2025 तक खत्म हो जाएगा पाकिस्तान, कराची-रावलपिंडी में खरीद सकेंगे मकान: RSS नेता

इंद्रेश ने यूरोपियन यूनियन की तर्ज पर "भारतीय यूनियन ऑफ़ अखंड भारत" के जन्म का रास्ता तैयार होने की भी बात कही। इसके साथ ही उन्होंने पुलवामा आतंकी हमले के बाद बालाकोट में हुए वायुसेना के ऑपरेशन का सबूत माँगने के लिए विपक्ष को भी आड़े हाथों लिया।

आरएसएस नेता और राष्ट्रीय मुस्लिम मंच के प्रमुख इंद्रेश कुमार ने शनिवार को दावा किया कि आने वाले 2025 तक पाकिस्तान खत्म हो जाएगा। उसका हिंदुस्तान में विलय हो जाएगा। उन्होंने कहा, “आप लिखकर ले लीजिए 5-7 साल में आप कराची, लाहौर, रावलपिंडी, सियालकोट में मकान खरीदेंगे और बिज़नेस करने का मौका मिलेगा।” वे कश्मीर पर एक सभा को सम्बोधित कर रहे थे।

उन्होंने याद दिलाया कि 1947 के पहले पाकिस्तान हिंदुस्तान का ही हिस्सा था और दावा किया कि 2025 के बाद वह फिर से हिंदुस्तान का ही हिस्सा बन जाएगा। उन्होंने “अखंड भारत” का भी ज़िक्र किया।

“हम ये सपने लेकर बैठे हैं कि लाहौर जाकर बैठेंगे”

इंद्रेश ने राजनीतिक इच्छशक्ति में बदलाव की भी बात की। उन्होंने कहा, “अब विलपावर पॉलिटिकली चेंज हो गई। इसीलिए हम ये सपने लेकर बैठे हैं कि लाहौर जाकर बैठेंगे और कैलाश मानसरोवर के लिए चीन से इजाज़त नहीं लेनी पड़ेगी। ढाका में भी हमने अपने हाथ की सरकार बनाई है।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इंद्रेश ने यूरोपियन यूनियन की तर्ज पर “भारतीय यूनियन ऑफ़ अखंड भारत” के जन्म का रास्ता तैयार होने की भी बात कही। इसके साथ ही उन्होंने पुलवामा आतंकी हमले के बाद बालाकोट में हुए वायुसेना के ऑपरेशन का सबूत माँगने के लिए विपक्ष को भी आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा, “जब सेना की तारीफ होती है तो वे सबूत माँगने लगते हैं। मोदी का विरोध करने में पाकिस्तान की तारीफ़ करने लगते हैं। ऐसे गद्दारों के लिए एक नया कानून होना चाहिए, चाहे वे JNU में पढ़ रहे हों, या महाराष्ट्र में हों। उसके बाद कोई नसीरुद्दीन, हामिद अंसारी या सिद्धू नहीं होगा।”

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कमलेश तिवारी
कमलेश तिवारी की हत्या के बाद एक आम हिन्दू की तरह, आपकी तरह- मैं भी गुस्से में हूँ और व्यथित हूँ। समाधान तलाश रहा हूँ। मेरे 2 सुझाव हैं। अगर आप चाहते हैं कि इस गुस्से का हिन्दुओं के लिए कोई सकारात्मक नतीजा निकले, मेरे इन सुझावों को समझें।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

105,514फैंसलाइक करें
19,261फॉलोवर्सफॉलो करें
109,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: