Sunday, October 17, 2021
Homeराजनीतिमेरी निष्ठा कॉन्ग्रेस की विचारधारा के प्रति, किसी व्यक्ति या परिवार से नहीं: संजय...

मेरी निष्ठा कॉन्ग्रेस की विचारधारा के प्रति, किसी व्यक्ति या परिवार से नहीं: संजय झा ने कहा- लड़ाई अभी शुरू हुई है

"मेरी निष्ठा कॉन्ग्रेस की विचारधारा के प्रति है। मेरी निष्ठा किसी व्यक्ति या परिवार से नहीं है। मैं कॉन्ग्रेस में गाँधी-नेहरूवादी आदर्शवादी (कॉन्ग्रेस के भीतर लुप्त होती नस्ल) बना हुआ हूँ। मैं उन मुद्दों को उठाता रहूँगा, जो मेरी पार्टी के पुनरुत्थान के लिए मूलभूत हैं। लड़ाई अभी शुरू हुई है।"

राजस्‍थान के सियासी ड्रामे के बीच हाल ही में संजय झा ने कुछ सुझाव दिए थे। जिसके बाद कॉन्ग्रेस हाईकमान के इशारे पर पार्टी विरोधी गतिविधियों और अनुशासनहीनता में शामिल होने के कारण संजय झा को तत्काल प्रभाव से कॉन्ग्रेस पार्टी से निलंबित कर दिया गया। संजय झा ने महाराष्ट्र कॉन्ग्रेस के इस फैसले को दुर्भाग्यपूर्ण और शर्मनाक बताया है। वहीं बुधवार (15 जुलाई, 2020) को उन्होंने एक ट्वीट के जरिए कहा, “वह पार्टी की विचारधारा के प्रति वफादार हैं, लेकिन उनकी वफादारी किसी व्यक्ति या परिवार के प्रति नहीं है।”

कॉन्ग्रेस के बागी नेता सचिन पायलट संबंधी मामले से निपटने के तरीके को लेकर पार्टी की आलोचना करने वाले झा ने कहा कि वह गाँधीवाद-नेहरूवादी विचारधारा में यकीन रखने वाले व्यक्ति हैं और यह विचारधारा अब कॉन्ग्रेस से लुप्त हो रही है।

संजय झा ने ट्वीट किया, “मेरी निष्ठा कॉन्ग्रेस की विचारधारा के प्रति है। मेरी निष्ठा किसी व्यक्ति या परिवार से नहीं है। मैं कॉन्ग्रेस में गाँधी-नेहरूवादी आदर्शवादी (कॉन्ग्रेस के भीतर लुप्त होती नस्ल) बना हुआ हूँ। मैं उन मुद्दों को उठाता रहूँगा, जो मेरी पार्टी के पुनरुत्थान के लिए मूलभूत हैं। लड़ाई अभी शुरू हुई है।”

दरअसल, राजस्थान में जारी सियासी हलचल के बीच संजय झा ने सचिन पायलट का समर्थन किया था। इसके साथ ही उन्होंने सचिन पायलट को मुख्यमंत्री बनाने की बात भी कहीं थी। जिसके बाद महाराष्ट्र कॉन्ग्रेस के प्रमुख बालासाहेब थोरात ने झा को पार्टी विरोधी गतिविधियों और अनुशासन के उल्लंघन के लिए तत्काल प्रभाव से पार्टी से निलंबित कर दिया था। जिसके बाद झा ने अपने निलंबन को लेकर मंगलवार को प्रश्न किया था कि उन्होंने कौन सी पार्टी विरोधी गतिविधियाँ की हैं, जिनके कारण कॉन्ग्रेस ने उनके खिलाफ यह कदम उठाया?

बता दें, संजय झा ने पायलट का समर्थन देते हुए कॉन्ग्रेस को ट्वीट के जरिए सुझाव दिया था कि राजस्थान में सचिन पायलट को सीएम बना देना चाहिए। उन्‍होंने यह भी कहा था कि तीन बार सीएम रह चुके अशोक गहलोत को बड़ी जिम्मेदारी देते हुए ऐसे राज्‍यों की जिम्‍मेदारी सौंपनी चाहिए जहाँ कॉन्ग्रेस कमजोर है। साथ ही राजस्‍थान प्रदेश कॉन्ग्रेस के लिए नया अध्यक्ष नियुक्त करना चाहिए।

एक अन्य ट्वीट में संजय झा ने लिखा, “पहले ज्योतिरादित्य सिंधिया, अब सचिन पायलट, अगला कौन?” जिसके बाद कॉन्ग्रेस ने उन्हें निलंबित कर दिया। महाराष्ट्र कॉन्ग्रेस प्रमुख बाला साहेब थोराट ने कहा है कि झा पर पार्टी विरोधी गतिविधियों और अनुशासन तोड़ने के कारण कार्रवाई की गई है।

गौरतलब है इससे पहले जून में उनको AICC प्रवक्ता के पद से भी हटाया गया था। उस वक्त संजय झा ने एक न्यूज वेबसाइट को दिए इंटरव्यू में कॉन्ग्रेस पार्टी की कार्यशैली पर सवाल खड़ा किया था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,137FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe