Tuesday, October 19, 2021
Homeराजनीतितिरंगा लहराने वाले शख्स के साथ नजर आईं शशि थरूर की पुरानी तस्वीरें, बचाव...

तिरंगा लहराने वाले शख्स के साथ नजर आईं शशि थरूर की पुरानी तस्वीरें, बचाव में कहा- भटके हुए समर्थकों के लिए मैं जिम्मेदार नहीं

स्क्रीनशॉट में देखा जा सकता है कि ट्रंप समर्थक जेवियर विन्सेंट कॉन्ग्रेस नेता शशि थरूर की जीत पर ख़ुशी जाहिर कर चुके हैं और अप्रैल, 2015 में वॉशिंगटन में उनके निमंत्रण पर थरूर ने उनके साथ डिनर भी किया था।

अमेरिकी कैपिटॉल हिल (US Capitol) में बुधवार (जनवरी 06, 2021) को हुए हंगामे के बीच भारतीय तिरंगा चर्चा का विषय बन गया। शुरुआत में जब यह तस्वीरें सामने आईं तो लोगों ने अपने-अपने अनुसार इसे लेकर प्रतिक्रियाएँ दीं। कुछ मजहबी ‘फैक्ट चेकर्स’ ने तो उसे ‘भक्त’ भी घोषित कर दिया। तिरंगे को लेकर ‘ज्ञान’ देने वालों में से एक कॉन्ग्रेस नेता शशि थरूर भी थे, लेकिन उन्होंने शायद ही सोचा होगा कि जिसकी वो निंदा कर रहे हैं, वो वही ज़ेवियर विन्सेंट (Vincent Xavier) है, जो उनका ही एक प्रशंसक है और शशि थरूर उसके साथ डिनर भी कर चुके हैं।

अमेरिकी संसद में जब ‘इलेक्टोरल कॉलेज वोट’ की गिनती हो रही थी, उसी दौरान हुए इस हंगामे की तस्वीरों के बीच तिरंगा नजर आने पर इस पर सवाल उठाने वालों में से ही एक भाजपा नेता वरुण गाँधी भी थे। भाजपा नेता ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा, “भारतीय ध्वज वहाँ क्यों है? यह एक ऐसी लड़ाई है, जिसमें हमें निश्चित रूप से भाग लेने की आवश्यकता नहीं है।”

वरुण गाँधी के इस ट्वीट पर ‘ज्ञान’ देने उतरे कई लोगों में से एक कॉन्ग्रेस नेता शशि थरूर भी थे। शशि थरूर ने वरुण गाँधी का ट्वीट शेयर करते हुए लिखा, “कुछ भारतीय भी डोनाल्ड ट्रंप के समर्थकों की मानसिकता वाले हैं, जो तिरंगे को सम्मान की बजाय एक हथियार की तरह इस्तेमाल करते हैं और जो उनसे मेल नहीं खाता है, उसे एंटी-नेशनल करार देते हैं। वहाँ पर दिख रहा वो झंडा हम सभी के लिए चेतावनी है।”

कॉन्ग्रेस सांसद शशि थरूर के इस ट्वीट पर वरुण गाँधी ने जवाब देते हुए लिखा, “अपनी शान दिखाने के लिए तिरंगा लहराने वाले लोगों का मजाक उड़ाना आजकल आसान हो गया है। साथ ही, गलत मकसद के लिए भी तिरंगा लहराना आसान हो गया है। दुर्भाग्यवश कई लिबरल भारत में भी एंटी-नेशनल प्रदर्शन (JNU जैसे) में भी तिरंगे के गलत इस्तेमाल की चेतावनी को नजरअंदाज करते आए हैं। तिरंगा हमारे लिए गर्व का चिन्ह है, ऐसे में हम इसका सम्मान बिना किसी ‘मानसिकता’ के करते हैं।”

इस बीच, शुक्रवार (जनवरी 08, 2021) की सुबह तक ट्रम्प के समर्थन में हिंसा करने वालों के बीच तिरंगा लहराने वाले इस व्यक्ति की पहचान भी सामने आ गई। जेवियर विन्सेंट नाम के इस शख्स की पहचान और तस्वीरें जब सामने आईं तो पता चला कि वो शशि थरूर के साथ डिनर भी कर चुका है।

ये स्क्रीनशॉट वास्तव में विन्सन जेवियर पलाथिंगल नाम के व्यक्ति के सोशल मीडिया अकाउंट से लिए गए हैं। कुछ स्क्रीनशॉट में देखा जा सकता है कि ट्रंप समर्थक जेवियर विन्सेंट कॉन्ग्रेस नेता शशि थरूर की जीत पर ख़ुशी जाहिर कर चुके हैं और अप्रैल, 2015 में वॉशिंगटन में उनके निमंत्रण पर थरूर ने उनके साथ डिनर भी किया था।

भाजपा नेता वरुण गाँधी ने इन तस्वीरों को ट्वीट करते हुए शशि थरूर को अपने जवाब में लिखा, “प्रिय शशि थरूर, अब जबकि हम जानते हैं कि ये पागल तुम्हारा इतना प्रिय मित्र था, तो कोई केवल यही उम्मीद कर सकता है कि इस तबाही के पीछे तुम और तुम्हारे सहयोगी ही पीछे से जिम्मेदार नहीं थे।”

इन स्क्रीनशॉट्स के सामने आने पर गोलपोस्ट शिफ्ट करते हुए थरूर ने वरुण गाँधी को एक और ट्वीट में जवाब देते हुए लिखा, “इसे पूरी तरह से अस्वीकार करता हूँ। क्या आप हर शुभचिंतक के ‘भटके हुए’ कार्यों के लिए खुद को जिम्मेदार मानते हैं? मैं अपने देश के प्रिय झंडे को शर्मनाक अमेरिकी भीड़ के बीच लाने के किसी भी प्रयास की निंदा करता हूँ।”

विन्सेंट जेवियर के सोशल मीडिया अकाउंट तलाश करने पर लोगों ने पाया कि वह अमेरिका का नागरिक है और कम से कम 2008 से ही अमेरिकी चुनावों में मतदात करते आ रहे हैं।

ट्रंप के समर्थकों की भीड़ में यूएस कॉन्ग्रेस के बाहर तिरंगा लहराने वाले विन्सेंट ने अपने ट्विटर अकाउंट पर इसकी तस्वीरें भी शेयर की हैं। हालाँकि, यह कह देना कि ट्रंप समर्थक होने के साथ-साथ विंसेंट जेवियर भी दंगाइयों में से एक थे, जल्दबाजी होगी। इसके इतर, एक नागरिक होने के नाते, किसी भी राजनीतिक दल के साथ सहमती या असहमति व्यक्त करना उनका निजी अधिकार है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

धर्मांतरण कराने आए ईसाई समूह को ग्रामीणों ने बंधक बनाया, छत्तीसगढ़ की गवर्नर का CM को पत्र- जबरन धर्म परिवर्तन पर हो एक्शन

छत्तीसगढ़ के दुर्ग में ग्रामीणों ने ईसाई समुदाय के 45 से ज्यादा लोगों को बंधक बना लिया। यह समूह देर रात धर्मांतरण कराने के इरादे से पहुँचा था।

सूरत में मंदिरों-घर की छत पर लाउडस्पीकर, सुबह-शाम हनुमान चालीसा; शनिवार को सत्संग भी: धर्म के लिए हिंदू हुए लामबंद

सूरत में आठ महीने पहले लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा की हुई शुरुआत ने कैसे हिंदुओं को जोड़ा, इसका संदेश कितना गहरा हुआ, पढ़िए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,980FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe