Tuesday, July 23, 2024
Homeराजनीति'पायलट के गद्दारों को गोली मारो…': राजस्थान में कॉन्ग्रेस विधायक दानिश अबरार के खिलाफ...

‘पायलट के गद्दारों को गोली मारो…’: राजस्थान में कॉन्ग्रेस विधायक दानिश अबरार के खिलाफ कॉन्ग्रेसियों ने ही लगाए नारे, बुजुर्गों ने कसम देकर शांत करवाया

यह नारेबाजी गुर्जर समाज के युवाओं द्वारा की जा रही थी। जिसकी वजह से थोड़े देर के लिए तो कार्यक्रम स्थल पर ही अफरा तफरी मच गई। इसके बाद बड़े-बुजुर्गों ने युवाओं को भगवान देवनारायण की कसम देकर किसी तरह से शांत कराया।

सवाई माधोपुर के कॉन्ग्रेस विधायक और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के सलाहकार दानिश अबरार को पायलट समर्थकों के विरोध का सामना करना पड़ा। समर्थकों ने ‘पायलट के गद्दारों को गोली मारो, दानिश अबरार मुर्दाबाद-मुर्दाबाद के जमकर नारे लगाए। इससे माहौल बिगड़ता देख गुर्जर समाज के बड़े-बुजुर्गों ने किसी तरह मामले को शांत करवाने की कोशिश की। मामला गुरुवार 21 सितम्बर, 2023  का है। 

भगवान देवनारायण के वार्षिकोत्सव समारोह में लगे नारे 

दरअसल, विधायक दानिश अबरार को भगवान देवनारायण के वार्षिकोत्सव समारोह में बतौर मुख्य अतिथि शामिल होना था। इस दौरान जैसे ही वे कार्यक्रम स्थल पर पहुँचे, वहाँ पहले से मौजूद पायलट समर्थकों ने ‘पायलट के गद्दारों को गोली मारो’, ‘दानिश अबरार मुर्दाबाद’ का शोर मचाते हुए नारेबाजी करना शुरू कर दिया।

यह नारेबाजी गुर्जर समाज के युवाओं द्वारा की जा रही थी। जिसकी वजह से थोड़े देर के लिए तो कार्यक्रम स्थल पर ही अफरा तफरी मच गई। इसके बाद बड़े-बुजुर्गों ने युवाओं को भगवान देवनारायण की कसम देकर किसी तरह से शांत कराया।

नारेबाजी के बीच भी मंच पर बैठे रहे विधायक दानिश अबरार 

गुर्जर समाज के भगवान देवनारायण मंदिर के वार्षिकोत्सव समारोह में पहुँचे विधायक अबरार का जमकर विरोध हुआ। बता दें कि सीएम अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच विवाद में प्रदेश कॉन्ग्रेस भी दो खेमों में बँटी नजर आ रही है। विधायक दानिश अबरार के गहलोत खेमे में होने के कारण सचिन पायलट समर्थक उनके खिलाफ हैं। इसलिए कार्यक्रम की उनकी उपस्थिति का विरोध करने के लिए गुर्जर समाज के युवाओं ने अबरार के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए विरोध किया। 

उल्टे पाँव लौटे विधायक

गौरतलब है कि गुर्जर समाज के युवाओं के विरोध के कारण विधायक दानिश अबरार पहले तो थोड़ी देर मंच पर बैठे रहे। लेकिन थोड़ी ही देर में माहौल बिगड़ने की आशंका के चलते वह कार्यक्रम से चले गए। वही उनके जाने के बाद युवाओं ने वापस से उनके खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20000 महिलाओं को रेप-मौत से बचाने के लिए जब कॉन्ग्रेसी मंत्री ने RSS से माँगी थी मदद: एक पत्र में दर्ज इतिहास, जिसे छिपा...

पत्र में कहा गया था कि आरएसएस 'फील्ड वर्क' के लिए लोगों को अत्यधिक प्रशिक्षित करेगा और संघ प्रमुख श्री गोलवरकर से परामर्श लिया जा सकता है।

कागज तो दिखाना ही पड़ेगा: अमर, अकबर या एंथनी… भोले के भक्तों को बेचना है खाना, तो जरूरी है कागज दिखाना – FSSAI अब...

सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि कांवड़ रूट में नाम दिखने पर रोक लगाई जा रही है, लेकिन कागज दिखाने पर कोई रोक नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -