मुख्यमंत्री का विशेषाधिकार है। यह राज्य के लोगों के हित में नहीं है कि वे दबाव बनाएँ और इसके लिए समय सीमा (कैबिनेट विस्तार) की माँग करें।

बता दें कि राजस्थान में साल 2018 में हुए चुनाव में कॉन्ग्रेस ने 99 सीटों पर जीत हासिल की थी, जिसके बाद बसपा विधायकों के साथ मिलकर अशोक गहलोत ने सरकार बनाई थी। हालाँकि, साल 2020 में सचिन पायलट ग्रुप के बागी होने पर 18 विधायक टूटने की कगार पर थे, जिससे सरकार पर संकट आ गया था। इस दौरान राजस्थान के 13 निर्दलीय विधायकों ने समर्थन का ऐलान कर गहलोत की सरकार को गिरने से बचाया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,362FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe