Sunday, October 17, 2021
Homeराजनीतित्रिपुरा कॉन्ग्रेस अध्यक्ष पर हमले में पार्टी के ही अल्पसंख्यक सेल का प्रमुख हुसैन...

त्रिपुरा कॉन्ग्रेस अध्यक्ष पर हमले में पार्टी के ही अल्पसंख्यक सेल का प्रमुख हुसैन गिरफ्तार

कॉन्ग्रेस अध्यक्ष पर हमले के लिए मीडिया बीजेपी को कसूरवार ठहरा रही थी। अब पार्टी के ही एक वरिष्ठ नेता की गिरफ्तारी ने मीडिया के पक्षपाती रवैए की भी पोल खोलकर रख दी है।

त्रिपुरा कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष पीयूष कांति बिस्वास पर रविवार को सिपाहीजला जिले के बिसालघर में हमला हुआ था। हमले में उन्हें हल्की चोटें आई थी। इस मामले में पुलिस ने राज्य के एक वरिष्ठ कॉन्ग्रेस नेता को गिरफ्तार किया है। इस घटना के लिए भाजपा कार्यकर्ताओं को दोषी ठहराया जा रहा था।

हमले के विरोध में कॉन्ग्रेस ने सोमवार को 12 घंटे के हड़ताल का आह्वान किया था। हालाँकि, मामले की जाँच कर रही पुलिस ने अब पार्टी के अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रमुख जॉयदुल हुसैन को घटना के संबंध में गिरफ्तार किया है।

बिस्वास पर हुए हमले के बाद मीडिया भाजपा को दोषी ठहराने में इतनी जल्दीबाजी में थी कि उसने किसी प्रकार की रिपोर्ट या जाँच-पड़ताल को भी जरूरी नहीं समझा। मीडिया द्वारा हमले के लिए भाजपा को जिम्मेदार ठहरा दिया गया। फिलहाल यह स्पष्ट नहीं है कि वे इस निष्कर्ष पर कैसे पहुँचे।

टाइम्स नाउ ने 17 जनवरी को भाजपा को दोषी ठहराते हुए हेडलाइन के साथ एक रिपोर्ट प्रकाशित की, “बीजेपी कार्यकर्ताओं ने त्रिपुरा कॉन्ग्रेस के प्रमुख पीयूष कांति बिस्वास के वाहन पर कथित तौर पर हमला किया।”

टाइम्स नाउ की रिपोर्ट

फिर इस मामले में NDTV कहां पीछे रहने वाला था। NDTV ने भी इस पर एक रिपोर्ट प्रकाशित की जिसमें कहा गया था कि “त्रिपुरा कॉन्ग्रेस प्रमुख पर ‘कथित रूप से’ भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा हमला किया गया।” रिपोर्ट में पीटीआई से इनपुट लिए गए थे।

मामले में एनडीटीवी की रिपोर्ट

India.com ने इस मामले पर एक रिपोर्ट प्रकाशित की, जिसमें कहा गया था, “त्रिपुरा के कॉन्ग्रेस अध्यक्ष पीयूष कांति बिस्वास के वाहन पर रविवार सुबह त्रिपुरा के सिपाहीजला जिले के बिशालगढ़ क्षेत्र में हमला हुआ। जिसमें उन्हें मामूली चोटें आई है। कॉन्ग्रेस ने आरोप लगाया कि भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा यह हमला किया गया, जिसके विरोध में उन्होंने सोमवार को 12 घंटे के राज्यव्यापी बंद का आह्वान किया।”

इंडिया.कॉम द्वारा प्रकाशित रिपोर्ट

यह बात गौर करने वाली है कि मीडिया आउटलेट्स ने जिस आधार पर यह दावे किए उसका अभी तक कोई अता-पता नहीं है। संभव है कि वे अपने व्यक्तिगत पक्षपात के कारण हमले के लिए भाजपा कार्यकर्ताओं को दोष मढ़ने के लिए मजबूर थे।

त्रिपुरा में कॉन्ग्रेस पार्टी के पूर्व प्रमुख और पूर्ववर्ती शाही परिवार के प्रमुख प्रद्योत माणिक्य (Pradyot Manikya) ने कहा है कि उन्हें इस बात से कोई आश्चर्य नहीं है कि राज्य कॉन्ग्रेस प्रमुख पर जॉयदुल हुसैन द्वारा हमला किया गया था।

उन्होंने कहा, “त्रिपुरा कॉन्ग्रेस अध्यक्ष पर हुए हमले में शामिल अपराधियों में से एक को गिरफ्तार कर लिया गया है और मुझे किसी प्रकार की हैरानी नहीं हुई है कि आरोपित कॉन्ग्रेस पार्टी के राज्य महासचिव/अल्पसंख्यक सेल का अध्यक्ष है। जॉयदुल हुसैन को हवाई अड्डे से गिरफ्तार किया गया, जब वह राज्य से भागने की फिराक में था।”

उन्होंने अखिल भारतीय कॉन्ग्रेस कमेटी के खिलाफ गंभीर आरोप लगाए और कहा कि हुसैन को पार्टी दिए जाने पर जब उन्होंने आपत्ति जताई तो उनकी बात को खारिज कर दिया गया था। दरअसल हुसैन पर बाल तस्करी का आरोप था।

प्रद्योत माणिक्य ने कहा, “जब मैं अध्यक्ष बना तो मैंने उसे पदाधिकारी के पद से हटा दिया। लेकिन मेरे लिस्ट को कभी स्वीकार नहीं किया गया, क्योंकि AICC उसे लिस्ट में देखना चाहती थी।”

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,125FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe