Wednesday, September 22, 2021
Homeराजनीतिमाँ बगलामुखी की शरण में कमलनाथ सरकार, 'शत्रु विनाशक यज्ञ' से दूर कर रहे...

माँ बगलामुखी की शरण में कमलनाथ सरकार, ‘शत्रु विनाशक यज्ञ’ से दूर कर रहे राजनीतिक संकट

हवन नलखेड़ा के देवी बगलामुखी के मंदिर में किया गया। हिन्दू धर्म में बगलामुखी देवी को शत्रुओं के दमन और उन पर विजय की कामना के लिए पूजने की मान्यता है।

मध्य प्रदेश में कॉन्ग्रेस के भीतर चल रहे उठापटक ने वहाँ के मुख्यमंत्री कमलनाथ को धार्मिक बना दिया है। ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाजपा से जुड़ने के बाद कमलनाथ ने एक अनोखे अनुष्ठान का रास्ता अपनाया है। ऐसे में मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार के कैबिनेट मंत्री पीसी शर्मा ने शनिवार (मार्च 14, 2020) को देवी की शरण में जाकर उन्हें अनुष्ठान करके मनाने की कोशिश की। उन्होंने आगर मालवा जिले के नलखेड़ा में विशेष किस्म का ‘शत्रु विनाशक हवन’ किया।

कॉन्ग्रेस नेता पीसी शर्मा ने एक न्यूज चैनल से बातचीत में कहा, “मैं धार्मिक मामलों और आध्यात्मिक विभाग का मंत्री भी हूँ, इसलिए मैं भक्त कल्याण के लिए विभिन्न सरकारी कार्यों का जायजा लेने आया था। हम माँ बगलामुखी मंदिर में हैं, इसलिए हमारी सरकार को कोई खतरा नहीं है। कॉन्ग्रेस के और सहयोगी दलों को मिलाकर 121 विधायक हमारे साथ हैं। जब विधानसभा में फ्लोर टेस्ट होगा तो हम देखेंगे कि चार-पाँच अतिरिक्त विधायक हमारा समर्थन करें।”

यह हवन नलखेड़ा के देवी बगलामुखी के मंदिर में किया गया। हिन्दू धर्म में बगलामुखी देवी को शत्रुओं के दमन और उन पर विजय की कामना के लिए पूजने की मान्यता है। दरअसल, राज्य में कॉन्ग्रेस दल के 22 विधायकों के इस्तीफे के साथ ही खलबली मच गई है।

ज्योतिरादित्य सिंधिया के कॉन्ग्रेस को अलविदा कहने, बीजेपी में शामिल होने और उनके समर्थक मंत्रियों, विधायकों के भी सरकार का साथ छोड़ते हुए इस्तीफे देने से मध्य प्रदेश सरकार पर सियासी संकट के बादल मंडरा रहे हैं। इसके लिए सरकार को संकट से उबारने के लिए मंत्री गण अपने-अपने तरीके से प्रयास कर रहे हैं।

मध्य प्रदेश का सियासी संकट लगातार जोर पकड़ रहा है। राज्यपाल लालजी टंडन ने फ्लोर टेस्ट के आदेश दे दिए हैं। विधानसभा का बजट सत्र शुरू होने से पहले फ्लोर टेस्ट कराया जाएगा, जिसके लिए बीजेपी और कॉन्ग्रेस अपनी ताकत झोंकने के लिए तैयार है। कॉन्ग्रेस ने अपने विधायकों को जयपुर से वापस बुला लिया है और सीएम कमलनाथ कैबिनेट की बैठक कर रहे हैं। यही नहीं, दिल्ली में बीजेपी आलाकमान की बैठक भी जारी है, जिसमें ज्योतिरादित्य सिंधिया भी हिस्सा ले रहे हैं।

फिलहाल ज्योतिरादित्य सिंधिया दल के इस्तीफा दे चुके कॉन्ग्रेस के 22 बागी विधायकों में से भी ज्यादातर बेंगलुरु में ठहरे हुए हैं। विधानसभा अध्यक्ष ने इन 22 विधायकों में से छह के त्यागपत्र शनिवार देर शाम को मंजूर कर लिए थे, जबकि 16 विधायकों के त्यागपत्र पर फिलहाल कोई निर्णय नहीं लिया है।

मेरे विधायकों को छुड़ा दीजिए, उन्हें बंदी बनाया गया है: सरकार बचाने के लिए शाह की शरण में CM कमलनाथ

‘आपकी सरकार अल्पमत में, 16 मार्च को विश्वासमत हासिल करें और संपूर्ण प्रक्रिया की वीडियोग्राफी भी कराएँ’

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जो कौम अपने इतिहास व परंपराओं को भूला देती है, वह अपने भूगोल की भी रक्षा नहीं कर पाती’: दादरी में CM योगी

सीएम ने कहा, "राजा मिहिर भोज नौंवी सदी के एक महान धर्मरक्षक थे। जो कौम अपने इतिहास व परंपराओं को विस्मृत कर देती है, वह अपने भूगोल की भी रक्षा नहीं कर पाती।''

‘साड़ी स्मार्ट ड्रेस नहीं’- दिल्ली के अकीला रेस्टोरेंट ने महिला को रोका: ‘ओछी मानसिकता’ पर भड़के लोग, वीडियो वायरल

अकीला रेस्टोरेंट के स्टाफ ने महिला से कहा कि चूँकि साड़ी स्मार्ट आउटफिट नहीं है इसलिए वो उसे पहनने वाले लोगों को अंदर आने की अनुमति नहीं देते।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,748FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe