Wednesday, May 22, 2024
Homeराजनीतिखाड़ी देशों में कमाने गए भारतीय मुस्लिम नहीं लौट पाएँगे: CAA को लेकर पवार...

खाड़ी देशों में कमाने गए भारतीय मुस्लिम नहीं लौट पाएँगे: CAA को लेकर पवार का झूठ, मीडिया चुप

शरद पवार ने दावा किया कि सीएए के तहत हिन्दुओं, सिखों, ईसाईयों, बौद्ध और जैन के वापस आने का प्रावधान तो है लेकिन अरब देशों में कमाने गए मुस्लिम कैसे वापस लौटेंगे क्योंकि उनके बारे में कुछ लिखा ही नहीं हुआ है। उन्होंने दावा किया कि मुस्लिम समुदाय को जबरन इस सूची से बाहर रखा गया है।

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री शरद पवार ने सीएए का विरोध करने के लिए ऐसा झूठ बोला है, जो बताता है कि या तो उन्होंने वो क़ानूनी संशोधन पढ़ा ही नहीं है या फिर पढ़ कर भी जानबूझ कर लोगों को भ्रमित कर रहे हैं क्योंकि उन्हें पता है कि मीडिया उनका झूठ पकड़ने के बावजूद उनकी आलोचना नहीं करेगा या जनता के सामने लेकर नहीं जाएगा। शरद पवार ने झूठ बोला है और फैक्ट-चेक का दावा करने वाले तमाम मीडिया संस्थानों ने उस ओर से आँख मूँद लिया है। सीएए को लेकर पवार ने पूछा है कि खाड़ी देशों में कमाने गए भारतीय मुस्लिम वापस कैसे आएँगे?

एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार ने बात अपनी पार्टी के दफ्तर में कही। दो पूर्व विधायकों हरिभाऊ बधे व अर्जुन सलगर ने रविवार (मार्च 8, 2020) को एनसीपी का दामन थामा। इस अवसर पर पवार ने कहा कि ये दोनों पिछड़े समुदायों के उत्थान के लिए लगातार प्रयासरत हैं। पवार ने इस मौके का इस्तेमाल राष्ट्रीय मुद्दों पर बात करने के लिए किया और कहा कि देश आज कई समस्याओं से जूझ रहा है। बकौल पवार, आज समाजिक एकता ख़तरे में है और इसे बरक़रार रखना एक चुनौती है, जो चिंता का विषय बनता जा रहा है।

साथ ही पूर्व केंद्रीय मंत्री ये आरोप लगाने से भी नहीं चूके कि केंद्र सरकार अपनी सारी शक्तियों का इस्तेमाल एक ख़ास अल्पसंख्यक तबके को निशाना बनाने के लिए कर रही है। पवार का मानना है कि देश के मुस्लिमों से ये साबित करने को कहा जा रहा है कि वो इस देश के नागरिक हैं या नहीं? इसी दौरान पवार झूठ बोल गए। उन्होंने कहा कि भारत के कई लोग अरब देशों में रहते हैं, वहाँ कमाने जाते हैं। रुपए कमा कर वो वापस आ जाते हैं, सदा के लिए वहाँ नहीं रहते।

शरद पवार ने दावा किया कि सीएए के तहत हिन्दुओं, सिखों, ईसाईयों, बौद्ध और जैन के वापस आने का प्रावधान तो है लेकिन अरब देशों में कमाने गए मुस्लिम कैसे वापस लौटेंगे क्योंकि उनके बारे में कुछ लिखा ही नहीं हुआ है। उन्होंने दावा किया कि मुस्लिम समुदाय को जबरन इस सूची से बाहर रखा गया है। जबकि सीएए शरणार्थियों के लिए है, इसका भारतीय नागरिकों से कोई लेना-देना नहीं। ऐसे में जो पहले से भारतीय नागरिक हैं, पवार उन्हें सीएए का डर दिखा रहे हैं।

आश्चर्य तो इस बात का कि शरद पवार के इस झूठ का मीडिया ने भी पर्दाफाश नहीं किया। पवार ने झूठ बोल कर सीएए का डर दिखाया लेकिन लिबरल गिरोह भी कुछ नहीं बोल रहा। जैसा कि ट्रेंड रहा है, मीडिया पवार के इस बयान को छिपाने में लगा हुआ है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

SRH और KKR के मैच को दहलाने की थी साजिश… आतंकियों ने 38 बार की थी भारत की यात्रा, श्रीलंका में खाई फिदायीन हमले...

चेन्नई से ये चारों आतंकी इंडिगो एयरलाइंस की फ्लाइट से आए थे। इन चारों के टिकट एक ही PNR पर थे। यात्रियों की लिस्ट चेक की गई तो...

पश्चिम बंगाल में 2010 के बाद जारी हुए हैं जितने भी OBC सर्टिफिकेट, सभी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने कर दिया रद्द : ममता...

कलकत्ता हाई कोर्ट ने बुधवार 22 मई 2024 को पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार को बड़ा झटका दिया। हाईकोर्ट ने 2010 के बाद से अब तक जारी किए गए करीब 5 लाख ओबीसी सर्टिफिकेट रद्द कर दिए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -