Monday, August 2, 2021
Homeराजनीतित्रिपुरा कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष ने दिया इस्तीफा, कहा- अरसे बाद अपराधी या झूठों की...

त्रिपुरा कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष ने दिया इस्तीफा, कहा- अरसे बाद अपराधी या झूठों की नहीं सुनी

"अरसे बाद मैं बेहद सुकून महसूस कर रहा हूॅं। आज मुझे गुटबाजी या कहासुनी में पड़ने की जरूरत नहीं है। ना ही भ्रष्ट लोगों को ऊँचे पदों पर बैठाने का आलाकमान का हुक्म सुनना पड़ा है।"

त्रिपुरा कॉन्ग्रेस के प्रमुख प्रद्योत देब बर्मन ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने पार्टी पर कई गंभीर आरोप भी लगाए हैं। पार्टी की ‘हाई कमांड’ संस्कृति पर निशाना साधा है। साथ ही पार्टी में जारी गुटबाजी और आंतरिक कलह का भी जिक्र किया है।

ट्वीट कर उन्होंने अपने इस्तीफे की जानकारी दी। उन्होंने लिखा, “अरसे बाद मैं बेहद सुकून महसूस कर रहा हूॅं। आज काफी दिन बाद बिना किसी अपराधी या झूठे लोगों को सुने बिना दिन की शुरुआत हुई है। आज मुझे गुटबाजी या कहासुनी में पड़ने की जरूरत नहीं है। ना ही भ्रष्ट लोगों को ऊंचे पदों पर बैठाने का आलाकमान का हुक्म सुनना पड़ा है।”

प्रद्योत ने आगे लिखा, “आज जब मैं सोकर उठा तो अहसास हुआ कि समाज के गलत तत्वों को राज्य को बर्बाद करने वाले ओहदों तक पहुँचने से रोकने के कारण मेरे जीवन और स्वास्थ्य पर नकारात्मक असर पड़ रहा था। मैं लड़ा, और शायद हार गया, लेकिन मैं जीत ही कहाँ सकता था जब मैं लड़ाई में शुरू से ही अकेला था? मैंने तय कर लिया है कि मुझे सकारात्मक नजरिए की ज़रूरत है और मैंने अपने आस-पास से नकारात्मक लोगों को बदल दिया है।”

अपने बयान का अंत प्रद्योत कुछ इस प्रकार करते हैं, “आज मैं अपने राज्य में योगदान साफ और ईमानदार मन से कर सकता हूँ। मेरे अंदर का बुबागरा (त्रिपुरा के एक पवित्र देवता) किसी भी राजनीतिक ओहदे से अधिक शक्तिशाली है।”

पहले भी दी थी धमकी, NRC से जुड़ा मामला

प्रद्योत ने पहले भी इस्तीफे की चेतावनी दी थी। उनका आरोप था कि प्रदेश के वरिष्ठ कॉन्ग्रेस नेता लुइज़िन्हो फलैरो उन पर सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका वापस लेने का दबाव बना रहे हैं। प्रद्योत ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर असम की तरह NRC जैसी नागरिकता-सूची बनाए जाने की माँग की थी। प्रद्योत ने इसमें कॉन्ग्रेस छोड़ कर भाजपा में शामिल हुए एक विधायक की भी भूमिका का आरोप लगाया था। प्रद्योत ने किसी और पार्टी में शामिल होने की संभावना से भी इनकार किया है। इस बीच, राज्य कॉन्ग्रेस के प्रवक्ता हरेकृष्ण भौमिक ने प्रद्योत के इस्तीफ़े की जानकारी होने से ही इनकार किया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

‘दविंदर सिंह के विरुद्ध जाँच की जरूरत नहीं…मोदी सरकार क्या छिपा रही’: सोशल मीडिया में किए जा रहे दावों में कितनी सच्चाई

केंद्र सरकार के ख़िलाफ़ कई कॉन्ग्रेसियों, पत्रकारों, बुद्धिजीवियों ने सोशल मीडिया पर दावा किया। लेकिन इनमें से किसी ने एक बार भी नहीं सोचा कि अनुच्छेद 311 क्या है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,620FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe