Monday, May 16, 2022
Homeराजनीतिराम को काल्पनिक बताने वाले कॉन्ग्रेस MP को संबित पात्रा ने कहा 'राइस बैग...

राम को काल्पनिक बताने वाले कॉन्ग्रेस MP को संबित पात्रा ने कहा ‘राइस बैग कन्वर्ट’, आखिर क्या है इसका मतलब

राइस बैग कन्वर्ट या राइस क्रिश्चियन, शब्द का उपयोग ऐसे लोगों को संदर्भित करने के लिए किया जाता है, जो मिशनरियों से प्रेरित होकर अपने फायदे के लिए ईसाई धर्म में परिवर्तित हो जाते हैं।

बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने अयोध्या और राम मंदिर भूमिपूजन को लेकर न्यूज़ चैनल पर हो रही एक डिबेट के दौरान कॉन्ग्रेस के राज्यसभा सांसद कुमार केतकर को ‘राइस बैग कन्वर्ट’ कहा। कॉन्ग्रेस सांसद ने दावा किया था कि भगवान श्रीराम इतिहास या फिर साहित्य की रचना है।

कॉन्ग्रेस नेता ने कहा था, “रामायण की वजह से राम का अस्तित्व है। हालाँकि, इस निष्कर्ष पर पहुँचना अभी बाकी है कि राम इतिहास इतिहास की रचना है या साहित्य की। वाल्मीकि ने एक महान महाकाव्य लिखा था और इसका प्रभाव भारत और विदेशों दोनों में महसूस किया गया था। लेकिन, मुझे नहीं पता कि वह इतिहास में मौजूद है या नहीं।”इस बयान पर संबित पात्रा ने उन्हें राइस बैग कन्वर्ट कहते हुए संबोधित किया।

केतकर के विवादित बयान पर मुँहतोड़ जवाब देते हुए संबित पात्रा ने कहा,”ये कॉन्ग्रेस का आदमी क्या कहना चाहता है? वह पूछ रहा है कि भगवान राम इतिहास या साहित्य की रचना हैं? ये हमें राम के अस्तित्व के सबूत दिखाने को कह रहा है। अगर आपने अल्लाह के बारे में ऐसे ही बात कही होती, तो अब तक आपका सर कट चुका होता। आभारी रहें कि आप एक हिंदू हैं, वरना आप ऐसा कुछ कहने का दुस्साहस नहीं कर पाते।”

राइस बैग कन्वर्ट का मतलब

राइस बैग कन्वर्ट या राइस क्रिश्चियन, शब्द का उपयोग ऐसे लोगों को संदर्भित करने के लिए किया जाता है, जो मिशनरियों से प्रेरित होकर अपने फायदे के लिए ईसाई धर्म में परिवर्तित हो जाते हैं। 19 वीं शताब्दी में प्रकाशित ब्रूअर डिक्शनरी ऑफ फ्रेज़ एंड फैबल ने राइस क्रिश्चियन को “सांसारिक लाभों के लिए ईसाई धर्म में धर्मान्तरित, जैसे कि भारतीयों को चावल की आपूर्ति के रूप में परिभाषित किया।” ईसाई धर्म का जन्म धन से हुआ है, विश्वास से नहीं।

साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट के लिए एक लेख में जेसन वर्डी ने लिखा, “17 वीं सदी के अंत में इंडो-पैसिफिक का दौरा करने वाले एक अंग्रेज खोजकर्ता विलियम डाम्पियर के लेखन में राइस क्रिश्चियन शब्द का उल्लेख है। डाम्पियर ने इंडो-चाइना में उस समय सक्रिय फ्रांसीसी कैथोलिक पुजारियों के बारे में लिखा था। जिसमें उन्होंने कहा कि उपदेश की जगह चावल की भिक्षा देने से अधिक लोग ईसाई धर्म में परिवर्तित हुए हैं।

उन्होंने आगे कहा, “16 वीं शताब्दी से यूरोपीय समुद्री यात्रा के लिए यूरोपीय यात्राओं के मद्देनजर भौतिक रूप से अवसरवादी धार्मिक अनुयायी इस क्षेत्र में पहुँचे। इन्हें लोग आमतौर पर “राइस क्रिश्चियन” के रूप में जानते थे। इन लोगों का हॉन्गकॉन्ग और अन्य जगहों पर एक लंबा और आमतौर पर अरुचिकर इतिहास है। इस प्रकार इसका मतलब सिर्फ यह नहीं कि लोग सिर्फ चावल का लालच देते थे या सिर्फ चावल तक ही सीमित थे। लेकिन चावल (खाने की सामग्री) ही धर्म परिवर्तन की प्रमुख वजह मानी जाती है।”

राइस बैग कन्वर्ट और राइस क्रिश्चियन

कहा जाता है कि, राइस बैग कन्वर्ट और राइस क्रिश्चियन से संबंधित मामले अक्सर भारत, जापान और चीन जैसे एशियाई देशों से आते हैं। इतिहास में जापान ने धर्म परिवर्तन को खत्म करने के ईसाई मिशनरियों के साथ युद्ध किया, क्योंकि वे उन्हें सांस्कृतिक और साथ ही राजनीतिक खतरा मानते थे।

बदलते दौर में अब ईसाई मिशनरी धर्मांतरण के लिए चावल के थैलों का इस्तेमाल नहीं करते हैं, क्योंकि अब लोगों को अलग-अलग वस्तु का लालच दिया जाता है। मिशन इंडिया, एक ईसाई संगठन है। इस संगठन ने अपने एक परियोजना का नाम राइस बैग प्रोजेक्ट रखा है। इस परियोजना में बच्चों को ‘मिशन इंडिया राइस बैग्स’ सौंपा जाता है।

वहीं कुछ ईसाई संगठनों ने इसके खिलाफ आवाज भी उठाई है, क्योंकि उनका मानना ​​है कि लालच के माध्यम से किया गया रूपांतरण दिल से परिवर्तन नहीं होता, इसका परिवर्तन सिर्फ सतह पर होता है। उनमें से कुछ ने मिशनरियों को निर्देश भी जारी किए हैं ताकि दूसरे संगठन धर्मांतरण के लिए लालच का उपयोग करने से परहेज करें।

एक लेख में कहा गया है, “कंबोडिया के रिलेटिव रिलिजन फ्रीडम ने ईसाई समूहों को राज्य में दुकान स्थापित करने के लिए प्रोत्साहित किया है, लेकिन वे गरीबों को उपदेश देते हुए उन्हें ‘राइस क्रिश्चियन’ बनाते हैं।”

एक और लेखक ने उल्लेख किया है, “अपनी सर्वश्रेष्ठ क्षमता के लिए मैंने इसे भली-भाँति समझाने की कोशिश की, लेकिन गुमराह करने वाले पादरी ने कहा कि क्रॉस-कल्चरल मिनिस्ट्री के लिए उनका दृष्टिकोण राइस राइस क्रिश्चियन के लिए बाध्य था जो अमेरिकन वकेशनलैंड का फ्री ट्रिप का लोगों को लालच देते थे।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

योगी सरकार के कारण टूटा संगठन: BKU से निकलने के बाद टिकैत भाइयों के बयानों में फूट, एक ने मढ़ा BJP पर इल्जाम, दूसरा...

भारतीय किसान यूनियन में हुई फूट के मुद्दे पर राकेश टिकैत ने सरकार को दिया दोष, तो नरेश टिकैत ने किसी भी प्रकार की राजनीति होने से इंकार किया।

बॉलीवुड फिल्मों के फेल होने के पीछे कंगना ने स्टार किड्स को बताया जिम्मेदार, बोलीं- उबले अंडे जैसी शक्ल होती है इनकी, कौन देखेगा

कंगना रनौत ने एक बार फिर से स्टार किड्स को लेकर टिप्पणी की। उन्होंने कहा कि स्टार किड्स दर्शकों से कनेक्ट नहीं कर पाते। उनके चेहरे उबले अंडे जैसे लगते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
185,988FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe