Monday, November 29, 2021
Homeराजनीति'सरदार पटेल की जिन्ना से थी साँठ-गाँठ': सोनिया-राहुल की बैठक में कश्मीरी नेता का...

‘सरदार पटेल की जिन्ना से थी साँठ-गाँठ’: सोनिया-राहुल की बैठक में कश्मीरी नेता का बयान, BJP ने बताया ‘लौह पुरुष’ का अपमान

"नेहरू-गाँधी 'राजवंश' को ऊपर रखने के लिए, चाहे सुभाष चंद्र बोस हो, वीर सावरकर हो, सरदार पटेल हो किसी को भी अपमानित करना हो, किसी के नाम पर भ्रम फैलाना हो कॉन्ग्रेस पार्टी सब कर सकती है।"

जम्मू कश्मीर की राजधानी श्रीनगर के सांसद रहे तारिक हमीद कारा पर कॉन्ग्रेस पार्टी की बैठक में सरदार वल्लभभाई पटेल पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने का आरोप लगा है। आरोप है कि ‘सेन्ट्रल वर्किंग कमिटी (CWC)’ की बैठक में उन्होंने ये टिप्पणी की, जिसकी अध्यक्षता सोनिया गाँधी खुद कर रही रहीं। उन्होंने कहा कि सरदार पटेल ने मोहम्मद अली जिन्ना के साथ साँठ-गाँठ कर, जम्मू-कश्मीर को भारत से अलग रखने का पूरा प्रयास किया था। 

तारिक हमीद कारा जम्मू कश्मीर में पाकिस्तान की करेंसी को मान्यता देने के भी समर्थक रहे हैं। उन्होंने दावा किया कि भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने ही जम्मू कश्मीर को भारत के साथ जोड़ा है। बैठक में जब उन्होंने ऐसा बया दिया, तब सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी भी वहाँ मौजदू थे। तारिक हमीद कारा ने कहा कि अगर सरदार पटेल का बस चलता तो जम्मू कश्मीर आज भारत नहीं, पाकिस्तान में होता।

तारिक हमीद कारा अब भी अपने बयान पर अड़े हुए हैं और उन्होंने कहा है कि उनका बयान तथ्यों पर आधारित है। भाजपा ने कॉन्ग्रेस पर इस मामले में हमला बोला है और कॉन्ग्रेस बचाव की मुद्रा में है। तारिक हमीद कारा पहले से ही जम्मू कश्मीर के ‘अलग शासन’ की माँग करते रहे हैं और सत्ता में रहते भी उन पर वहाँ के मुस्लिमों पर मेहरबानी के आरोप हैं। उन्होंने मुफ़्ती मोहम्मद सईद के साथ मिल कर PDP का गठन किया था।

भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने इस मामले में कॉन्ग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा, “आज अखबारों में छपा है कि 2 दिन पहले हुई CWC की बैठक में कश्मीर को लेकर कुछ सवाल उठे थे। बैठक में कश्मीर को लेकर भ्रम का माहौल बनाया गया। ये भी कहा गया कि जवाहर लाल नेहरू ने जम्मू कश्मीर को हिंदुस्तान में इंटीग्रेट किया। ये भी कहा गया कि इस पूरे प्रयोजन में सरदार पटेल जिन्ना से मिले हुए थे और जिन्ना के साथ मिलकर कश्मीर को हिंदुस्तान से अलग रखने की कोशिश पटेल कर रहे थे।”

संबित पात्रा ने कहा कि आज ये बात स्पष्ट हो गई है कि अपने परिवार की विरासत को ऊपर रखने के लिए नेहरू-गाँधी ‘राजवंश’ को ऊपर रखने के लिए, चाहे सुभाष चंद्र बोस हो, वीर सावरकर हो, सरदार पटेल हो किसी को भी अपमानित करना हो, किसी के नाम पर भ्रम फैलाना हो कॉन्ग्रेस पार्टी सब कर सकती है। उन्होंने कहा कि कॉन्ग्रेस एक परिवार की पार्टी है और चाटुकारिता को पराकाष्ठा बनाए रखना ही उसका ध्येय है।

तारिक हमीद कारा के बारे में बता दें कि 2002 में तत्कालीन मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद ने उन्हें पहले जम्मू कश्मीर विधान परिषद का सदस्य बनाया और उसके बाद बटमालू विधानसभा क्षेत्र के विधायक गुलाम मोहियुद्दीन शाह के निधन पर हुए उपचुनाव में वो विधायक बने। इसके बाद उन्हें जम्मू कश्मीर राज्य में उन्होने वित्त, आवास एवं शहरी विकास विभाग और वन जैसे महत्वपूर्ण मंत्रालय संभाले। 2014 के लोकसभा चुनाव में उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री फारुख अब्दुल्लाह को हराया था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जिनके घर शीशे के होते हैं, वे दूसरों पर पत्थर नहीं फेंका करते’: केजरीवाल के चुनावी वादों पर बरसे सिद्धू, दागे कई सवाल

''अपने 2015 के घोषणापत्र में 'आप' ने दिल्ली में 8 लाख नई नौकरियों और 20 नए कॉलेजों का वादा किया था। नौकरियाँ और कॉलेज कहाँ हैं?"

‘शरजील इमाम ने किसी को भी हथियार उठाने या हिंसा करने के लिए नहीं कहा, वो पहले ही 14 महीने से जेल में’: इलाहाबाद...

इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने अपनी टिप्पणी में कहा कि शरजील इमाम ने किसी को भी हथियार उठाने या हिंसा करने के लिए नहीं कहा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,506FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe