Thursday, June 30, 2022
Homeराजनीतिकश्मीर में हिंदुओं का टारगेट किलिंग: आरफा-अय्यूब जैसे लेफ्ट-लिबरल की निगाह में फिल्म सहित...

कश्मीर में हिंदुओं का टारगेट किलिंग: आरफा-अय्यूब जैसे लेफ्ट-लिबरल की निगाह में फिल्म सहित सभी दोषी, इस्लामी आतंकवाद पर चुप्पी

विवादास्पद पत्रकार और चंदा-धोखाधड़ी के आरोपी राना अय्यूब भी मुस्लिम बहुल कश्मीर में अल्पसंख्यक हिंदुओं की मौजूदा दुर्दशा के लिए इस्लामी आतंकवाद को जिम्मेदार नहीं ठहराया। कश्मीर में टारगेट किलिंग के लिए उन्होंने पूरे देश को जिम्मेदार ठहरा दिया।

जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) में आतंकवाद के नए रूप टारगेट किलिंग (Target Killings) के जरिए हिंदुओं को लगातार निशाना बनाया जा रहा है। अभी तक की हत्याओं में कई ऐसे लोगों की इस्लामी आतंकियों ने हत्या की जो स्थानीय नहीं थे। आधिकारिक आँकड़ों के अनुसार, टारगेट किलिंग में अब 16 से अधिक लोग मारे जा चुके हैं। इनमें पुलिसकर्मी से लेकर सरपंच और मजदूर तक शामिल हैं।

घाटी में लगातार हमले झेल रहा हिंदू समुदाय अब वहाँ रहने के अपने फैसले पर फिर से विचार कर रहा है। हालाँकि, सरकार आतंकियों के सफाए के अभियान को लगातार जारी रखी है, लेकिन इस समुदाय में लगातार हो रही हत्याओं से डर कम होने का नाम नहीं ले रहा है। इस्लामी आतंकियों ने हिंदुओं पर हमलों को चेतावनी पहले ही दे रखी है।

खुफिया एजेंसियों द्वारा किए गए सुरक्षा आकलन में आने वाले दिनों में टारगेट किलिंग में वृद्धि की आशंका जताई गई है। वर्तमान समय 1990 की दशक की याद दिला रहा है, जब कश्मीरी हिंदुओं पर हमले कर उन्हें घाटी छोड़ने के लिए मजबूर कर दिया गया था। उस दौरान लाखों हिंदू घाटी से पलायन कर गए थे।

हालाँकि, घाटी की वर्तमान स्थिति ने कुछ राजनीतिक दलों के नया अवसर पैदा कर दिया है। ये लोग कश्मीर में हिंदुओं के खिलाफ हो रहे हमलों को अपने राजनीतिक एजेंडा के लिए कर रहे हैं और आतंकियों को दोष देने के बजाए राजनीतिक रोटी सेंकने में लगे हैं।

वामपंथी प्रोपगेंडा शुरू

प्रोपगेंडा वेब पोर्टल ‘द वायर’ की पत्रकार और घोर वामपंथी आरफा खानुम शेरवानी ने हिंदुओं के पलायन पर हाल ही में पोस्ट किया। इस पोस्ट में उन्होंने पलायन के लिए सभी को जिम्मेवार ठहरा दिया, लेकिन इस्लामी चरमपंथियों को लेकर एक शब्द भी नहीं कहा। इस पलायन के लिए आरफा ने ‘कश्मीर फाइल्स’ फिल्म और इसके निर्माताओं को दोषी ठहराया।

आरफा खानुम शरेवानी का ट्वीट

आरफा की सहयोगी वामपंथी पत्रकार रोहिणी सिंह ने इस पलायन का मजाक उड़ाया।

रोहिणी सिंह का ट्वीट

विवादास्पद पत्रकार और चंदा-धोखाधड़ी के आरोपी राना अय्यूब भी मुस्लिम बहुल कश्मीर में अल्पसंख्यक हिंदुओं की मौजूदा दुर्दशा के लिए इस्लामी आतंकवाद को जिम्मेदार नहीं ठहराया। कश्मीर में टारगेट किलिंग के लिए उन्होंने पूरे देश को जिम्मेदार ठहरा दिया।

राना अय्यूब का ट्वीट

तीन दशकों से इस्लामी आतंकवाद की मार झेल रहे कश्मीरी हिंदू की समस्याओं के लिए इन वामपंथियों ने ‘द कश्मीर फाइल्स’ को चालाकी के साथ दोषी ठहरा दिया। इसका दोष प्रशासन पर डाल दिया और आतंकवाद को पूरी तरह से खारिज कर दिया। यह इस्लामी आतंकवाद के कुकर्मों का ढँकने के प्रयास के अलावा और कुछ नहीं है।

इस्लामी सर्वोच्चता के नशे में धुत आतंकवादियों और जिहादियों द्वारा हिंदुओं को घाटी छोड़ने की धमकी पर इन लोगों ने कभी कुछ खुलकर नहीं कहा। ये एक तरह से इस्लामी आतंकियों को वैचारिक कवच देने का काम करते हैं। उनके इस तरह के बयान यही कवच देने का काम करता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना’: राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ शरद पवार भी खा गए गच्चा, कहा- उम्मीद थी वो...

शरद पवार ने कहा कि किसी को भी इस बात की कल्पना नहीं थी कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का सीएम बना दिया जाएगा।

आँखों के सामने बच्चों को खोने के बाद राजनीति से मोहभंग, RSS से लगाव: ऑटो चलाने से महाराष्ट्र के CM बनने तक शिंदे का...

साल में 2000 में दो बच्चों की मौत के बाद एकनाथ शिंदे का राजनीति से मोहभंग हुआ। बाद में आनंद दिघे उन्हें वापस राजनीति में लाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,188FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe