Monday, June 14, 2021
Home राजनीति अपने ही दाँव में उलझे गहलोत: गवर्नर ने कानून-व्यवस्था पर पूछे सवाल, कहा- सभी...

अपने ही दाँव में उलझे गहलोत: गवर्नर ने कानून-व्यवस्था पर पूछे सवाल, कहा- सभी विधायकों की स्वतंत्रता सुनिश्चित करें

"अगर आप और आपका गृह मंत्रालय राज्यपाल की रक्षा नहीं कर सकता तो राज्य में कानून-व्यवस्था का क्या होगा? राज्यपाल की सुरक्षा के लिए किस एजेंसी से संपर्क किया जाना चाहिए? मैंने कभी किसी सीएम का ऐसा बयान नहीं सुना। क्या यह एक गलत प्रवृत्ति की शुरुआत नहीं है, जहाँ विधायक राजभवन में विरोध-प्रदर्शन करते हैं?"

राजस्थान में तेजी से बदलते राजनीतिक घटनाक्रम के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार (24 मई 2020) को गवर्नर कलराज मिश्र पर दबाव बनाने की कोशिश की। लेकिन रात होते-होते यह दॉंव उन्हें भारी पड़ता नजर आया।

पहले तो कॉन्ग्रेसी विधायकों को राजभवन से होटल लौटना पड़ा। उसके बाद राज्यपाल ने गहलोत को पत्र लिखकर राज्य में कानून-व्यवस्था की स्थिति पर सवाल पूछा है। यह पत्र गहलोत की उस धमकी के आलोक में लिखा गया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि यदि जनता राजभवन का घेराव कर लेती है तो हमारी जिम्मेदारी नहीं होगी।

गवर्नर ने अपने पत्र में अशोक गहलोत से कहा है, “इससे पहले कि मैं विधानसभा सत्र के संबंध में विशेषज्ञों से चर्चा करता, आपने सार्वजनिक रूप से कहा कि यदि राजभवन घेराव होता है तो यह आपकी जिम्मेदारी नहीं है।”

उन्होंने लिखा है, “अगर आप और आपका गृह मंत्रालय राज्यपाल की रक्षा नहीं कर सकता तो राज्य में कानून-व्यवस्था का क्या होगा? राज्यपाल की सुरक्षा के लिए किस एजेंसी से संपर्क किया जाना चाहिए? मैंने कभी किसी सीएम का ऐसा बयान नहीं सुना। क्या यह एक गलत प्रवृत्ति की शुरुआत नहीं है, जहाँ विधायक राजभवन में विरोध-प्रदर्शन करते हैं?”

यह पत्र राज्य कैबिनेट की बैठक से ठीक पहले सामने आया है। राज्यपाल सचिवालय ने बताया है कि राज्य सरकार के जरिए 23 जुलाई की रात को विधानसभा के सत्र को काफी कम नोटिस के साथ बुलाए जाने की पत्रावली पेश की गई। पत्रावली का एनालिसिस किया गया और कानून विशेषज्ञों से परामर्श लिया गया। इस संबंध में जो दस्तावेज दिए गए हैं उसमें न तो सत्र बुलाने की तारीख का उल्लेख है और न इस संबंध में कैबिनेट की मॅंजूरी मिलने का जिक्र।

सचिवालय ने बताया है कि शॉर्ट नोटिस पर सत्र बुलाए जाने के लिए न तो कोई जस्टिफिकेशन दिया गया है और न ही कोई एजेंडा प्रस्तावित किया गया है। सामान्य प्रक्रिया में सत्र बुलाए जाने के लिए 21 दिन का नोटिस दिया जाना जरूरी होता है। साथ ही राज्य सरकार से राज्य सरकार को सभी विधायकों की स्वतंत्रता सुनिश्चित करने को कहा गया है।

अशोक गहलोत ने सरकार बचाने की कोशिशों के तहत। राज्यपाल पर दबाव बनाने की कोशिश की थी। यह कवायद सचिन पायलट और उनके समर्थकों को हाई कोर्ट से मिली राहत के बाद की गई।

गहलोत ने राजभवन घेरकर अनिश्चितकाल तक धरना देने का आह्मवन भी किया। इसके बाद उन्होंने अपने समर्थकों के साथ राजभवन पर धरना दिया, लेकिन शाम तक सब बैठक के लिए होटल रवाना हो गए।

इससे पहले गहलोत ने धमकियाने अंदाज में राजभवन को घेरने की धमकी दी थी। उन्होंने कहा था, “राज्यपाल बिन दबाव में आए सत्र को बुलाएँ। वरना पूरे राज्य की जनता अगर राजभवन को घेरने के लिए आ गई तो हमारी जिम्मेदारी नहीं होगी।”

इस बीच उन कॉन्ग्रेस विधायकों का एक वीडियो सामने आया है जिन्हें कैद करने का आरोप पार्टी लगा रही थी। इस वीडियो में हम देख सकते हैं कि विधायक कहते हैं कि सीएम गहलोत पुराने नेता होने के बावजूद उन्होंने जिस प्रकार के इल्जाम उन लोगों पर लगाएँ, उससे वह लोग बहुत आहत हैं। उन लोगों ने कभी कॉन्ग्रेस नहीं छोड़ी थी और न ही कभी भाजपा के संपर्क में आए थे। वे तो बस गहलोत की कार्यप्रणाली से व्यथित होकर कॉन्ग्रेस हाईकमान से मिल कर अपनी बात रखने दिल्ली आए थे।

विधायकों ने बताया कि वह दिल्ली में काफी समय से हैं। लेकिन आज भी सीएम गहलोत ने यह आरोप लगाया कि भाजपा ने उन्हें कैद किया हुआ है। जबकि वे तो उनके संपर्क में ही नहीं है। इसके विपरीत, वे गहलोत सरकार के रवैये से परेशान हैं। वे कहते हैं कि हमारे परिवार के लोग डरे हैं क्योंकि मुख्यमंत्री द्वारा एसओजी का उपयोग जो किया जा रहा है।

दूसरी ओर भाजपा भी कॉन्ग्रेस पर हमलावर हो गई है। भाजपा नेता व राजस्थान विधानसभा नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया ने राजभवन में गहलोत खेमे द्वारा नारेबाजी को देखकर कहा, “मुझे लगता है कि मुख्यमंत्री स्वयं अपने जाल में फँस गए। प्रारंभ से अब तक इनको निकलने का कोई रास्ता नहीं मिला और आज जो रास्ता ढूंढा है वो इस गरिमामय पद को गिराने वाला ही साबित होगा।”

उन्होंने आगे ये भी कहा, “मैं केंद्र सरकार से आग्रह करता हूँ कि समय की स्थिति को देखते हुए राजस्थान की पुलिस के भरोसे कानून-व्यवस्था को न छोड़कर CRPF को निश्चित तौर पर यहाँ तैनात करना चाहिए।”

यहाँ बता दें कि ये हलचल शुरू होने से पहले आज सुबह राजस्थान हाईकोर्ट से पायलट समर्थक नेताओं को स्पीकर की कार्रवाई से राहत मिली थी। हाईकोर्ट ने सचिन पायलट गुट को राहत देते हुए विधानसभा स्पीकर के आयोग्यता नोटिस पर यथास्थिति रखने का आदेश दिया था।

उल्लेखनीय है कि एक ओर जहाँ पायलट खेमे को कुछ अतिरिक्त समय के लिए राहत मिली है और गहलोत सरकार में हलचल शुरू हो गई है। वहीं इसी बीच पूरे मामले में भाजपा की एंट्री हुई है।

दरअसल, आज भाजपा नेता मदन दिलावर ने राजस्थान हाईकोर्ट में याचिका दायर की है। इस याचिका में उन्होंने बसपा BSP के 6 विधायकों के कॉन्ग्रेस के साथ हुए विलय को रद्द करने का अनुरोध किया है। इस याचिका में उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष की ‘निष्क्रियता’ को भी चुनौती दी गई है, जिन्होंने बहुजन समाज पार्टी के विधायकों को विधानसभा से अयोग्य ठहराने के उनके अनुरोध पर कोई निर्णय नहीं लिया है। राजस्थान हाईकोर्ट सोमवार को इस याचिका पर सुनवाई करेगा

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र द्वारा किए गए जमीन के सौदे की पूरी सच्चाई, AAP के खोखले दावों की पूरी पड़ताल

अंसारी को जमीन का मालिकाना मिलने के बाद मंदिर ट्रस्ट और अंसारी के बीच बिक्री समझौता हुआ। अंसारी ने जमीन को 18.5 करोड़ रुपए में ट्रस्ट को बेचने की सहमति जताई।

2030 तक 2.6 करोड़ एकड़ बंजर जमीन का होगा कायाकल्प, 10 साल में बढ़ा 30 लाख हेक्टेयर वन क्षेत्र: UN वर्चुअल संवाद में PM...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को संयुक्त राष्ट्र में मरुस्थलीकरण, भूमि क्षरण और सूखे पर उच्च स्तरीय वर्चुअल कार्यक्रम को संबोधित किया।

ट्रस्ट द्वारा जमीन के सौदे में घोटाले का आरोप एक सुनियोजित दुष्प्रचार, समाज में उत्पन्न हुई भ्रम की स्थिति: चंपत राय

पारदर्शिता के विषय में चंपत राय ने कहा कि तीर्थ क्षेत्र का प्रथम दिवस से ही निर्णय रहा है कि सभी भुगतान बैंक से सीधे खाते में ही किए जाएँगे, सम्बन्धित भूमि की क्रय प्रक्रिया में भी इसी निर्णय का पालन हुआ है।

श्रीराम मंदिर के लिए सदियों तक मुगलों से सैकड़ों लड़ाई लड़े तो कॉन्ग्रेस-लेफ्ट-आप इकोसिस्टम से एक और सही

जो कुछ भी शुरू किया गया है वह हवन कुंड में हड्डी डालने जैसा है पर सदियों से लड़ी गई सैकड़ों लड़ाई के साथ एक लड़ाई और सही।

महाराष्ट्र में अब अकेले ही चुनाव लड़ेगी कॉन्ग्रेस, नाना पटोले ने सीएम उम्मीदवार बनने की जताई इच्छा

पटोले ने अमरावती में कहा, ''2024 के चुनाव में कॉन्ग्रेस महाराष्ट्र में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरेगी। केवल कॉन्ग्रेस की विचारधारा ही देश को बचा सकती है।''

चीन की वुहान लैब में जिंदा चमगादड़ों को पिंजरे के अंदर कैद करके रखा जाता था: वीडियो से हुआ बड़ा खुलासा

वीडियो ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के उस दावे को भी खारिज किया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि चमगादड़ों को लैब में रखना और कोरोना के वुहान लैब से पैदा होने की बात करना महज एक 'साजिश' है।

प्रचलित ख़बरें

राम मंदिर में अड़ंगा डालने में लगी AAP, ट्रस्ट को बदनाम करने की कोशिश: जानिए, ‘जमीन घोटाले’ की हकीकत

राम मंदिर जजमेंट और योगी सरकार द्वारा कई विकास परियोजनाओं की घोषणाओं के कारण 2 साल में अयोध्या में जमीन के दाम बढ़े हैं। जानिए क्यों निराधार हैं संजय सिंह के आरोप।

‘हिंदुओं को 1 सेकेंड के लिए भी खुश नहीं देख सकता’: वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप से पहले घृणा की बैटिंग

भारत के पूर्व तेज़ गेंदबाज वेंकटेश प्रसाद ने कहा कि जीते कोई भी, लेकिन ये ट्वीट ये बताता है कि इस व्यक्ति की सोच कितनी तुच्छ और घृणास्पद है।

सिख विधवा के पति का दोस्त था महफूज, सहारा देने के नाम पर धर्मांतरण करा किया निकाह; दो बेटों का भी करा दिया खतना

रामपुर जिले के बेरुआ गाँव के महफूज ने एक सिख महिला की पति की मौत के बाद सहारा देने के नाम पर धर्मांतरण कर उसके साथ निकाह कर लिया।

केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस में फिर होने वाली थी पिटाई? लोगों से पहले ही उतरवा लिए गए जूते-चप्पल: रिपोर्ट

केजरीवाल पर हमले की घटनाएँ कोई नई बात नहीं है और उन्हें थप्पड़ मारने के अलावा स्याही, मिर्ची पाउडर और जूते-चप्पल फेंकने की घटनाएँ भी सामने आ चुकी हैं।

इब्राहिम ने पड़ोसी गंगाधर की गाय चुराकर काट डाला, मांस बाजार में बेचा: CCTV फुटेज से हुआ खुलासा

इब्राहिम की गाय को जबरदस्ती घसीटने की घिनौनी हरकत सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई। गाय के मालिक ने मालपे पुलिस स्टेशन में आरोपित के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है।

6 साल के पोते के सामने 60 साल की दादी को चारपाई से बाँधा, TMC के गुंडों ने किया रेप: बंगाल हिंसा की पीड़िताओं...

बंगाल हिंसा की गैंगरेप पीड़िताओं ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। बताया है कि किस तरह टीएमसी के गुंडों ने उन्हें प्रताड़ित किया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
103,862FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe